ब्रेकिंग
बकरी चोरी के शक में युवक की पीट-पीटकर हत्या सफल बनने के लिए रखें इन मंत्रों का ध्यान गुरुकुल स्कूल मडरिया रही विजेता, डीएफओ ने पुरस्कार देकर किया सम्मानित Business for College Students : कॉलेज स्टूडेंट्स पढ़ाई के साथ–साथ ये शानदान बिज़नेस करें, होगी तगड़ी कमाई खुशखबरी: टाटानगर से पटना तक चलेगी तेजस एक्सप्रेस मां-बेटी-बेटे पर एसिड अटैक, 5 दिन बाद भी दर्ज नहीं हुई FIR आतंकी योग को 2 AK56, 1 पिस्टल और 1 टिफिन बम के साथ किया गिरफ्तार सरकार को दी चेतावनी, कहा- जल्द मांगें पूरी नहीं की तो करेंगे बड़ा आंदोलन जबलपुर होकर जाएगी पटना-सिकंदराबाद स्पेशल ट्रेन 27 अक्टूबर से 1070 एकड़ प्रोजेक्ट में राइट्स बढ़ाने की रखी डिमांड, IFSC-यूनिवर्सिटी का दिया प्रपोजल

डीएफओ के वाहन चालक का एएसआइ बेटा बाघ की खाल की तस्करी में शामिल

जगदलपुर।  बाघ के शिकार और उसकी खाल की तस्करी के मामले में आरोपितों से पूछताछ करने में वन विभाग के पसीने छूट रहे हैं। मामले में सात पुलिसकर्मियों के नाम उजागर हो चुके हैं जबकि सूचना यह है कि एक अधिकारी की भी इसमें भूमिका है। शुक्रवार सुबह पकड़े गए पुलिसकर्मियों ने बयान दिया है कि उनसे साहब ने किसी मामले में कार्रवाई करने के लिए जाने की बात कही थी। उन्हें तो यह पता ही नहीं था कि गाड़ी में बाघ की खाल पड़ी है। अब इसमें कौन से साहब की भूमिका है यह नहीं पता चल पा रहा है।

सूत्रों से पता चला है कि शनिवार को गिरफ्तार कर बीजापुर से यहां लाए गए पुलिस विभाग के दो सहायक उपनिरीक्षकों में एक संतोष बघेल के पिता श्याम बघेल बीजापुर डीएफओ की गाड़ी के ड्राइवर हैं। मामले में वन विभाग के कर्मचारियों की भूमिका की बात दबे सुर में बड़े अधिकारी स्वीकार भी कर रहे हैं पर किसकी क्या भूमिका है यह नहीं बताया जा रहा है।

वन विभाग ने शनिवार को पाढ़ापुर व बड़े कमेली गांवों से तीन ग्रामीणों को बाघ का शिकार करने के आरोप में गिरफ्तार किया है। उन्होंने खाल का सौदा किससे किया यह नहीं बताया जा रहा है। अधिकारी यह कहकर पल्ला झाड़ने में लगे हैं कि अभी पूछताछ की जा रही है। शुक्रवार को गिरफ्तार पांच पुलिस व दो स्वास्थ्य विभाग विभाग के कर्मचारियों को जेल भेज दिया गया है। शनिवार को गिरफ्तार तीन शिकारियों बुधरू कुंजाम, भीमा इलामी, रामलाल तामू, एक शिक्षक रामेश्वर सोनवानी व बीजापुर के दो एएसआई संतोष बघेल व रमेश अंगनपल्ली से रविवार को दिनभर पूछताछ की गई।

सभी दे रहे गोलमोल जवाब

बताया गया है कि यह सभी लोग गोलमोल जवाब ही दे रहे हैं। जांच टीम यह पता नहीं कर पाई है कि बाघ की खाल की खरीद फरोख्त का मुख्य आरोपित कौन है। शनिवार को पकड़े गए छह आरोपितों पर भी वन्य जीव संरक्षण अधिनियम की विभिन्ना धाराओं के तहत मामला दर्ज किया गया है। इन्हें सोमवार को न्यायालय में पेश किया जाएगा।

यह है मामला

गरुवार शाम को सूचना मिली थी कि कुछ लोग बाघ की खाल लेकर महाशिवरात्रि पर तांत्रिक अनुष्ठान करने के लिए घूम रहे हैं। पुलिस व वन विभाग की टीम ने रातभर घेराबंदी के बाद शुक्रवार सुबह एक वाहन से बाघ की खाल बरामद की। मौके पर पांच पुलिस वालों समेत आठ लोग गिरफ्तार किए गए। जांच में पता चला कि बैलाडीला की तराई में फंदा लगाकर बाघ का शिकार किया गया था। शनिवार को तीन शिकारियों व दो पुलिस वालों समेत छह लोग पकड़े गए। मामले की जांच अभी जारी है।