ब्रेकिंग
विधायक इन्द्र साव ने विधायक मद से लाखों के सी.सी. रोड निर्माण कार्य का किया भूमिपूजन भाटापारा में बड़ी कार्यवाही 16 बदमाशों को गिरफ़्तार किया गया है, जिसमें से 04 स्थायी वारंटी, 03 गिरफ़्तारी वारंट के साथ अवैध रूप से शराब बिक्री करने व... अवैध शराब बिक्री को लेकर विधायक ने किया नेशनल हाईवे में चक्काजाम अधिकारीयो के आश्वासन पर चक्का जाम स्थगित करीबन 1 घंटा नेशनल हाईवे रहा बाधित। भाटापारा। अवैध शराब बिक्री की जड़े बहुत मजबूत ,माह भर के भीतर विधायक को दोबारा बैठना पड़ा धरने पर , विधानसभा सत्र छोड़ अनिश्चितकालीन धरने पर बैठे हैं ... श्रीराम जन्मभूमि में नवनिर्मित भव्य मंदिर में प्राण प्रतिष्ठा के अवसर पर भाटापारा भी रामभक्ति की लहर पर जमकर झुमा शहर में दीपमाला, भजन, आतिशबाजी, भंडा... मर्यादा पुरुषोत्तम प्रभु श्री राम मंदिर अयोध्या की प्राण प्रतिष्ठा समारोह के उपलक्ष में भाटापारा में भी तीन दिवसीय आयोजन, बाइक रैली, 24 घंटे का रामनाम... छत्तीसगढ़ में कांग्रेस की करारी हार के बाद प्रभारी शैलजा कुमारी की छुट्टी राजस्थान के सचिन पायलट होंगे छत्तीसगढ़ के नए प्रभारी साय मंत्रिमंडल में कल ,ये 9 विधायक लेंगे मंत्री पद की शपथ साय मंत्रिमंडल का कल होगा विस्तार 9 मंत्री लेंगे शपथ बलौदा बाजार को भी मिलेगा पहली बार मंत्री पद छत्तीसगढ़ भाजपा के नए प्रदेश अध्यक्ष होंगे किरण सिंह देव

डीएफओ के वाहन चालक का एएसआइ बेटा बाघ की खाल की तस्करी में शामिल

जगदलपुर।  बाघ के शिकार और उसकी खाल की तस्करी के मामले में आरोपितों से पूछताछ करने में वन विभाग के पसीने छूट रहे हैं। मामले में सात पुलिसकर्मियों के नाम उजागर हो चुके हैं जबकि सूचना यह है कि एक अधिकारी की भी इसमें भूमिका है। शुक्रवार सुबह पकड़े गए पुलिसकर्मियों ने बयान दिया है कि उनसे साहब ने किसी मामले में कार्रवाई करने के लिए जाने की बात कही थी। उन्हें तो यह पता ही नहीं था कि गाड़ी में बाघ की खाल पड़ी है। अब इसमें कौन से साहब की भूमिका है यह नहीं पता चल पा रहा है।

सूत्रों से पता चला है कि शनिवार को गिरफ्तार कर बीजापुर से यहां लाए गए पुलिस विभाग के दो सहायक उपनिरीक्षकों में एक संतोष बघेल के पिता श्याम बघेल बीजापुर डीएफओ की गाड़ी के ड्राइवर हैं। मामले में वन विभाग के कर्मचारियों की भूमिका की बात दबे सुर में बड़े अधिकारी स्वीकार भी कर रहे हैं पर किसकी क्या भूमिका है यह नहीं बताया जा रहा है।

वन विभाग ने शनिवार को पाढ़ापुर व बड़े कमेली गांवों से तीन ग्रामीणों को बाघ का शिकार करने के आरोप में गिरफ्तार किया है। उन्होंने खाल का सौदा किससे किया यह नहीं बताया जा रहा है। अधिकारी यह कहकर पल्ला झाड़ने में लगे हैं कि अभी पूछताछ की जा रही है। शुक्रवार को गिरफ्तार पांच पुलिस व दो स्वास्थ्य विभाग विभाग के कर्मचारियों को जेल भेज दिया गया है। शनिवार को गिरफ्तार तीन शिकारियों बुधरू कुंजाम, भीमा इलामी, रामलाल तामू, एक शिक्षक रामेश्वर सोनवानी व बीजापुर के दो एएसआई संतोष बघेल व रमेश अंगनपल्ली से रविवार को दिनभर पूछताछ की गई।

सभी दे रहे गोलमोल जवाब

बताया गया है कि यह सभी लोग गोलमोल जवाब ही दे रहे हैं। जांच टीम यह पता नहीं कर पाई है कि बाघ की खाल की खरीद फरोख्त का मुख्य आरोपित कौन है। शनिवार को पकड़े गए छह आरोपितों पर भी वन्य जीव संरक्षण अधिनियम की विभिन्ना धाराओं के तहत मामला दर्ज किया गया है। इन्हें सोमवार को न्यायालय में पेश किया जाएगा।

यह है मामला

गरुवार शाम को सूचना मिली थी कि कुछ लोग बाघ की खाल लेकर महाशिवरात्रि पर तांत्रिक अनुष्ठान करने के लिए घूम रहे हैं। पुलिस व वन विभाग की टीम ने रातभर घेराबंदी के बाद शुक्रवार सुबह एक वाहन से बाघ की खाल बरामद की। मौके पर पांच पुलिस वालों समेत आठ लोग गिरफ्तार किए गए। जांच में पता चला कि बैलाडीला की तराई में फंदा लगाकर बाघ का शिकार किया गया था। शनिवार को तीन शिकारियों व दो पुलिस वालों समेत छह लोग पकड़े गए। मामले की जांच अभी जारी है।