Jain
ब्रेकिंग
रमा देवी बंशीलाल गुर्जर और नम्रता प्रितेश चावला के नाम पर चल रहा मंथन महिलाओं की उंगलियां होती है ऐसी, स्वभाव से होती हैं गंभीर और बड़ी खर्चीली इन चीजों से किडनी हो सकती है खराब दिल्ली से किया था नाबालिग को अगवा, CCTV फुटेज से आरोपियों की हुई थी पहचान गृह विभाग में अटकी फ़ाइल, क्या रिटायर्ड होने के बाद होगा प्रमोशन एशिया कप के लिए टीम का ऐलान आज वास्तु की ये छोटी गलतियां कर सकती हैं आपका बड़ा नुकसान, खो सकते हैं आप अपना कीमती दोस्त आय से अधिक संपत्ति मामले में शिबू सोरेन को लोकपाल का नोटिस बाइक से कोरबा लौटने के दौरान हादसा, दूसरे जवान की हालत गंभीर; पुलिस लाइन में पदस्थ थे दोनों | road accident in chhattisharh; bike rider chhattisgarh p... खरीदें Redmi का शानदार 5G स्मार्टफोन

बाइक फुटपाथ से टकराई, छात्र उछलकर टायलेट से टकराए, मौके पर मौत

ग्वालियर। होटल रमाया के पास सोमवार सुबह दो छात्रों की बाइक अनियंत्रित होकर फुटपाथ से टकराई। इसके बाद दोनों छात्र उछलकर फुटपाथ के किनारे बने टायलेट की दीवार से टकराए। जिससे दोनों की मौके पर मौत हो गई। दोनों ही छात्र केंद्रीय विद्यालय में पढ़ने वाले हैं और सोमवार सुबह वे परीक्षा कक्षा 9वीं की परीक्षा देने आए थे। घटना के बाद मौके पर पुलिस पहुंची और दोनों के शवों को पीएम के लिए भेजा। छात्रों की पहचान थाटीपुर निवासी दिव्यांसु सोलंकी व गुढ़ागुढ़ी का नाका निवासी आशीर्वाद है। दोनों छात्रों के स्वजन मौके पर पहुंच गए थे।

घटनाक्रम के मुताबिक थाटीपुर निवासी दिव्यांसु सोलंकी केन्द्रीय विद्यालाय में कक्षा 9 का छात्र है और सोमवार को 8 बजकर 20 मिनट पर परीक्षा शुरू होने वाली थी। वह सात बजे घर से निकला था। लेकिन स्कूल जल्द आ गया था। उसके साथ गुढ़ागुढ़ी का नाका निवासी आशीर्वाद भी पढ़ता है। दोनों छात्र स्कूल जल्दी आ गए थे। बताया जाता है कि इसलिए वे बाइक से मेले की तरफ गए। जब वे लौटकर आ रहे थे तो रमाया होटल के पास मोड़ पर उनकी बाइक अनियंत्रित हो गई और फुटपाथ से टकराई। फुटपाथ से टकराने के बाद दोनों छात्र बाइक से उछले और टायलेट की दीवार से जा टकराए। जिससे दोनों के सिर में गंभीर चोट आई और दोनों की मौके पर ही मौत हो गई। हालंाकि कुछ लोगों का कयास है कि किसी वाहन ने पीछे से टक्कर मारी है। लेकिन बाइक में कहीं भी वाहन की टक्कर के निशान नहीं है।

साइकिल से स्कूल आता है दिव्यांसु: थाटीपुर निवासी दिव्यांसु रोजाना साइकिल से सात बजे स्कूल आता था। स्वजनों के मुताबिक सोमवार सुबह सात बजे दिव्यांसु साइकिल से ही स्कूल आया था। हालांकि मौके पर उसकी साइकिल नहीं मिली।

एकलौता बेटा है दिव्यांशु: दुर्घटना में मरा दिव्यांसु अपने घर का एकलौता चिराग था। घटना की सूचना जब स्वजनों के पास पहुंची तो वे रोते हुए मौके पर पहुंचे। उनका हाल बुरा था।