ब्रेकिंग
पटरी पर दौड़ी 'मौत' की ट्रेन: एक का सिर धड़ से मिला अलग, तो दूसरे की नग्न अवस्था में टुकड़ों में मिली लाश, पढ़िए ट्रैक पर मौत की खौफनाक कहानी किससे जुड़े हैं गुना हत्याकांड के तार ? BJP नेताओं के साथ आरोपियों की तस्वीरें वायरल, MLA जयवर्धन ने कहा- अपराधियों और बीजेपी नेताओं की निकाली जाए कॉल... आत्मानंद स्कूल के इन छात्रों ने मेरिट लिस्ट में बनाई जगह कथा स्थल में नारियल वितरण के दौरान मची भगदड़, 16 महिलाएं घायल, इधर 576 दिन से नर्मदा परिक्रमा कर रहे संत समर्थ सदगुरु की बगड़ी तबीयत भगवान गौतम बुद्ध के 12 अनमोल वचन शरीर के इन हिस्सों पर है अगर तिल, होते हैं बुद्धिमान और काम में सफलता करते हैं हासिल थाने में शिकायत करने पर मर्डर: अहाता संचालक की पीट-पीटकर बेरहमी से हत्या करने का VIDEO वायरल, 2 आरोपी गिरफ्तार कर भेजे गए जेल रात को अचानक नींद खुल जाना नहीं है कोई आम बात, आत्माएं देती हैं ये गंभीर संकेत... जान पर भी बन आ सकती है बात शुरू होने जा रहा है नौतपा, तपती गर्मी के कोप और सूर्य देव के क्रोध से है गहरा नाता रमन सिंह को कवर्धा में तगड़ा झटका, पूर्व मुख्यमंत्री के बेहद करीबी घनश्याम गुप्ता भी टूटे, अकबर ने थमाया कांग्रेस का हाथ

आगरा में सेप्टिक टैंक में गिरे बच्चे को बचाने में बड़ा हादसा, जहरीली गैस से तीन भाइयों समेत पांच की मौत

आगरा। उत्तर प्रदेश के आगरा में मंगलवार शाम बड़ा हादसा हो गया। फतेहाबाद में पुराने सेप्टिक टैंक के पास खोदे गए गड्ढे में उतरे पांच युवकों की जहरीली गैस की चपेट में आने से मौत हो गई। मृतकों में तीन सगे भाई हैं, जबकि एक चचेरा भाई और एक पड़ोसी है। डीएम ने मृतकों के स्वजन को मुआवजा देने की घोषणा की है। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने दुर्घटना में पांच लोगों की मृत्यु पर गहरा शोक व्यक्त किया है। उन्होंने मृतकों के परिजनों को दो-दो लाख रुपये की आर्थिक सहायता दिए जाने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने दिवंगत आत्मा की शान्ति की कामना करते हुए शोक संतप्त परिजनों के प्रति संवेदना व्यक्त की है।

फतेहाबाद थाना क्षेत्र के ग्राम प्रतापपुरा निवासी सुरेंद्र के घर के बाहर तीन दिन पहले शौचालय के सेप्टिक टैंक के लिए आठ फीट गहरा गड्ढा खोदा गया था। इस गड्ढे से तीन फीट की दूरी पर पुराना सेप्टिक टैंक है, जो भर चुका है। खेत पर व्यस्तता के चलते इसे पक्का नहीं कराया जा सका था। पुराने टैंक से रिसकर इसमें पानी आ रहा था। रिसाव रोकने को 13 वर्षीय अविनाश गड्ढे में उतरा, उसमें करीब एक फीट पानी था। पुराने टैंक से जहरीली गैस का रिसाव होने पर अविनाश अंदर ही गिर पड़ा।

उसे बचाने के लिए 15 वर्षीय आदित्य गड्ढे में उतरा, वह भी बेहोश हो गया। इसके बाद दोनों भाइयों को बचाने के लिए बड़ा भाई 17 वर्षीय हरिमोहन, चचेरा भाई 30 वर्षीय सोनू शर्मा पड़ोसी 17 वर्षीय योगेश बघेल बारी-बारी से नीचे उतरे। सभी जहरीली गैस की चपेट में आकर गड्ढे में फंसते गए। पांच युवकों के गड्ढे में फंसने के बाद चीखपुकार मच गई। सूचना पर खेतों पर काम कर रहे पुरुष पहुंच गए। एक ग्रामीण को नीचे उतारने का प्रयास किया, लेकिन उसे चक्कर आने लगे

इसके बाद उमाशंकर ने समझदारी का परिचय देते हुए गड्ढे में रस्सी से पहले बाल्टी डाली, जिससे गैस की लेअर टूट गई। इसके बाद सोनू शर्मा के भाई मोनू शर्मा को कमर में रस्सी बांधकर नीचे उतारा गया। उसने एक-एक कर पांचों को बाहर निकाला। सभी को अस्पताल ले जाया गया। वहां से आगरा भेज दिया गया। एसएन मेडिकल कालेज लाने पर उन्हें मृत घोषित कर दिया गया।

एडीजी जोन राजीव कृष्ण, डीएम प्रभु एन सिंह, एसएसपी बबलू कुमार, एसपी देहात पूर्वी अशोक वैंकट इमरजेंसी पहुंच गए। डीएम ने मृतकों के परिवार को दो-दो लाख रुपये मुआवजा और सोनू के स्वजन को किसान बीमा योजना के तहत पांच लाख रुपये मुआवजा दिए जाने की घोषणा की।