ब्रेकिंग
लंबे समय बाद स्टेज पर दिखे शाहरुख खान कुछ सरल वास्तु उपाय जो घर मे लाएंगे बरक्कत डोमेस्टिक का चार्ज लगेगा, बिजली बिलों में 2 रुपए प्रति यूनिट का मिलेगा फायदा एक महीने में हुए चार 'दुराचारी सभा' में पहुंचे सिर्फ 844 हिस्ट्रीशीटर,दरी पर बैठना उन्हें नहीं पसंद बोले- 5 साल से कर रहा था तैयारी, अब बना राजस्थान का टॉपर गुरु अमरदास एवेन्यू के निवासियों ने ब्लॉक किया जीटी रोड, MLA के खिलाफ प्रदर्शन भूप्रेंद्र सिंह हुड्‌डा ने कहा गांधीवादी तरीके से करेंगे विरोध, सरकार रद्द करके अग्निपथ फर्जी दस्तावेज तैयार कर कब्जाई थी जमीनें, पुलिस की गिरेबान पर हाथ डालने के बाद आया था चर्चा में सनी नागपाल भुवनेश्वर कुमार तोड़ेंगे पाकिस्तानी गेंदबाज का रिकॉर्ड डेब्यू मैच में फ्लॉप रहे उमरान मलिक

बड़े नेताओं की सियासत में फंसी भाजयुमो के जिला अध्यक्ष की कुर्सी

रायपुर। छत्तीसगढ़ में भारतीय जनता युवा मोर्चा (भाजयुमो) प्रदेश अध्यक्ष की नियुक्ति बड़े नेताओं की सियासत में फंस गई है। इस पद के लिए पार्टी के अलग-अलग खेमों से मुख्य रूप से चार नामों की चर्चा है। कोई भी खेमा अपनी दावेदारी छोड़ने को तैयार नहीं है, इस वजह से मामला अटक गया है।

दो दिन पहले प्रदेश के दौरे पर आई प्रभारी डी. पुरंदेश्वरी के सामने भी यह मुद्दा उठा। पार्टी सूत्रों के अनुसार उन्होंने एक नाम पर सहमति बनाकर जल्द घोषणा करने के निर्देश दिए हैं। पार्टी के उच्च पदस्थ सूत्रों के अनुसार भाजयुमो प्रदेश अध्यक्ष के लिए जिन नामों की चर्चा है, उनमें राहुल राव, प्रशांत ठाकुर, गोविंद गुप्ता और अर्पित सूर्यवंशी का नाम मुख्य रूप से शामिल हैं।

इन चारों नामों को पार्टी के अलग-अलग खेमों ने आगे बढ़ाया है। चूंकि युवा मोर्चा पार्टी का महत्वपूर्ण घटक है, इस वजह से बड़े नेता अपनी पसंद की नियुक्ति करना चाह रहे हैं। बताया जा रहा है कि राव का नाम संगठन विरोधी खेमे की तरफ से बढ़ाया गया है।

प्रदेश प्रभारी के शनिवार-रविवार को प्रवास के दौरान राव के पक्ष में माहौल बनाने की पूरी कोशिश की गई। वहीं ठाकुर का नाम एक पूर्व संगठन महामंत्री की तरफ से चलाई जा रही है। बाकी बचे दो नामों के लिए एक जिलाध्यक्ष समेत संगठन के दूसरे खेमे को लेकर दबाव बना रहे हैं।

विलंब की एक वजह कार्यकारिणी को लेकर विवाद

पार्टी सूत्रों के अनुसार अध्यक्ष की घोषणा को लेकर हो रहे विलंब की एक वजह कार्यकारिणी को लेकर हुआ विवाद भी शामिल है। पिछले महीने ही भाजयुमो की प्रदेश और जिला कार्यकारिणी की घोषणा की गई थी। इसके जारी होते ही पार्टी में असंतोष फूट पड़ा था। आरोप लगा कि कार्यकारिणी में कई ऐसे लोगों को स्थान दे दिया गया है, जो 35 साल की उम्र पार कर चुके हैं। इससे नाराज एक कार्यकर्ता ने प्रदेश कार्यालय में आत्मदाह की चेतावनी तक दे दी थी। पूरे मामले की प्रदेश प्रभारी पुरंदेश्वरी से शिकायत भी हुई थी।

प्रदेश प्रभारी को सौंपी गई रिपोर्ट

कार्यकारिणी में अधिक उम्र और अयोग्य लोगों को शामिल करने के आरोपों को लेकर प्रदेश प्रभारी के निर्देश पर जांच की गई है। भाजयुमो के प्रदेश प्रभारी अनुराग ठाकुर और ओपी चौधरी को यह जिम्मेदारी सौंपी गई थी। सूत्रों के अनुसार उन्होंने अपनी रिपोर्ट सौंप दी है। बताया जा रहा है कि रिपोर्ट में कुछ शिकायतों को सही बताया गया है।