ब्रेकिंग
केरल में भारी बारिश, IMD ने जारी किया येलो अलर्ट; खोले गए 2 बांध जयपुर से लौटे रमन, कहा- भाई-भतिजावाद और परिवारवाद की वजह से कांग्रेस की हुई ये स्थिति अब इस प्राइवेट सेक्टर के बैंक ने एफडी की ब्याज दरों में की बढ़ोतरी, जानें लेटेस्ट ब्याज दर NIA अफसर तंजील अहमद मर्डर केस में मुनीर और रैयान को फांसी की सजा ज्ञानवापी मामले में ‘शिवलिंग’ पर आपत्तिजनक पोस्ट करने वाले प्रोफेसर रतन लाल को ज़मानत, जानें कोर्ट में क्या-क्या हुआ पेटीएम को हुआ 762 करोड़ रुपये का घाटा, कंपनी ने कहा- सही रास्ते पर कारोबार जिला जज को हैंडओवर की ज्ञानवापी केस की रिपोर्ट UP विधानसभा लोगों की आकांक्षाओं को पूरा करेगी : सतीश महाना 'ठेके-पटटे, तबादला-तैनाती' से रहें दूर : सीएम योगी ईयर फोन का ज्यादा इस्तेमाल हो सकता है खतरनाक, कानों को हो सकते हैं ये गंभीर नुकसान

हवाई सफर से बेहतर होगी रेल यात्रा, सुरक्षित और आरामदायक होगा सफर; जानें कैसे

नई दिल्ली। यदि हम मिलकर काम करें तो आने वाले दिनों में रेल यात्रा हवाई सफर से भी बेहतर और सुविधाजनक हो जाएगी। यात्रियों को अच्छी रेल सेवा मिलेगी, जो सुरक्षित और आरामदायक होगी, कम समय लगेगा और एक शहर को दूसरे से जोड़ेगी। रेल मंत्री पीयूष गोयल ने बुधवार को राज्यसभा में चर्चा के दौरान यह बात कही। इसी के साथ उन्होंने फिर दोहराया कि रेलवे का निजीकरण नहीं होगा। यह देश की संपत्ति है और यह सरकार की ही रहेगी।

निजीकरण को लेकर आलोचना पर केंद्रीय मंत्री ने कहा कि जिस तरह से सड़कों का इस्तेमाल सरकारी और निजी दोनों तरह की गाडि़यां करती हैं, उसी तरह से यात्रियों को बेहतर सेवा देने के लिए रेलवे ट्रैक का इस्तेमाल निजी सेक्टर भी कर सकते हैं। उन्होंने सवाल किया, ‘अगर निजी क्षेत्र आगे आता है और कार्य की गति बढ़ती है तो देश को कैसे नुकसान होगा?’ गोयल ने कहा कि केंद्र सरकार देश में रेल नेटवर्क को सुधारने की दिशा में काम कर रही है। साथ ही उन्होंने भरोसा जताया कि राज्य इसमें सहयोग करेंगे।

गोयल ने बताया कि नेशनल रेल प्लान के तहत तीन नए डेडिकेटेड फ्रेट कॉरिडोर चिन्हित किए गए हैं, जिनमें बड़े निवेश की जरूरत होगी। इसी तरह सरकार ने बुलेट ट्रेन के लिए भी मुंबई-अहमदाबाद के अतिरिक्त कई रूट की पहचान की है। इससे पहले चर्चा के दौरान विपक्ष ने आरोप लगाया कि कॉरपोरेट्स के फायदे के लिए रेल सेवाओं और इन्फ्रा का निजीकरण किया जा रहा है। सरकार रेलवे को भी एयर इंडिया की तरह बीमार करना चाहती है। उन्होंने आरोप लगाया कि निजी क्षेत्र के आने से सेवा के गुणवत्ता नहीं बदलेगी, बल्कि किराया बढ़ेगा।

श्रमिक ट्रेनों से घर पहुंचे 64 लाख श्रमिक

रेल मंत्री ने कोरोना काल में श्रमिक ट्रेनों के जरिये 64 लाख से ज्यादा प्रवासी मजदूरों के घर जाने का भी जिक्र किया। उन्होंने बताया कि 43 रूट पर 4,600 से ज्यादा श्रमिक ट्रेनों का संचालन किया गया। सभी राज्यों को उनकी मांग के हिसाब से ट्रेनें उपलब्ध कराई गई, इसके बाद भी इस पर राजनीति का प्रयास हुआ।

रेलकर्मियों को रुपे कार्ड प्रयोग करने की सलाह

लोकसभा में एक प्रश्न के लिखित उत्तर में रेल मंत्री पीयूष गोयल ने बताया कि रेलवे के 12.54 लाख कर्मचारियों को अपने डेबिट/एटीएम कार्ड को रुपे संचालित कार्ड में बदलने का सुझाव दिया गया है। इससे आत्मनिर्भर भारत अभियान और डिजिटल इंडिया की पहल को बढ़ावा मिलेगा। रेलवे इस दिशा में विभिन्न प्रमोशनल गतिविधियों में बैंकों को भी सहयोग कर रहा है।