Braz
ब्रेकिंग
ग्रीस में छुट्टियां मनाकर लौटे हार्दिक पांड्या फतेहाबाद में 2 शिकायतों के बाद सेंट्रल बैंक की जांच में खुलासा; हैड कैशियर पर FIR युवक की तलाश करने उतरे मछुआरे की मिली लाश 10 महीने बाद किसानों ने खोला मोर्चा, लखीमपुर बना ‘मिनी पंजाब’; केंद्रीय मंत्री अजय मिश्र टेनी की बर्खास्तगी की मांग शहर में 10 घंटे रहेंगे शाह... सुरक्षा में तैनात रहेंगे 40 आईपीएस अफसर और 3000 जवान बिहार में मौसम विभाग का अलर्ट दवा के साथ न करें इन चीजों का सेवन सबरीमाला मंदिर का इतिहास भगवान श्रीकृष्ण की हर लीला भक्तों के मन को है लुभाती निजी क्षेत्र में देश का सबसे बड़ा 2600 बेड का है अस्पताल, 64 आपरेशन थियेटर, 81 गंभीर बीमारियों के स्पेशलिस्ट डॉक्टर करेंगे इलाज

नासा के पर्सिवियरेंस रोवर ने की मंगल ग्रह पर चहलकदमी, ड्राइविंग की आवाज भेजी, आप भी सुनें

केप कनवेरल। अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा के पर्सिवियरेंस रोवर ने मंगल ग्रह की सतह पर चहलकदमी शुरू कर दी है। इसने पहली बार मंगल ग्रह पर ड्राइविंग करने का आडियो भेजा है। अंतरिक्ष एजेंसी ने बुधवार को इसका एक 16 मिनट का ऑडियो जारी किया। इसमें मंगल की सतह पर रोवर के पहियों के चलने की स्‍पष्‍ट आवाज सुनाई दे रही है।

बता दें कि मंगल ग्रह पर भेजा गया सबसे बड़े, सबसे उन्नत रोवर पर्सिवियरेंस 18 फरवरी को लैंड किया था। 2.7 अरब डॉलर के इस मिशन का प्राथमिक मकसद इस बात का सबूत जुटाना है कि करीब तीन अरब साल पहले शायद मंगल ग्रह पर सूक्ष्म जीव पनपें हों, जब यह ग्रह ज्यादा गर्म, नम औऱ संभवत: जीवन के ज्यादा अनुकूल थी।

बता दें कि रोवर में दो माइक्रोफोन हैं। एक ने पहले से ही हवा और रॉक-ज़ैपिंग लेजर की आवाज़ रिकॉर्ड कर लिया है, दूसरे को लैंडिंग की आवाज रिकॉर्ड करना था। नासा के अनुसार, दूसरे माइक ने रोवर के मंगल पर पहुंचने की कोई आवाज़ रिकॉर्ड नहीं किया, लेकिन 4 मार्च को पहले टेस्ट ड्राईव को रिकॉर्ड करने में कामयाब रहा। ड्राइविंग ऑडियो में खरोंच की आवाज सुनाई दे रही है। अब इंजीनियर इस आवाज के बारे में पता लगाने की कोशिश कर रहे हैं।

रोवर में वेदर स्टेशन, 19 कैमरे और दो माइक्रोफोन लगे हैं। इनकी मदद से नासा को स्पष्ट तस्वीरें मिलने की उम्मीद है। नासा इससे पहले मोबाइल साइंस व्हीकल मंगल पर भेज चुका है, लेकिन पर्सिवियरेंस से ज्यादा बड़ा और परिष्कृत है। इसे मंगल की चट्टानों के नमूने एकत्र करने के लिहाज से डिजाइन किया गया है। यह अपने साथ परियोजना से जुड़े कुछ खास उपकरण लेकर गया है। इनमें एक बेहद छोटा हेलीकॉप्टर भी शामिल है। इसे दूसरे ग्रह पर नियंत्रित उड़ान परीक्षण के लिए बनाया गया है।

Braz