ब्रेकिंग
आर्थिक आधार से गरीब लोगों के आरक्षण में कटौती के विरोध में आज भाटापारा अनुविभागीय अधिकारी के कार्यालय जाकर राज्यपाल के नाम ज्ञापन सौंपा गया विधानसभा विशेष सत्र। विधानसभा सत्तापक्ष पर जमकर बरसे विधायक शिवरतन शर्मा, आरक्षण रुकवाने जो लोग कोर्ट गए उन्हें मुख्यमंत्री जी पुरस्कृत करते हैं,सत्र ... रायपुर विधानसभा विशेष सत्र। विधानसभा में आरक्षण बिल के दौरान ब्राह्मण नेताओं पर जमकर बरसे बलौदाबाजार विधायक प्रमोद शर्मा, उनके मुंह पर करारा तमाचा मार... अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद भाटापारा नगर इकाई की हुई घोषणा मंडी अध्यक्ष सुशील शर्मा ने मंडी समिति के नए सदस्य को दिलाई शपथ, उद्बोधन में कहा भारसाधक पदाधिकारीयो की नियुक्ति के बाद से मंडी लगातार चहुमुखी विकास क... मंडी अध्यक्ष सुशील शर्मा ने धान ख़रीदी केंद्रो का निरीछन कर, धान बेचने आये किसानो से मुलाक़ात कर, धान बेचने में आने वाली समस्या की जानकारी ली, किसानों... ग्राम मर्राकोना में नवीन धान उपार्जन केंद्र के शुभारंभ अवसर पर मंडी अध्यक्ष सुशील शर्मा ने कहा भूपेश सरकार किसानों की सरकार है ग्राम मर्राक़ोंना में नवीन धान उपार्जन केंद्र को मिली हरी झंडी मंडी अध्यक्ष सुशील शर्मा ने दी जानकारी ट्रक चोरी करने वाले 06 आरोपियो को किया गया गिरफ्तार, मंडी के पास लिंक रोड के किनारे खड़ी ट्रक को किया था चोरी, उड़ीसा से हुई बरामद रायपुर में शिवमहापुराण कथा:पंडित प्रदीप मिश्रा का प्रवचन सुनने लाखों लोग पहुंचे , अनुमान से अधिक लोगों के पहुंचने के कारण पंडित जी को कहना पड़ा घर में...

कोरोना के कारण पिछड़ रही नगर निगम की राजस्व वसूली

इंदौर। कोरोना के बढ़ते मरीजों के कारण नगर निगम की राजस्व वसूली लगातार पिछड़ रही है। वित्त वर्ष का आखिरी महीना होने पर रोजाना औसतन एक से डेढ़ करोड़ रुपये तक की वसूली होनी चाहिए, जो अभी सिमटकर 50 से 60 लाख रुपये तक रह गई है। पहले ही नगर निगम पिछले साल की तुलना में वसूली से 100 करोड़ रुपये से पीछे चल रहा है और उस पर कोरोना की मार से वसूली कार्य लगातार पिछड़ रहा है

सूत्रों के अनुसार राजस्व वसूली पिछड़ने का मूल कारण यह है कि राजस्व विभाग के मैदानी अमले यानी सहायक राजस्व अधिकारी (एआरओ) और बिल कलेक्टर इन दिनों कोरोना प्रोटोकाल का पालन नहीं करने वालेे संस्थानों पर कार्रवाई में जुटे हैं। इस वजह से वे संपत्ति कर के बड़े बकायादारों से संपर्क नहीं कर पा रहे हैं और दिनभर में ज्यादातर समय उसी कार्रवाई में जा रहा है। इसके अलावा स्वच्छता सर्वे की टीम इंदौर पहुंचने के बाद इस काम में भी उन्हें सहभागिता करनी पड़ रही है। कोरोना के कहर से फिलहाल तो राहत मिलती नहीं दिखती, इसलिए निगम अधिकारी भी मान रहे हैं कि राजस्व वसूली का कार्य लगातार प्रभावित होगा। माना जा रहा है कि बड़े बकायादार ही अपना संपत्ति कर दे दें, तो निगम को करीब 80 करोड़ रुपये का राजस्व मिल सकता है। इसी तरह घर-घर कचरा संग्रहण शुल्क की वसूली भी पीछे ही है और लोगों से निगम को लगभग 70 करोड़ रुपये वसूलना बाकी है। हर साल की तरह जल कर वसूली में भी नगर निगम इस साल पीछे है।