ब्रेकिंग
गर्मी के चलते वेस्टर्न रेलवे ने 12 एसी लोकल ट्रेनें शुरू की, जानें कहां से कहां तक हैं ये ट्रेन पुलिस की सराहनीय पहल, प्रतिभावान छात्राओं के घर-घर जाकर किया सम्मानित, बच्चों ने आईएएस, डाॅक्टर व सीए बनने की जताई ईच्छा MP में तालों में कैद भगवान! MLA आकाश विजयवर्गीय बोले- जल्द खुलेगा बोलिया सरकार छत्री का शिव मंदिर एलपीजी गैस सिलेंडर पर लेना चाहते हैं सब्सिडी, फॉलो करें यह आसान प्रोसेस सूरज की तपिश से बादलाें ने दिलाई राहत बोरिंग माफियाओं की मनमानी से इंदौर में गहराया जल संकट नहीं रोक लगा पा रहा नगर निगम, आज भी रोजाना हो रहे 20-25 अवैध बोरिंग चीनी विमान जानबूझकर नीचे लाकर क्रैश कराया गया था श्रीराम सेना का दावा- कर्नाटक में 500 अवैध चर्च ग्राम देवादा में जल सभा का आयोजन एक ही परिवार के 3 लोगों के मर्डर का खुलासा, परिजन ही निकले हत्यारे, ये बनी हत्या की वजह

ब्रह्माकुमारी दादी की नि:स्वार्थ सेवा सदैव याद रहेगी- किरणमयी नायक

रायपुर। समाज में ऐसे लोग बहुत कम होते हैं, जिनका समूचा जीवन ही प्रेरणादायी होता है। वर्तमान कोरोना काल में जबकि दो गज दूरी है जरूरी, तब दादी हृदयमोहिनी का स्नेह हम सबको संबल देगा। इस समय दुनिया को प्रेम की बहुत ज्यादा जरूरत है। उक्त विचार महिला आयोग की अध्यक्ष किरणमयी नायक ने दादी हृदयमोहिनी की याद में आयोजित श्रद्धांजलि समारोह में व्यक्त किया। उन्होंने कहा कि दादीजी की नि:स्वार्थ सेवा हमेशा याद रहेगी

विधानसभा रोड स्थित शान्ति सरोवर रिट्रीट सेंटर में प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्वविद्यालय द्वारा संस्थान की मुख्य प्रशासिका दादी हृदयमोहिनी के निधन पर श्रद्घाजंली सभा का आयोजन किया गया। महिला आयोग अध्यक्ष ने कहा कि महज नौ साल की उम्र में ब्रह्माकुमारी संस्थान से जुड़ जाना और अपना समूचा जीवन समर्पित कर देना यह दादीजी के पुण्य कर्मों का परिणाम था।

किसी के जीवन की सच्ची कमाई को देखना हो तो उसके अंतिम संस्कार में जाकर देखना चाहिए कि उसका ऋण उतारने के लिए कितने लोग पहुंचे हैं। यहां पर भारी संख्या में उपस्थित जन समुदाय को देखकर लगता है कि दादीजी जन-जन के हृदय में समाई हुई थीं।

ब्रह्माकुमारी संस्थान की क्षेत्रीय निदेशिका ब्रह्माकुमारी कमला दीदी ने कहा कि दादी हृदयमोहिनी को दिव्यदृष्टि का वरदान प्राप्त था। वे बचपन से ही ध्यान में जाया करती थीं। उन्होंने अनेक गहन आध्यात्मिक रहस्यों पर से पर्दा उठाने में सहयोग दिया। ब्रह्माकुमारी संस्थान के विकास में उनकी अहम भूमिका रही है। उन्होंने लाखों लोगों का मिलन परमात्मा से कराया।

उनको सच्ची श्रद्घाजंली यही होगी कि हम उनकी तरह सभी के लिए शुभ सोचें और सबको सुख प्रदान करें। सभा का संचालन वरिष्ठ राजयोग शिक्षिका ब्रह्माकुमारी सविता दीदी ने किया। इस अवसर पर दादी हृदयमोहिनी के जीवन और उनके द्वारा की गई सेवाओं से जुड़ा हुआ वीडियो भी प्रदर्शित किया गया।