ब्रेकिंग
स्वास्थ्य मंत्री डॉ. चौधरी ने जेपी हॉस्पिटल में स्वास्थ्य मेले की व्यवस्थाओं का जायजा लिया एकदंत संकष्टी चतुर्थी कल अप्रैल के जीएसटी कर भुगतान की तारीख बढ़ी वैश्विक स्तर पर अकेले वायु प्रदूषण से 66.7 लाख लोगों की मौत ऑनलाइन गेमिंग, कैसिनो पर 28 फीसदी जीएसटी लगाने की तैयारी, ग्रुप ऑफ मिनिस्टर्स ने दी प्रस्ताव को मंजूरी एक दिन की बढ़त के बाद फिसला बाजार, सेंसेक्स-निफ्टी लाल निशान में क्लोज, पॉवर ग्रिड सबसे ज्यादा लुढ़का पीएम आवास योजना को लेकर सरकार ने किया बड़ा ऐलान! सभी पर पड़ेगा असर कश्मीर घाटी में अभी और होगी बारिश, जम्मू में चल सकती है लू, अलर्ट जारी सुप्रीम कोर्ट ने एजी पेरारिवलन को रिहा किया फूड कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया में आवेदन की प्रक्रिया जल्द ही शुरू की जा सकती है

शिवसेना का BJP पर आरोप:मोदी-शाह से फडणवीस की मुलाकात के बाद लीक हुई परमबीर की चिट्ठी

पूर्व मुंबई पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह की उद्धव ठाकरे को लिखी चिट्ठी को लेकर महाराष्ट्र की राजनीति में भूचाल आया हुआ है। जहां भाजपा महाराष्ट्र के गृहमंत्री अनिल देशमुख के इस्तीफे की मांग कर रही है वहीं अब शिवसेना ने भाजपा पर ही आरोप लगा दिया है। शिवसेना ने अपने मुखपत्र सामना में लिखा कि देवेंद्र फडणवीस दिल्ली में पीएम नरेंद्र मोदी और केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह से मिलने दिल्ली गए थे, उसके अगले ही दिन परमबीर सिंह की चिट्ठी लीक हो गई।

शिवसेना ने लिखा कि फडणवीस मोदी और शाह से मिले और उसके दो दिन बाद परमबीर सिंह ने ऐसा पत्र लिख डाला और यह लीक हो गया। पत्र को लेकर विपक्ष जो हंगामा कर रहा है वो किसी साजिश का हिस्सा ही लग रहा है। शिवसेना ने भाजपा को चेतावनी दी कि महाविकास अघाड़ी के पास आज भी बहुमत है और अगर बहुमत पर हावी होने की कोशिश करोगे तो आग लगेगी।

शिवसेना के भाजपा पर गंभीर आरोप
शिवसेना ने सामना में लिखा कि भाजपा बेवजह परमबीर सिंह के मुद्दे को तूल दे रही है और इसे ढाल बना रही है। सिवसेना ने कहा कि अगर ऐसे ही हम सभी मंत्रियों से इस्तीफा लेते रहे तो सरकार चलाना मुश्किल हो जाएगा। शिवसेना ने कहा कि कभी भाजपा ही परबीर सिंह को भरोसेमंद अधिकारी नहीं मानती थी लेकिन आज वो उसी की इस्तेमाल कर रही है। शिवसेना ने कहा कि परमबीर ने पद से हटते ही गृह मंत्री अनिल देशमुख पर आरोप लगा दिए, उससे पहले वो खामोश क्यों थे। शिवसेना ने कहा कि महाराष्ट्र सरकार ने परमबीर पर कार्रवाई की इसलिए उसने अनिल देशमुख पर सचिन वाजे को 100 करोड़ रुपये जुटाने का लक्ष्य दिया जैसे आरोप लगाया।

परमबीर ने ठीक नहीं किया
शिवसेना ने कहा कि इसमें कोई संदेह नहीं कि पद पर रहते हुए परमबीर सिंह ने अपनी जिम्मेदारी काफी अच्छे से निभाई है। वह एक धड़ाकेबाज अधिकारी हैं और सुशांत सिंह राजपूत और कंगना रनौत मामले को बेहतरीन ढंग से संभाला लेकिन एंटीलिया मामले में सरकार को पत्र लिखकर मंत्री को कटघरे में खड़ा करना यह ठीक नहीं।