ब्रेकिंग
गुरु अमरदास एवेन्यू के निवासियों ने ब्लॉक किया जीटी रोड, MLA के खिलाफ प्रदर्शन भूप्रेंद्र सिंह हुड्‌डा ने कहा गांधीवादी तरीके से करेंगे विरोध, सरकार रद्द करके अग्निपथ फर्जी दस्तावेज तैयार कर कब्जाई थी जमीनें, पुलिस की गिरेबान पर हाथ डालने के बाद आया था चर्चा में सनी नागपाल भुवनेश्वर कुमार तोड़ेंगे पाकिस्तानी गेंदबाज का रिकॉर्ड डेब्यू मैच में फ्लॉप रहे उमरान मलिक घर में रखा फ्रिज सिर्फ उपकरण नहीं, है वास्तु शास्त्र की रहस्मयी व्याकरण... इस दिशा में रखने से चमक जाता है भाग्य पंचायत के प्रथम चरण के चुनावों के बाद EVM का हुआ रेंडमाइजेशन  जी-7 समिट में हिस्सा लेने जर्मनी पहुंचे पीएम मोदी, प्रवासी भारतीयों ने गर्मजोशी से किया स्वागत किंजल की गोदभराई से लीक हुईं तस्वीरें अग्निपथ योजना के खिलाफ देशव्यापी विरोध प्रदर्शन करेगी कांग्रेस 

तमिलनाडु की सात जातियां देवेंद्रकुला वेल्लालार समुदाय में होंगी शामिल, जानें क्यों लिया गया फैसला

नई दिल्ली। तमिलनाडु की सात जातियों को देवेंद्रकुला वेल्लालार समुदाय में शामिल करने के प्रस्ताव को संसद की मंजूरी मिल गई है। राज्यसभा ने सोमवार को इससे संबंधित संविधान (अनुसूचित जाति)आदेश (संशोधन) विधेयक 2021 को पारित कर दिया। लोकसभा में यह विधेयक पिछले हफ्ते ही पारित हो गया था। अब इसे मंजूरी के लिए राष्ट्रपति के पास भेजा जाएगा। इस बिल के जरिये संविधान (अनुसूचित जाति) आदेश, 1950 में बदलाव किया गया है।

इस विधेयक के जरिये देवेंद्रकुलन वेल्लार के साथ देवेंद्रकुलथन समुदाय की प्रविष्टि बदल जाएगी। अधिनियम में अभी इस समुदाय की अलग से प्रविष्टि है। लेकिन अब इसे देवेंद्र कुला वेल्लालार में समाहित किए जाने वाले समुदायों में शामिल किया गया है। इन समुदायों में देवेंद्रकुलथन, कल्लाड़ी, कुदुंबन, पल्लन, पन्नाडी और वतिरियान शामिल हैं। अलग से प्रविष्टि को खत्म कर दिया जाएगा।

विधेयक पर बहस का जवाब देते हुए, सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्री थावर चंद गहलोत ने विपक्ष के आरोपों को खारिज करते हुए कहा कि इस विधेयक का तमिलनाडु के विधानसभा चुनावों से कोई संबंध नहीं है। अनुसूचित जातियों की सूची में संशोधन के लिए एक निर्धारित प्रक्रिया है और इसकी शुरुआत 2015 में राज्य सरकार की तरफ से प्रस्ताव भेजने के साथ हुई थी। तमिलनाडु में विधानसभा चुनाव 6 अप्रैल को होंगे।