राजस्थान के उदयपुर में मंदबुद्धि युवती से सामूहिक दुष्कर्म, रात भर दुष्कर्मियों को तलाशती रही पुलिस

उदयपुर। जिले के गोगुंदा उप खंड क्षेत्र में एक मंदबुद्धि युवती को बंधक बनाकर उसके साथ सामूहिक दुष्कर्म का मामला सामने आया है। घटना की जानकारी मिलते ही पुलिस अधीक्षक मौके पर पहुंचे तथा जिले भर में नाकाबंदी कराते हुए आरोपियों की तलाश शुरू कर दी है।

मिली जानकारी के अनुसार घटना मंगलवार देर शाम की है। जिले के गोगुंदा उपखंड के सूरजगढ़ क्षेत्र की एक मंदबुद्धि युवती जो अपने घर के नजदीक ही घूम रही थी, उसे कुछ युवक उठाकर ले गए। मोटरसाइकिल से आए युवक युवती को ओगणा की ओर ले गए तथा निर्जन इलाके में ले जाकर उसे बंधक बनाया और उसके साथ सामूहिक दुष्कर्म किया। घटना के बाद आरोपी फरार हो गए। इधर, रात ढलने के बावजूद युवती अपने घर नहीं लौटी तो परिजनों को चिंता हुई और उसकी तलाश शुरू कर दी। दो घंटे की तलाश के बाद युवती बदहवास स्थिति में मिली

सामूहिक दुष्कर्म करने वाले ने युवती को प्रताड़ित किया और उसके बेहोश होने पर भाग निकले थे। घटनाक्रम की जानकारी गोगुंदा थाना पुलिस को दी। जिसने युवती के साथ सामूहिक दुष्कर्म की आशंका जताई। युवती को तत्काल गोगुंदा के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र लाया गया और चिकित्सकीय जांच में प्रमाणित माना कि उसके साथ सामूहिक दुष्कर्म हुआ। घटना कुछ ही देर में आग की तरह फैल गई और जैसे ही इसकी जानकारी पुलिस अधीक्षक डॉ. राजीव पचार को मिली तो उन्होंने जिले भर में नाकाबंदी करा दी तथा मोटरसाइकिल से भागे दुष्कर्मियों की तलाश के लिए पुलिस टीम को लगा दिया। वह उदयपुर से गोगुंदा पहुंचे तथा पीड़िता के परिजनों से मिली।

पीड़िता के परिजनों की ओर से गोगुंदा थाने में सामूहिक दुष्कर्म का मामला दर्ज कर लिया गया है। पुलिस अधीक्षक ने डॉग स्कवॉड एवं एफएसएल टीम भी मौके पर बुलाई। जिसने साक्ष्य एकत्रित किए हैं। इधर, पुलिस अधीक्षक डॉ. पचार का कहना है कि आरोपियों की धरकपड़ के लिए छह से अधिक थानों की पुलिस जुटी हुई है। आशंका जताई जा रही है कि सामूहिक दुष्कर्म के आरोपी पीड़िता के गांव या आसपास क्षेत्र के होंगे, जो पीड़िता के बारे में पहले से ही जानते हैं। अंधेरा ढलने के बावजूद पुलिस पीड़िता तथा आसपास के गांव के उन सभी लोगों की पड़ताल में जुटी हुई है, जो बाइक रखते हैं। उन्होंने कहा कि जल्द ही आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया जाएगा। जिले भर में नाकाबंदी कर दी गई है और हर संदिग्ध व्यक्ति को हिरासत में लेकर पूछताछ के निर्देश दिए गए हैं।