ब्रेकिंग
आर्थिक आधार से गरीब लोगों के आरक्षण में कटौती के विरोध में आज भाटापारा अनुविभागीय अधिकारी के कार्यालय जाकर राज्यपाल के नाम ज्ञापन सौंपा गया विधानसभा विशेष सत्र। विधानसभा सत्तापक्ष पर जमकर बरसे विधायक शिवरतन शर्मा, आरक्षण रुकवाने जो लोग कोर्ट गए उन्हें मुख्यमंत्री जी पुरस्कृत करते हैं,सत्र ... Selecting the right Virtual Info Room Supplier रायपुर विधानसभा विशेष सत्र। विधानसभा में आरक्षण बिल के दौरान ब्राह्मण नेताओं पर जमकर बरसे बलौदाबाजार विधायक प्रमोद शर्मा, उनके मुंह पर करारा तमाचा मार... Making a Cryptocurrency Beginning अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद भाटापारा नगर इकाई की हुई घोषणा मंडी अध्यक्ष सुशील शर्मा ने मंडी समिति के नए सदस्य को दिलाई शपथ, उद्बोधन में कहा भारसाधक पदाधिकारीयो की नियुक्ति के बाद से मंडी लगातार चहुमुखी विकास क... मंडी अध्यक्ष सुशील शर्मा ने धान ख़रीदी केंद्रो का निरीछन कर, धान बेचने आये किसानो से मुलाक़ात कर, धान बेचने में आने वाली समस्या की जानकारी ली, किसानों... ग्राम मर्राकोना में नवीन धान उपार्जन केंद्र के शुभारंभ अवसर पर मंडी अध्यक्ष सुशील शर्मा ने कहा भूपेश सरकार किसानों की सरकार है ग्राम मर्राक़ोंना में नवीन धान उपार्जन केंद्र को मिली हरी झंडी मंडी अध्यक्ष सुशील शर्मा ने दी जानकारी

कपड़ा बाजार में भी कोरोना का प्रभाव, हफ्ते भर में ही 10 फीसद कम हुई ग्राहकी

रायपुर।  बीते पखवाड़े भर से फिर से प्रदेश में बढ़ रहे कोरोना के प्रभाव के चलते कारोबार भी प्रभावित होने लगा है। त्योहारी सीजन में जब बाजारों में रौनक बढ़ जाती है। ऐसे समय में एक बार फिर से कपड़ा बाजार की रंगत उड़ने लगी है। कारोबारियों की माने तो बीते हफ्ते भर में ही पंडरी कपड़ा बाजार की ग्राहकी 10 फीसद कम हो गई है। बाहर से आने वाले कारोबारियों के साथ ही ग्राहकों ने आना बंद कर दिया है।

पंडरी थोक कपड़ा बाजार के पूर्व अध्यक्ष सुशील अग्रवाल ने बताया कि हालांकि बाहरी क्षेत्रों से आने वाले माल सप्लाई में किसी भी प्रकार से कमी नहीं है। आने वाले शादी सीजन का ध्यान रखते हुए पर्याप्त स्टाक मंगाया जा रहा है। लेकिन बीते कुछ दिनों से ग्राहकी कमजोर पड़ने लगी है। बाजार में कोरोना का भय देखा जाने लगा है।

पंडरी कपड़ा बाजार के साथ ही दूसरे कई बाजारों में भी कोरोना का प्रभाव दिखने लगा है और ग्राहकी थोड़ी कमजोर पड़ने लगी है। पिछले साल कोरोना के प्रभाव के चलते ही कपड़ा बाजार में पूरा स्टाक जाम हो गया था। कपड़ा बाजार के साथ ही थोक सब्जी बाजार में भी इन दिनों सन्नाटा सा पसरने लगा है। वहां भी ग्राहकी काफी अच्छी लगने लगी है।

तीन महीनों में बढ़ी कीमतें

यार्न की कीमतों में बढ़ोतरी के चलते बीते तीन महीनों में कपड़ों की कीमतों में भी 20 फीसद तक की तेजी आई है। शूटिंग शर्टिंग के साथ ही रेडीमेड कपड़ों पर भी इसका असका देखा जाने लगा है। कपड़े संस्थानों में हालांकि शादी सीजन व गर्मी के सीजन को देखते हुए कपड़ों की नई रेंज मंगाई जा रही है। कारोबारियों का कहना है कि इन्हें काफी पसंद भी किया जाएगा।