ब्रेकिंग
गर्मी के चलते वेस्टर्न रेलवे ने 12 एसी लोकल ट्रेनें शुरू की, जानें कहां से कहां तक हैं ये ट्रेन पुलिस की सराहनीय पहल, प्रतिभावान छात्राओं के घर-घर जाकर किया सम्मानित, बच्चों ने आईएएस, डाॅक्टर व सीए बनने की जताई ईच्छा MP में तालों में कैद भगवान! MLA आकाश विजयवर्गीय बोले- जल्द खुलेगा बोलिया सरकार छत्री का शिव मंदिर एलपीजी गैस सिलेंडर पर लेना चाहते हैं सब्सिडी, फॉलो करें यह आसान प्रोसेस सूरज की तपिश से बादलाें ने दिलाई राहत बोरिंग माफियाओं की मनमानी से इंदौर में गहराया जल संकट नहीं रोक लगा पा रहा नगर निगम, आज भी रोजाना हो रहे 20-25 अवैध बोरिंग चीनी विमान जानबूझकर नीचे लाकर क्रैश कराया गया था श्रीराम सेना का दावा- कर्नाटक में 500 अवैध चर्च ग्राम देवादा में जल सभा का आयोजन एक ही परिवार के 3 लोगों के मर्डर का खुलासा, परिजन ही निकले हत्यारे, ये बनी हत्या की वजह

अब वर्चुअल कोर्ट के माध्यम से घर बैठे जमा करें चालान

रायपुर। अगर आपने यातायात नियमों का उल्लंघन किया है और यातायात पुलिस ने चालान काट दिया है तो परेशान होने की जरूरत नहीं। दौड़भाग करने की भी जरूरत नहीं है क्योंकि अब चालान जमा करना बहुत आसान हो गया है। वर्चुअल कोर्ट के माध्यम से अब आप घर बैठे चालान जमा कर सकते हैं। दरअसल, राजधानी रायपुर छत्तीसगढ़ का पहला जिला है, जहां कोर्ट का चालान वर्चुअल माध्यम से यातायात पुलिस भेज रही है।

वर्चुअल कोर्ट चालान का शुभारंभ बीते 20 मार्च को किया गया था। वर्चुअल कोर्ट प्रारंभ होने के पूर्व ही यातायात पुलिस के अधिकारियों को इस संबंध में आवश्यक प्रशिक्षण देकर प्रशिक्षित किया जा चुका है। अब तक इलेक्ट्रॉनिक चालान डिवाइस के माध्यम से 13 प्रकरण वर्चुअल कोर्ट भेजे जा चुके हैं।

एसएसपी अजय यादव शहर की यातायात व्यवस्था को दुरुस्त करने की दिशा में लगातार प्रयास कर रहे हैं। वाहन चालकों का ई-चालान डिवाइस के माध्यम से काटा जा रहा है। इसी कड़ी में अब कोर्ट का चालान भी इलेक्ट्रॉनिक चालान डिवाइस से ही कोर्ट का चालान वर्चुअल कोर्ट के माध्यम से भेजने की कार्यवाही शुरू हो गई है।

एएसपी ट्रैफिक एमआर मंडावी ने बताया कि वर्चुअल कोर्ट भेजे जाने वाले प्रकरणों का निराकरण केंद्रीय मोटरयान अधिनियम के प्रावधानों तहत जारी समन शुल्क राशि के तहत अर्थदंड जमा करना अनिवार्य है। वर्चुअल कोर्ट चालान बनाए जाने पर कोर्ट द्वारा उल्लंघनकर्ता वाहन चालक के मोबाइल नंबर पर लिंक भेजा जाएगा। इसकी सहायता से उल्लंघनकर्ता वाहन चालक घर बैठे ही अपना चालान वर्चुअल कोर्ट में पटा सकता है।