ब्रेकिंग
आर्थिक आधार से गरीब लोगों के आरक्षण में कटौती के विरोध में आज भाटापारा अनुविभागीय अधिकारी के कार्यालय जाकर राज्यपाल के नाम ज्ञापन सौंपा गया विधानसभा विशेष सत्र। विधानसभा सत्तापक्ष पर जमकर बरसे विधायक शिवरतन शर्मा, आरक्षण रुकवाने जो लोग कोर्ट गए उन्हें मुख्यमंत्री जी पुरस्कृत करते हैं,सत्र ... Selecting the right Virtual Info Room Supplier रायपुर विधानसभा विशेष सत्र। विधानसभा में आरक्षण बिल के दौरान ब्राह्मण नेताओं पर जमकर बरसे बलौदाबाजार विधायक प्रमोद शर्मा, उनके मुंह पर करारा तमाचा मार... Making a Cryptocurrency Beginning अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद भाटापारा नगर इकाई की हुई घोषणा मंडी अध्यक्ष सुशील शर्मा ने मंडी समिति के नए सदस्य को दिलाई शपथ, उद्बोधन में कहा भारसाधक पदाधिकारीयो की नियुक्ति के बाद से मंडी लगातार चहुमुखी विकास क... मंडी अध्यक्ष सुशील शर्मा ने धान ख़रीदी केंद्रो का निरीछन कर, धान बेचने आये किसानो से मुलाक़ात कर, धान बेचने में आने वाली समस्या की जानकारी ली, किसानों... ग्राम मर्राकोना में नवीन धान उपार्जन केंद्र के शुभारंभ अवसर पर मंडी अध्यक्ष सुशील शर्मा ने कहा भूपेश सरकार किसानों की सरकार है ग्राम मर्राक़ोंना में नवीन धान उपार्जन केंद्र को मिली हरी झंडी मंडी अध्यक्ष सुशील शर्मा ने दी जानकारी

Infrastructure में निवेश के लिए National Bank के गठन का रास्ता साफ, संसद ने दी मंजूरी

नई दिल्ली। संसद ने इन्फ्रास्ट्रक्चर सेक्टर को वित्तीय मदद मुहैया कराने के उद्देश्य से नेशनल बैंक फॉर फाइनेंसिंग इन्फ्रास्ट्रक्चर एंड डेवलपमेंट (एनएबीएफआइडी) के गठन को मंजूरी दे दी। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने संसद को आश्वस्त किया है कि उसके दोनों सदनों में हर वर्ष इस बैंक के अकाउंट की ऑडिट रिपोर्ट सौंपी जाएगी। लोकसभा ने एनएबीएफआइडी बिल को इस सप्ताह मंगलवार को मंजूरी दी थी। गुरुवार को राज्यसभा की मंजूरी मिलने के बाद इस बैंक के गठन का रास्ता साफ हो गया है।

एनएबीएफआइडी का काम लंबी अवधि की इन्फ्रा परियोजनाओं को वित्तीय मदद मुहैया कराना है। बैंक इन्फ्रा परियोजनाओं को वित्तीय मदद मुहैया कराने वाले बांड्स और डेरिवेटिव्स बाजारों को भी मजबूती देगा। सीतारमण ने कहा कि कानून का रूप लेने जा रहे इस विधेयक में निजी डेवलपमेंट फाइनेंस इंस्टीट्यूशंस को पांच वर्षो तक टैक्स छूट की सुविधा दी जा रही है, ताकि बैंक में फंड का प्रवाह बना रहे। फिलहाल सरकार अपनी 100 फीसद हिस्सेदारी के साथ इसकी शुरुआत करेगी, जिसे बाद में घटाकर 26 फीसद पर लाया जाएगा।

वित्त मंत्री के मुताबिक इसमें सरकार की हिस्सेदारी उससे कम कभी नहीं होगी। सीतारमण के मुताबिक इस बैंक को 10 लाख करोड़ रुपये तक की पूंजी के लिए अधिकृत किया है। सरकार ने इसे इक्विटी के तौर पर अभी 20,000 करोड़ रुपये दिए हैं और 5,000 करोड़ रुपये अनुदान के रूप में दिए गए हैं। इसके साथ ही बैंक सरकार की गारंटी के साथ आरबीआइ से कर्ज ले सकेगा। सीतारमण ने कहा कि सरकार ने वर्ष 2019 के बजट में अगले पांच वर्षो के दौरान इन्फ्रा क्षेत्र में 100 लाख करोड़ रुपये निवेश का लक्ष्य रखा था। इसके तहत उस वर्ष के अंत तक सरकार नेशनल इन्फ्रास्ट्रक्चर पाइपलाइन लेकर आई, जिसमें इन्फ्रा क्षेत्र की 700 परियोजनाएं शामिल की गई।