ब्रेकिंग
मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने स्टेट कैंसर इंस्टीट्यूट का किया वर्चुअल भूमि पूजन कुतुब मीनार परिसर में होगी खुदाई-मूर्तियों की Iconography राष्ट्रीय स्तर के खेलों का आधारभूत ज्ञान दें विद्यार्थियों को मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने राजीव गांधी किसान न्याय योजना के तहत जिले के 13 हजार 976 किसानों के खाते में 9.68 करोड़ रूपए किया अंतरण नगरीय निकाय आरक्षण को लेकर बड़ी खबर: भोपाल में भी नए सिरे से होगा आरक्षण, बढ़ सकती है ओबीसी वार्डों की संख्या छत्तीसगढ़ की जैव विविधता छत्तीसगढ़ का गौरव है : मुख्यमंत्री भूपेश बघेल मोतिहारी के सिकरहना नदी में नहाने के दौरान तीन बच्चे डूबे मुजफ्फरपुर में प्रिंटिंग प्रेस कर्मी की गोली मारकर हत्‍या  दो माह में 13 बार बढ़ी सीएनजी की कीमत हार्दिक के जाने के बाद नरेश पटेल को रिझाने में जुटी कांग्रेस

होली के बाजार पर दिख रहा कोरोना का असर, दुकानें सजी पर ग्राहक कम

जबलपुर। रंग-गुलाल, तरह-तरह की आकर्षक पिचकारी के साथ ही कई प्रकार के मुखौटे। होली आने वाली है इसकी सूचना बाजार की रौनक को देखते ही मिल जाती है। हर बार की तरह इस बार भी बाजार तो सजा है मुखौटे, रंग-गुलाल भी हैं लेकिन खरीदारों की संख्या बहुत कम दिख रही है। बाजार में लोग पहुंच तो रहे हैं लेकिन जैसी रौनक होना चाहिए वैसी नहीं है। पहले से ही लॉकडाउन की मार झेल रहे व्यापारियों के चेहरे माहौल को देखकर उतरे हुए नजर आ रहे हैं।

ग्राहकों की कमी से व्यापारी मायूस: व्यापारियों का कहना है कि इस पूरा साल यही हाल दिख रहा है। जो बहुत ही जरूरी सामान हैं लोग बस उन्हें ही ले रहे हैं। ग्राहकी अपेक्षाकृत बहुत कम है।त्योहारों से थोड़ी उम्मीद रहती है लेकिन इस बार तो त्योहार आने के पहले ही फिर से कोरोना का संक्रमण बढ़ने की खबर आ गई। जिसने सारे उत्साह पर पानी फेर दिया। कुंदन राठौर ने बताया कि होली पर इस बार क्या ट्रेंड रहेगा। नई पिचकारियों का क्या क्रेज है, कौन सा माल मंगवाना है यह सारी तैयारियां महीने भर पहले से शुरू हो जाती हैं। सोचा था कि स्थिातियां सुधरी तो होली पर थोड़ी कमाई हो जाएगी। लेकिन एक बार फिर कोरोना संक्रमण की खबर ने हम व्यापारियों की कमर तोड़ दी है। अधिकांश लोग रविवार को ही बाजार आते हैं। रविवार को लॉकडाउन करने से बाजार के माहौल पर बहुत असर पड़ा है। रात में भी जल्दी दुकाने बंद करना पड़ती हैं।

मिठाइयाें की दुकानें भी फीकी: सिर्फ रंग-गुलाल ही नहीं मिठाइयाें की दुकानों के भी हाल अच्छे नहीं हैं। मिठाई व्यापारी चंदन असरानी ने बताया कि लोगों ने सोच लिया है कि घर पर ही मिठाई वगैरह बनाना है। बाजार से नहीं लेना है। कुछ ही लोग हैं जो बाजार से मिठाई-नमकीन ले रहे हैं।