ब्रेकिंग
भाजपा विधायक का समर्थक निकला धर्मांतरण मामले का मुख्य आरोपी सुनील जाखड़ भाजपा में हुए शामिल इंदौर में पिछड़ा वर्ग की पांच सीटें बढ़ेंगीं प्रदेश में सामाजिक सौहार्द बनाए रखना सर्वोच्च प्राथमिकता : मुख्यमंत्री चौहान जब मंटूराम ने मुख्यमंत्री को बताया कि पत्नी संग रातभर करता हूं गोबर की चौकीदारी औद्योगिक क्षेत्र पीथमपुर की पारेषण क्षमता में वृद्धि पीएम क‍िसान और राशन कार्ड के लाभार्थ‍ियों में हड़कंप, सरकार ने भेजा र‍िकवरी नोट‍िस फीचर फोन से बिना इंटरनेट भी आप कर सकते हैं UPI पेमेंट, ये है तरीका क्या जरूरी दवाइयों की कीमत कम होने वाली है? कल NPPA की बैठक में लिया जाएगा फैसला सच बोलो तो बदनाम करेंगे बड़े नेता : हार्दिक पटेल

अमेरिका: कैपिटल हिल हिंसा में पुलिसकर्मी की मौत के बाद व्हाइट हाउस का झंडा झुकाया गया, बाइडन ने जताया दुख

वाशिंगटन। अमेरिका संसद भवन एक बार फिर से दहर गया है। अमेरिकी संसद के बाहर गोलीबारी हुई। शुक्रवार को एक वाहन ने यहां दो पुलिसकर्मियों रौंद दिया जिसमें एक पुलिसकर्मी की मौत हो गई। इसके बाद से यूएस कैपिटल भवन को लॉकडाउन कर दिया है। पुलिसकर्मी विलियम बिली इवांस की मौत के बाद व्हाइट हाउस के झंडे को आधा झुका दिया गया है। सीएनएन के अनुसार, अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन ने इस घटना पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा कि वह और पहली महिला जिल बाइडन को इस घटना से काफी दुख पहुंचा है।

बाइडन ने कहा कि जिल बाइडन और मुझे अमेरिका aकैपिटल ग्राउंड पर एक सुरक्षा चौकी पर हिंसक हमले के बारे में जानने पर काफी दुख पहुंचा, जिस घटना में यूएस कैपिटल पुलिस के अधिकारी विलियम इवांस की मौत हो गई और उनके एक साथी जीवन से लड़ रह रहे हैं। राष्ट्रपति ने कहा कि हम अधिकारी इवांस के परिवार के लिए अपनी हार्दिक संवेदना और हर किसी को शोक व्यक्त करते हैं। हम जानते हैं कि कैपिटल, वहां काम करने वाले सभी लोगों और इसकी रक्षा करने वाले लोगों के लिए यह कठिन समय है।

इलाके में गोलीबारी की सूचना के बाद पुलिस ने शुक्रवार दोपहर (स्थानीय समयानुसार) यूएस कैपिटल को बंद कर दिया। अमेरिकी कैपिटल पुलिस का कहना है कि सभी कैपिटल बिल्डिंग्स को ‘बाहरी सुरक्षा खतरे के चलते’ बंद कर दिया गया है और कर्मचारियों को सूचित कर दिया गया है कि वे इमारतों में ‘एंट्री’ या ‘एग्जिट’ नहीं कर सकते।

बता दें कि कार टकराने और गोलीबारी की यह घटना कैपिटॉल के पास एक तलाशी चौकी पर हुई. इस घटना ने करीब तीन महीने पहले अमेरिकी कैपिटॉल में घुसी भीड़ द्वारा मचाए गए उत्पात की यादें ताजा कर दी, जब राष्ट्रपति पद पर जो बाइडेन की जीत के संबंध में अमेरिकी संसद के सदस्य मतदान कर रहे थे।