Jain
ब्रेकिंग
महू में दो गुटों में विवाद के बाद बम फोड़ा; 2 की मौत, 15 से ज्यादा घायल रोटी भी बदल सकती है किस्मत डीजीपी का सिल्वर मेडल भी आज लखनऊ में देंगे एडीजी जोन,खुशी की लहर देर शाम आई सभी के पास प्रशासन फोन कॉल, 30 स्वतंत्रता सेनानियों के आश्रितों किया गया था आमंत्रित आजादी के अमृत महोत्सव के लिए रंग बिरंगी रोशनियों से सजा ग्वालियर दुगरी फेस-1 में हुआ हमला,अदालत में गवाही न देने के लिए हमलावर बना रहे थे दबाव भाजयुमो के मंत्री ने कार के सन रूफ से निकलकर झंडे की फोटो की थी पोस्ट 100 फूट ऊंचा लहरा रहा तिरंगा,लाइटों से जगमगाया शहर, दुल्हन की तरह सजी सड़कें रैली निकालकर लगाए भारत माता की जयकारे, बच्चों और ग्रामीणों ने किया समरसता भोज राजस्व एवं आपदा प्रबंधन मंत्री जयसिंह अग्रवाल ने किया ध्वजारोहण

चीन के निशाने पर है फाइव फिंगर के साथ लद्दाख और अरुणाचल प्रदेश, तिब्बती नेता ने बताया ‘ड्रैगन’ का प्लान

नई दिल्ली। तिब्बत पर कब्जा कर चीन ने शुरुआत की है, उसके निशाने पर फाइव फिंगर कहे जाने वाले इलाके भी हैं। यह बात तिब्बत की निर्वासित सरकार के प्रमुख लोबसांग सांग्ये ने कही है। वह लोकतंत्र, मानवाधिकारों और बहुलतावाद पर आयोजित कार्यक्रम में बोल रहे थे। सांग्ये ने कहा, चीन की विस्तारवादी नीति पूरे विश्व समुदाय और उसके बनाए नक्शे में आने वाले क्षेत्रों के लिए खतरा है। चीन और भारत के बीच के बफर स्टेट तिब्बत पर कब्जा कर चीन ने अपनी सीमा भारत तक बढ़ा ली है।

चीन अब भारत के साथ सीमा विवाद बनाए रखना चाहता है। तिब्बत पर कब्जा चीन की शुरुआत थी। अब वह उससे आगे बढ़ना चाह रहा है। उसके निशाने पर फाइव फिंगर हैं। इन पर कब्जा कर वह पूरे इलाके में अपनी स्थिति मजबूत करना चाहता है। चीन की कम्युनिस्ट पार्टी तिब्बत को हथेली मानती है जबकि लद्दाख, नेपाल, सिक्किम, भूटान और अरुणाचल प्रदेश को पांच फिंगर मानती है। इन पर कब्जा करना अपना धर्म मानती है। ऐसा कर वह अपने हाथ को मजबूत करना चाहती है।

भारत को यह बात समझनी चाहिए। देखना चाहिए कि शिनजियांग और हांगकांग में क्या हो रहा है। सभी बातों को समझते हुए चीन के साथ संबंध बनाने चाहिए। शिनजियांग का मामला किसी एक देश और समुदाय का नहीं है। इसके लिए पूरी विश्व बिरादरी को एकजुट होकर खड़े होना चाहिए। क्योंकि अगर अभी उन्होंने ऐसा नहीं किया तो चीन का दायरा बढ़ता जाएगा और वह अपनी सुविधा के अनुसार इलाकों पर कब्जा करता चला जाएगा। एक समय के बाद कोई उसका कुछ नहीं कर पाएगा।

लोबसांग ने कहा कि भारत को समझना चाहिए कि तिब्बत में जो हो रहा है वह ब्लूप्रिंट है और यह शिनजियांग और हांगकांग में भी हो रहा है। चीन को समझिए और उसी मुताबिक उससे निपटिए। उन्होंने कहा कि बहुलवाद और विविधता, मानवाधिकार और स्वतंत्रता भारत को एकजुट करते हैं। लोबसांग ने आरोप लगाए कि चीन की विस्तारवादी नीतियां विश्व समुदाय के लिए ‘‘खतरा’’ है।