ब्रेकिंग
आर्थिक आधार से गरीब लोगों के आरक्षण में कटौती के विरोध में आज भाटापारा अनुविभागीय अधिकारी के कार्यालय जाकर राज्यपाल के नाम ज्ञापन सौंपा गया विधानसभा विशेष सत्र। विधानसभा सत्तापक्ष पर जमकर बरसे विधायक शिवरतन शर्मा, आरक्षण रुकवाने जो लोग कोर्ट गए उन्हें मुख्यमंत्री जी पुरस्कृत करते हैं,सत्र ... Selecting the right Virtual Info Room Supplier रायपुर विधानसभा विशेष सत्र। विधानसभा में आरक्षण बिल के दौरान ब्राह्मण नेताओं पर जमकर बरसे बलौदाबाजार विधायक प्रमोद शर्मा, उनके मुंह पर करारा तमाचा मार... Making a Cryptocurrency Beginning अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद भाटापारा नगर इकाई की हुई घोषणा मंडी अध्यक्ष सुशील शर्मा ने मंडी समिति के नए सदस्य को दिलाई शपथ, उद्बोधन में कहा भारसाधक पदाधिकारीयो की नियुक्ति के बाद से मंडी लगातार चहुमुखी विकास क... मंडी अध्यक्ष सुशील शर्मा ने धान ख़रीदी केंद्रो का निरीछन कर, धान बेचने आये किसानो से मुलाक़ात कर, धान बेचने में आने वाली समस्या की जानकारी ली, किसानों... ग्राम मर्राकोना में नवीन धान उपार्जन केंद्र के शुभारंभ अवसर पर मंडी अध्यक्ष सुशील शर्मा ने कहा भूपेश सरकार किसानों की सरकार है ग्राम मर्राक़ोंना में नवीन धान उपार्जन केंद्र को मिली हरी झंडी मंडी अध्यक्ष सुशील शर्मा ने दी जानकारी

लगातार 4 छक्के ठोककर ब्रैथवेट ने वेस्टइंडीज को जिताया था वर्ल्ड कप, रो पड़े थे इंग्लैंड के खिलाड़ी

नई दिल्ली। World Cup 2016 Final: क्रिकेट वाकई में अनिश्चितताओं का खेल है, ये साल 2016 में आज ही के दिन यानी 3 अप्रैल को भलीभांति साबित हो गया था। कई मौकों पर क्रिकेट के खेल को ऊपर-नीचे देखा जाता है, लेकिन आज से ठीक 5 साल पहले इंग्लैंड की टीम के हाथ से जीता हुआ टी20 विश्व कप का खिताब निकल गया था। 20-20 ओवर का खेल महज चार गेंदों में पलट गया था।

दरअसल, 3 अप्रैल 2016 को कोलकाता के ईडन गार्डेंस मैदान पर टी20 विश्व कप का फाइनल मुकाबल इंग्लैंड और वेस्टइंडीज की टीम के बीच खेला गया था। वेस्टइंडीज टीम के कप्तान डैरेन सैमी ने टॉस जीतकर गेंदबाजी करने का फैसला किया था। इस तरह इंग्लैंड की टीम ने पहले बल्लेबाजी करते हुए 20 ओवर खेलकर 9 विकेट खोकर 155 रन बनाए थे, जिसमें जो रूट की 54 और जोस बटलर की 36 रन की पारी शामिल थी।

उधर, 156 रन का लक्ष्य वेस्टइंडीज के लिए बड़ा भी था, क्योंकि टी20 विश्व कप का फाइनल था। ये बड़ा उस समय भी साबित हुआ, जब 19 ओवर में वेस्टइंडीज की टीम 137 रन बना पाई थी। आखिरी के ओवर में जीत के लिए वेस्टइंडीज को 19 रनों की दरकार थी। क्रीज पर कार्लोस ब्रैथवेट और 85 रन पर नाबाद खेल रहे मार्लोन सैमुअल्स थे। स्ट्राइक ब्रैथवेट के पास थी, जिनका नाम विश्व क्रिकेट में उस समय तक बहुत कम लोग जानते थे।

इंग्लैंड के लिए 19 रन गेंदबाज बेन स्टोक्स को डिफेंड करने थे, लेकिन ब्रैथवेट को ये मंजूर नहीं थी। ब्रैथवेट ने स्टोक्स की पहली गेंद पर छक्का जड़ दिया। अभी भी इंग्लैंड को जीत की आस थी, लेकिन जैसे ही दूसरी गेंद पर छक्का पड़ा तो इंग्लैंड के होश उड़ गए। इसके बाद तीसरी गेंद पर भी ब्रैथवेट ने स्टोक्स को लंबा छक्का जड़ा और स्कोर बराकर कर दिया। चौथी गेंद पर फिर से छक्का ब्रैथवेट ने ठोका और वेस्टइंडीज को जीत दिला दी। इसके बाद बेन स्टोक्स समेत इंग्लैंड के कई खिलाड़ी भावुक नजर आए, जिन्हें इयोन मोर्गन जैसे मजबूत खिलाड़ियों ने समझाया। वेस्टइंडीज के लिए ये दूसरा विश्व कप खिताब था।