बिलासपुर में चर्च में मना गुड फ्राइडे, घरों से की गई आनलाइन आराधना

बिलासपुर।  ईसाई समाज के लोगों ने गुड फ्राइडे श्रद्धा के साथ मनाया। शहर के सभी चर्च में विशेष आराधना हुई, वक्ताओं ने अपनी बात रखी और क्रूस बलिदान पर समाज के लोगों प्रभु यीशु के बलिदान को याद करते हुए त्याग का संकल्प लिया। हालांकि बड़ी संख्या में समाज के लोगों ने अपने-अपने घरों में रहकर आनलाइन आराधना की।

डिसाइपल्स आफ क्राइस्ट चर्च सिविल लाइंस समेत सेक्रेट हार्ट चर्च, सेंट पलोटी चर्च समेत अन्य सभी चर्च में गुड फ्राइडे आस्था के साथ मनाई गई। सभी जगह अलग-अलग तरह की व्यवस्थाएं की गई थीं। कोरोना गाइड-लाइन का पालन करते हुए सीमित संख्या में ही प्रवेश जिसमें वक्ताओं, चर्च के प्रमुखों व पठन और वाचन करने वालों को प्राथमिकता दी गई थी। इसके अलावा उनके लिए शारीरिक दूरी का पालन करने, सैनिटाइजर का इस्तेमाल और मास्क की अनिवार्यता थी।

वहीं समाज के अन्य लोगों को घरों में ही रहकर आनलाइन जुड़ने की अपील की गई थी। डिसाइपल्स चर्च में भी तय योजना के अनुसार आराधना की शुरुआत सुबह 9.50 बजे से की गई। आराधना संचालक रेव्ह. अनुराग नथानिएल के नेतृत्व में हुआ। उत्तरवादी पाठ इतिशा थामसन ने किया। पास्टोरल प्रार्थना पादरी डी. ख्रीस्ट ने किया। इस दौरान क्रूस पर से कही गई प्रथम वाणी हे पिता, इन्हें क्षमा कर, क्योंकि ये नहीं जानते कि ये क्या कर रहे हैं.. बाइबिल पठन मनन रश्मि डायमंड व प्रार्थना नीता प्रकाश की ओर से की गई।

इसके बाद क्रूस पर से कही गई द्वितीय वाणी आज ही तू मेरे साथ स्वर्गलोक में होगा बाइबिल पठन में मनन इंदु पन्न्ालाल व प्रार्थना समीक्षा बरकत मसीह ने की। क्रूस पर से कही गई तृतीय वाणी हे नारी देख यह तेरा पुत्र बाइबिल पठन में मनन जितिशा जेम्स व प्रार्थना सृष्टि मसीह की ओर से की गई। इसके साथ ही भेंटों व धन्यवादी भेंटों का उठाया जाना विशेष सामूहिक रूप से किया गया। इसी तरह पूरी सातवीं वाणी तक का वाचन, मनन व प्रार्थना की होती रही।

ईस्टर संडे की आराधना सुबह 7.30 बजे से

रविवार को ईस्टर की आराधना सुबह साढ़े सात बजे से शुरू होगी। आराधना संचालक रेव्ह. नअुराग नथानिएल, आराधना की पुकार के साथ ही प्रारंभिक गीत, उत्तरवादी पाठ, बाइबिल पठन समेत अन्य आयोजन किए जाएंगे। अन्य सभी चर्च में भी इसी तरह के आयोजन होंगे।