Jain
ब्रेकिंग
प्लॉट खरीदते समय इन बातों का रखें ध्यान, बढ़ेगी सकारात्मक ऊर्जा और होगा भरपूर लाभ कर्ज से मुक्ति के लिए आजमाएं वास्तु शास्त्र से जुड़े उपाय भगवान कृष्ण से सम्बंधित 13 खास मंदिर 14 घंटे रेस्क्यू चलने के बावजूद 17 लोगों को नहीं खोज सके; घाटों पर गोताखोर तैनात जहां सीएम मनाएंगे अमृत महोत्सव, वहां कलेक्टर-आईजी ट्रैक्टर से पहुंचे भाद्रपद माह में जन्माष्टमी और गणेश उत्सव जैसे कई बड़े त्योहार घर में इस जगह पर रखें फेंगशुई ड्रैगन, सकारात्मक ऊर्जा का होगा संचार और बरसेगा धन इन लॉकेट को पहनने के जानें फायदे और नुकसान, धारण करने के जानें नियम सुबह से खिली है तेज धूप; जुड़ने लगे हैं गंगा के घाट अंबाला कैंट के PWD रेस्ट हाउस में सुनेंगे शिकायतें

अमंगल से बचाने मंगल से दुर्ग जिला लॉक, कार्मिकों की छुट्टी रद

रायपुर। छत्तीसगढ़ में कोरोना के संक्रमण की दूसरी लहर प्रचंड रूप धारण करती जा रही है। कोरोना से संक्रमित होने वालों की संख्या तेजी से बढ़ रही है। इसे देखते हुए प्रदेश के 20 जिलों में नाइट कर्फ्यू लगाना पड़ा है। वहीं अब दुर्ग में जिला प्रशासन ने पूर्ण लाकडाउन का आदेश जारी कर दिया है। साथ ही अ

छह से 14 अप्रैल तक दुर्ग जिला पूरी तरह लाक रहेगी। वहीं, बेमेतरा जिला के शहरी सीमा में दोपहर दो बजे के बाद लाकडाउन का फैसला किया गया है। प्रदेश के कई जिलों में साप्ताहिक बाजारों पर भी रोक लगा दी गई है। इस बीच स्वास्थ्य विभाग ने अपने सभी अधिकारियों- कर्मचारियों की छुट्टी रद कर दी है।

वैक्सीनेशन में तेजी लाने की कोशिश

कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के साथ की वैक्सीनेशन में भी तेजी लाने के प्रयास किए जा रहे हैं। संचालक राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन एवं स्टेट नोडल वैक्सीनेशन डा. प्रियंका शुक्ला ने बताया कि गुरुवार को प्रदेश में 2,378 सेशन साइट पर कुल दो लाख 34 हजार 397 को कोविड-19 की डोज दी गई। 45 वर्ष से अधिक आयु समूह के दो लाख 22 हजार 633 को पहली डोज दी गई। उन्होंने कहा कि आगामी दिनों में यह संख्या और बढ़ाई जाएगी।

एक दिन में सर्वाधिक पाजिटिव केस के मामले में गुरुवार को छत्तीसगढ़ देश में दूसरे स्थान पर रहा। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की रिपोर्ट के अनुसार गुरुवार को राज्य में 4,563 केस मिले। यह महाराष्ट्र के 39,544 के बाद देश में सबसे ज्यादा है। इस रिपोर्ट के अनुसार कर्नाटक तीसरे नंबर पर रहा। वहां चौबीस घंटें 4,225 केस मिले हैं।

जिला मुख्यालय में ही रहना होगा

स्वास्थ्य विभाग ने जारी आदेश में कहा है कि कोरोना वायरस से बचाव और आवश्यक तैयारी के लिए अधिकारी-कर्मचारियों की उपस्थिति जरूरी है। इससे सभी संस्थाओं में आवश्यक व्यवस्थाओं के साथ समुचित इलाज और संभावित मरीजों का कोरोना संक्रमण से बचाव हो सके। इसी उद्देश्य से सभी अधिकारी-कर्मचारियों की छुट्टियां निरस्त कर दी गई है। यदि किसी अधिकारी-कर्मचारी को विशेष परिस्थिति को देखते हुए अवकाश की आवश्यकता पड़ जाए तो जिला कलेक्टर के अनुमति के बाद ही अवकाश दिया जाएगा। इसके बाद ही जिला मुख्यालय से बाहर जा सकते हैं।

लगी पाबंदी

– बेमेतरा जिला के शहरी सीमा में लगा आंशिक लाकडाउन

– प्रदेश के कई जिलों में साप्ताहिक बाजारों पर लगी रोक

– 28,987 सक्रिय केस, देश में दूसरे स्थान पर