ब्रेकिंग
CM के कार्यक्रम में भाषण कांग्रेस MLA को रोका था वहीं काम करने वाले ट्रैक्टर ड्राइवर पर आरोप, पुलिस के पहुंचने से पहले हुआ फरार महिलाओं के लिए मिसाल बन रही हैं बस्तर की पहली महिला ‘मोटर मैकेनिक’- हेमवती नाग सुपरिटेंडेंट इंजीनियर समेत 3 अधिकारी निलंबित; मंत्री हरभजन सिंह ने दिए जांच के आदेश रजिस्ट्री कराने आए लोग परेशान, जरनेटर भी सालों से खराब, कोई वैकल्पिक व्यवस्था भी नहीं टेंट हाउस व्यापार कैसे शुरू करें | How to Start Tent House or Stage Business in Hindi संचालक डॉ. मेहिया और कुलपति डॉ. तिवारी वीसीआई में सदस्य मनोनीत मुख्यमंत्री बघेल का माता चंडी मंदिर से भेंट-मुलाकात कार्यक्रम स्थल तक रोड शो के दौरान ग्रामीणों ने किया जोरदार स्वागत मुख्यमंत्री बघेल ने माता चंडी मंदिर में पूजा अर्चना कर प्रदेशवासियों की सुख, समृद्धि की कामना की धान और तिलहन की समर्थन मूल्य पर होगी खरीदी

मंडला में बबैहा नाला पुल से करीब 30 फीट नीचे गिरी कार

मंडला। मंडला जिला मुख्यालय से करीब 15 किमी दूर बबैहा नाला पुल से एक कार नीचे गिर गई है। घटना शनिवार की देर रात की बताई गई है। रात में ही जानकारी लगते ही पुलिस को सूचना दी गई है। पुल के नीचे पानी होने से कार का पता नहीं चल पाया है। रेस्क्यू अभियान जारी है। नाला में पानी अधिक होने से अब तक कार का पता नहीं चल सका है।

मिली जानकारी के अनुसार जबलपुर से मंडला की ओर रात 10 बजे के लगभग कार आ रही थी। रात में आ रही कार अनियंत्रित होकर नीचे पुल में जा गिरी। बताया जा रहा है पीछे बाइक में आ रहे ग्रामीणों ने देखा और इसकी जानकारी पुलिस को दी। जिसके बाद एसडीआरएफ की टीम ने खोज अभियान चलाया। लेकिन रात होने से इसमें बाधा आई। अब सुबह से फिर एसडीआरएफ की टीम खोज अभियान चलाए हुए है। स्थानीय ग्रामीण भी बड़ी संख्या में पहुंच गए है। कार के बारे में अब तक कुछ भी जानकारी नहीं लग सकी है। वह गाड़ी कहां की थी। किसकी है यह पता नहीं चल सका है।

तीन बजे तक चला रेस्क्यू अभियान: घटना की सूचना मिलते ही क्षेत्रीय नागरिक और जिला पंचायत उपाध्यक्ष शैलेश मिश्रा मौके पर तत्काल पहुुंच गए थे। जानकारी मिलने के बाद रेस्क्यू दल रात 3 बजे तक खोज अभियान में लगा रहा। मौके पर ही मौजूद उन्होंने ने बताया कि बबैहा नाला में करीब 30 फीट पानी है। जिससे चलते अभी कार का पता नहीं चल सका है। तलाशी अभियान चल रहा है।

पुल के आसपास भीड़ लगी: घटना के बाद जहां रात्रि में ही बड़ी संख्या में लोग जुट गए थे। वही सुबह होते ही फिर बड़ी संख्या में लोग पहुंच गए है।