Jain
ब्रेकिंग
रमा देवी बंशीलाल गुर्जर और नम्रता प्रितेश चावला के नाम पर चल रहा मंथन महिलाओं की उंगलियां होती है ऐसी, स्वभाव से होती हैं गंभीर और बड़ी खर्चीली इन चीजों से किडनी हो सकती है खराब दिल्ली से किया था नाबालिग को अगवा, CCTV फुटेज से आरोपियों की हुई थी पहचान गृह विभाग में अटकी फ़ाइल, क्या रिटायर्ड होने के बाद होगा प्रमोशन एशिया कप के लिए टीम का ऐलान आज वास्तु की ये छोटी गलतियां कर सकती हैं आपका बड़ा नुकसान, खो सकते हैं आप अपना कीमती दोस्त आय से अधिक संपत्ति मामले में शिबू सोरेन को लोकपाल का नोटिस बाइक से कोरबा लौटने के दौरान हादसा, दूसरे जवान की हालत गंभीर; पुलिस लाइन में पदस्थ थे दोनों | road accident in chhattisharh; bike rider chhattisgarh p... खरीदें Redmi का शानदार 5G स्मार्टफोन

मालवा-निमाड़ अंचल में कोरोना के टीके का टोटा… कहीं खत्म तो कहीं केंद्र घटाए

कोरोना से जंग के लिए अब तक के सबसे अहम हथियार टीके का ही टोटा पड़ने लगा है। अंचल के नौ जिलों में कहीं वैक्सीन खत्म हो चुकी है तो कहीं इसकी कमी के कारण टीकाकरण केंद्रों की संख्या कम करना पड़ गई है। अधिकारियों का कहना है कि मांग पूर्व में ही भेजी जा चुकी थी। अब इंतजार और भी बढ़ सकता है।

झाबुआ में शून्य स्टाक के निर्देश : झाबुआ जिले में कम वैक्सीन होने से केंद्रों की संख्या घटा दी गई। गुरुवार को 100 केंद्रों पर टीका लग रहा था लेकिन शनिवार को 400 वैक्सीन होने से केवल तीन केंद्र झाबुआ, थांदला व पेटलावद में ही वैक्सीनेशन किया गया। शनिवार दोपहर तीन बजे तक ही वैक्सीन खत्म हो चुकी थी ।

इंदौर संभाग के अधिकांश जिलों में डेढ़ से दो दिन का डोज उपलब्ध है। शनिवार को इंदौर और उज्जैन संभाग के लिए 73500 डोज पहुंचे। इनमें से शनिवार को उज्जैन संभाग को अलाट हुए डोज दे दिए गए। जल्द ही हमारी टीम भोपाल से दोनों संभाग के बचे 29 हजार 100 डोज लेकर आएगी। जिले को डोज देने का निर्णय भोपाल स्तर पर होता है। – डा. अशोक डागरिया क्षेत्रीय संचालक स्वास्थ्य सेवाए

भारत सरकार द्वारा सभी जिलों को लक्ष्य के अनुसार वैक्सीन का आवंटन किया जाता है। जैसे-जैसे हमारे पास शासन से वैक्सीन की आती जा रही है, हम हर जिले को भेजते जा रहे हैं। शनिवार को भी 74 हजार वैक्सीन आई जो इंदौर सहित संभाग के सभी जिलों में आवंटन के हिसाब से भिजवा दी गई है। यह लगातार चलने वाला क्रम है। – डा. पवन शर्मा, कमिश्नर, इंदौर संभाग

शाजापुर : शनिवार को 18 केंद्रों पर 1368 डोज थे। दोपहर बाद वैक्सीन नहीं होने से टीकाकरण बंद हो गया।

बड़वानी : शनिवार दोपहर तक यहां भी वैक्सीन लगभग खत्म होने की स्थिति थी।

धार : जिले में शनिवार को पांच हजार वैक्सीन ही उपलब्ध थी। केंद्रों की संख्या 63 से 43 कर दी गई।

मंदसौर : जिले में शनिवार सुबह तक वैक्सीन के चार हजार डोज बचे थे, जो शाम तक लोगों को लगा दिए गए।

खंडवा : जिले में शनिवार को छह केंद्रों पर टीकाकरण किया गया। कुल 2800 डोज बचे थे। जिला टीकाकरण अधिकारी डा. अनील तंतवार के अनुसार रात तक इंदौर से वैक्सीन पहुंचेगी।

खरगोन : जिले में 74 केंद्रों पर टीकाकरण किया जा रहा है। जिले में पर्याप्त वैक्सीन है। रविवार तक जिले में वैक्सीन की खेप आ जाएगी।

देवास : जिले में शनिवार को वैक्सीन खत्म हो गई है। 54 में से 35 सेंटरों पर पांच हजार डोज लगाए गए।

उज्जैन में 10 हजार डोज हैं। 167 केंद्रों पर टीकाकरण चल रहा है। यहां भी डोज की कमी है।

अंचल में जांच बढ़ाई रिपोर्ट में हो रही देर

खंडवा : जिले में हर रोज 350 से 400 तक जांच हो रही है। प्रतिदिन 250 से 300 सैंपल प्रक्रियाधीन रह रहे हैं।

खरगोन : जिले में 600 सैंपल लिए जा रहे हैं। पिछले माह 400 सैंपल लिए जा रहे थे। जांच रिपोर्ट आने में आठ से दस दिनों का समय लग रहा है।

झाबुआ : जिले में 200 से 250 के बीच जांच हो रही है। एक माह पहले तक 100 के आसपास हो रही थी। करीब 150 से 200 सैंपल पेंडिंग चल रहे हैं।

बड़वानी : जिले में ढाई सौ से तीन सौ जांच हो रही है। गत माह औसत डेढ़ सौ जांच हो रही थी। प्रतिदिन सौ से डेढ़ सौ सैंपल पेंडिंग भी हो रही हैं।

धार : जिले में 300 से 400 के बीच जांच हो रही है। एक माह पहले 200 जांच हो रही थी। 350 सैंपल प्रतिदिन पेंडिंग या प्रक्रिया में रह रही हैं। तीन दिन का समय लग रहा है।

देवास : जिले में 500 से 600 जांच हो रही है। एक माह पहले 200 से 300 जांच प्रतिदिन हो रही थी। यहां 100 प्रतिशत जांच हो रही है। रोज करीब 350 से 400 सैंपल पेंडिंग चल रहे हैं।