ब्रेकिंग
उदयपुर हत्याकांड के विरोध में बंद रहा बाजार, चप्पे-चप्पे पर तैनात रहे जवान यूपीएसएसएससी पीईटी नोटिफिकेशन जारी काशी विश्वनाथ धाम में अब बज सकेगी शहनाई, होंगी शादियां प्रदेश में मंत्री से लेकर संतरी तक भ्रष्टाचार में संलिप्त, भ्रष्टाचारियों की गिरफ्तारी के मुद्दे पर आप लड़ेगी निगम चुनाव अज्ञात युवकों ने कॉलेज कैंटीन में बैठे 3 छात्रों पर किया तेजधार हथियार से हमला; 1 की हालत गंभीर सिवनी कोर्ट परिसर में न्यायाधीशों समेत 27 ने किया रक्तदान, वितरित किए प्रमाण पत्र पड़ोस में रहने आयी छात्रा से जान पहचान बना डिजिटल रेप करने वाले आरोपी को पुलिस ने किया गिरफ्तार लोगों ने की आरोपियों को फांसी की सजा देने की मांग, टायर जलाकर की नारेबाजी 12 जुलाई को देवघर जाएंगे पीएम मोदी रिलायंस जिओ डीटीएच प्लान्स ऑफर और आवेदन की जानकारी | Reliance Jio DTH Setup Box Plan Offer Online Booking Information in hindi

इंदौर के सुपर स्पेशिएलिटी अस्पताल का बिगड़ा मैनेजमेंट, कर्मचारियों की नियुक्ति में जुटी एजेंसी

इंदौर। सुपर स्पेशिएलिटी अस्पताल में मरीजों की संख्या पिछले 15 दिन में बढ़ी तो यहां की व्यवस्थाओं को मैनेज करने में अस्पताल प्रबंधन के हाथ पांव फूल गए। अस्पताल में सफाईकर्मी व अन्य स्टाफ की पहले से कमी चल रही है। ऐसे में एमजीएम मेडिकल कालेज ने अब यहां एचएमएस कंपनी को 120 लोगों के स्टाफ के साथ व्यवस्थाएं संभालने का जिम्मा सौंपा है। कंपनी ने अब कर्मचारियों की नियुक्ति शुरू की है। अभी तक कंपनी ने 45 कर्मचारियों की नियुक्ति कर उन्हें अस्पताल के चौथे व पांचवें फ्लोर पर तैनात किया है। एचएमएस कंपनी के सुपरवाइजर साजिद खान के मुताबिक हम लगातार कर्मचारियों की नियुक्ति कर रहे हैं और उसके साथ ही उन्हें आन स्पाट प्रशिक्षण भी दे रहे हैं। सामान्य हाउस कीपिंग के मुकाबले अस्पताल में हाउस कीपिंग का कार्य अलग होता है। अस्पताल में बायोमेडिकल वेस्ट, आर्गन वेस्ट, सूखा व गीला कचरा सहित छह प्रकार का कचरा अलग करना होता है। ऐसे में नए लोगों को ये सारी चीजें सिखानी व समझानी पड़ती है। हम अगले 15 दिन में अस्पताल में 120 कर्मचारियों की नियुक्ति कर काम शुरू कर देंगे

रविवार को एक फौजी ने किया हंगामा : सुपर स्पेशिएलिटी अस्पताल में वर्तमान में 349 मरीज भर्ती हैं। स्वजनों को भर्ती मरीजों की जानकारी नहीं मिल पाती है। इस वजह से अक्सर हंगामा होता है। रविवार को भी एक फौजी ने अपने भर्जी स्वजन की जानकारी नहीं मिलने पर हंगामा किया। अस्पताल के अधीक्षक डा. सुमित शुक्ला के मुताबिक अस्पताल में कोविड संक्रमित मरीज ही भर्ती होते हैं। इस वजह से पहले स्वजनों को अस्पताल के काउंटर तक आने देते थे। भीड़ बढ़ने लगी तो हमने मरीजों को काउंटर तक आने से रोका है।

मरीजों को दे रहे हैं भोजन घर का खाना भी पहुंचा रहे

डा. सुमित शुक्ला के मुताबिक अस्पताल में भर्ती मरीजों को शासन की ओर सुबह का नाश्ता, दोनों टाइम का भोजन, चाय व दूध दिया जा रहा है। इसके बाद भी जो स्वजन अपने मरीज को घर का भोजन देने आते हैं उनके लिए तीन-चार कर्मचारी रनर के रूप में रखे हैं। हमने अस्पताल में दो स्मार्ट फोन रखे हैं। जिन मरीजों के पास फोन नहीं होते हैं वे हेल्प डेस्क पर सूचना देकर स्वजनों से वीडियो काल पर बात कर सकते हैं।