ब्रेकिंग
आर्थिक आधार से गरीब लोगों के आरक्षण में कटौती के विरोध में आज भाटापारा अनुविभागीय अधिकारी के कार्यालय जाकर राज्यपाल के नाम ज्ञापन सौंपा गया विधानसभा विशेष सत्र। विधानसभा सत्तापक्ष पर जमकर बरसे विधायक शिवरतन शर्मा, आरक्षण रुकवाने जो लोग कोर्ट गए उन्हें मुख्यमंत्री जी पुरस्कृत करते हैं,सत्र ... रायपुर विधानसभा विशेष सत्र। विधानसभा में आरक्षण बिल के दौरान ब्राह्मण नेताओं पर जमकर बरसे बलौदाबाजार विधायक प्रमोद शर्मा, उनके मुंह पर करारा तमाचा मार... अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद भाटापारा नगर इकाई की हुई घोषणा मंडी अध्यक्ष सुशील शर्मा ने मंडी समिति के नए सदस्य को दिलाई शपथ, उद्बोधन में कहा भारसाधक पदाधिकारीयो की नियुक्ति के बाद से मंडी लगातार चहुमुखी विकास क... मंडी अध्यक्ष सुशील शर्मा ने धान ख़रीदी केंद्रो का निरीछन कर, धान बेचने आये किसानो से मुलाक़ात कर, धान बेचने में आने वाली समस्या की जानकारी ली, किसानों... ग्राम मर्राकोना में नवीन धान उपार्जन केंद्र के शुभारंभ अवसर पर मंडी अध्यक्ष सुशील शर्मा ने कहा भूपेश सरकार किसानों की सरकार है ग्राम मर्राक़ोंना में नवीन धान उपार्जन केंद्र को मिली हरी झंडी मंडी अध्यक्ष सुशील शर्मा ने दी जानकारी ट्रक चोरी करने वाले 06 आरोपियो को किया गया गिरफ्तार, मंडी के पास लिंक रोड के किनारे खड़ी ट्रक को किया था चोरी, उड़ीसा से हुई बरामद रायपुर में शिवमहापुराण कथा:पंडित प्रदीप मिश्रा का प्रवचन सुनने लाखों लोग पहुंचे , अनुमान से अधिक लोगों के पहुंचने के कारण पंडित जी को कहना पड़ा घर में...

बासागुड़ा कभी थी सबसे बड़ी मंडी, नक्सलवाद ने छीनी रौनक

जगदलपुर/बीजापुर। केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह बीजापुर के उसूर ब्लाक के बासागुड़ा पहुंचे। वे वहां नक्सल हमले के बाद के हालात की समीक्षा करने के साथ तैनात जवानों का मनोबल भी बढ़ाने आए। बीजापुर जिले के जिस बासागुड़ा में केंद्रीय गृहमंत्री पहुंचे, वह कभी दक्षिण बस्तर के वनोपजों की सबसे बड़ी मंडी हुआ करती थी। आदिवासी संग्राहक इमली, महुआ, चिरौंजी व अन्य वनोपज यहां साप्ताहिक बाजार दिवस शुक्रवार को बेचने लाते थे। बासागुड़ा काफी समृद्ध हुआ करता था। यह जगदलपुर से करीब 200 किमी व जिला मुख्यालय से 50 किमी दूर है। वर्ष 2000 में राज्य बनने तक बासागुड़ा संभाग व जिला मुख्यालय बस्तर से सड़क मार्ग से जुड़ा था। वहां तक राज्य परिवहन निगम की बसें जाती थीं।

बीते करीब दो दशक में हालात बदल गए हैं। नक्सलवाद ने इसकी रौनक छीन ली है। साप्ताहिक बाजार के दिन भी खास चहल-पहल नहीं रहती। बाजार दिवस पर भी नक्सलियों की स्माल एक्शन टीम जवानों व अन्य लोगों पर हमले कर चुकी है। जो बासागुड़ा कभी चिरौंजी की सबसे बड़ी मंडी हुआ करता था वह अब वीरान हो गया है। यहां से बड़ी संख्या में आबादी का पलायन हुआ है। इसे इस बात से भी समझा जा सकता है कि वर्ष 2001 में 266 परिवार थे और इसकी आबादी 1169 थी। 2011 की जनगणना के अनुसार बासागुड़ा में 61 परिवार निवासरत हैं जिनकी कुल आबादी 285 है। 2020 में यहां की जनसंख्या 329 आंकलित की गई है। तालपेरू नदी बासागुड़ा को दो भागों में बांटती है। इसके ओर पुरानी बस्ती तो दूसरी ओर थाना व कैंप हैं।

शाह के दौरे के मायने

बासागुड़ा से करीब 20 किमी आगे तर्रेम है। उसके आगे सिलगेर पड़ता है। उस क्षेत्र में नक्सलियों से हुए मुठभेड़ में 22 जवानों की शहादत के बाद गृहमंत्री अमित शाह का दौरा कई मायनों में खास माना जा रहा है। बासागुड़ा के अलावा इलाके के तर्रेम, न्यू तर्रेम, सारकेगुड़ा, मुरकीनार, तिम्मापुर में सीआरपीएफ के कैंप हैं, जहां हजारों जवान नक्सलवाद को नेस्तनाबूत करने अपने जान की बाजी लगाए हुए हैं। दो दिन पहले हुए मुठभेड़ में भी इलाके में तैनात सीआरपीएफ 168 बटालियन के जवानों ने बलिदान दिया है।