Jain
ब्रेकिंग
महू में दो गुटों में विवाद के बाद बम फोड़ा; 2 की मौत, 15 से ज्यादा घायल रोटी भी बदल सकती है किस्मत डीजीपी का सिल्वर मेडल भी आज लखनऊ में देंगे एडीजी जोन,खुशी की लहर देर शाम आई सभी के पास प्रशासन फोन कॉल, 30 स्वतंत्रता सेनानियों के आश्रितों किया गया था आमंत्रित आजादी के अमृत महोत्सव के लिए रंग बिरंगी रोशनियों से सजा ग्वालियर दुगरी फेस-1 में हुआ हमला,अदालत में गवाही न देने के लिए हमलावर बना रहे थे दबाव भाजयुमो के मंत्री ने कार के सन रूफ से निकलकर झंडे की फोटो की थी पोस्ट 100 फूट ऊंचा लहरा रहा तिरंगा,लाइटों से जगमगाया शहर, दुल्हन की तरह सजी सड़कें रैली निकालकर लगाए भारत माता की जयकारे, बच्चों और ग्रामीणों ने किया समरसता भोज राजस्व एवं आपदा प्रबंधन मंत्री जयसिंह अग्रवाल ने किया ध्वजारोहण

केंद्रीय गृह मंत्री की वचनबद्धता शहीद जवानों को सच्ची श्रद्धांजलि: चंद्राकर

रायपुर: भाजपा प्रवक्ता और पूर्व मंत्री अजय चंद्राकर ने नक्सली आतंक के खिलाफ निर्णायक लड़ाई की जरूरत पर बल देकर इसे अंजाम तक पहुंचाने की केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह की वचनबद्धता का स्वागत किया है।

उन्होंने कहा है कि यह लाल आतंक के खिलाफ जारी लड़ाई में शहीद हुए जवानों को सच्‍ची श्रद्धांजलि होगी। इससे घायल जवानों का मनोबल बढ़ेगा। चंद्राकर ने कहा कि अब वक्त आ गया है कि नक्सलियों का उनकी मांद में घुसकर पूरी तरह ख़ात्मा करके छत्तीसगढ़ को एक शांत, सुरक्षित और नक्सल मुक्त प्रदेश बनाया जाए।

चंद्राकर ने कहा कि प्रदेश सरकार और कांग्रेस नेतृत्व नक्सलियों के उन्मूलन के नाम पर महज जुबानी जमाखर्च करते रहे हैं और यही कारण है कि कांग्रेस के सत्ता में आते ही प्रदेश लगातार नक्सलियों की खूनी वारदातों से दहशतजदा होता रहा है।

आज प्रदेश कांग्रेस के नेता नक्सलियों के खिलाफ निर्णायक युद्ध की बातें कर रहे हैं, लेकिन इससे पहले तक जिम्मेदार कांग्रेस नेता नक्सली आतंक को लेकर जवानों को प्रोटोकाल के उल्लंघन का दोषी बताकर जवानों का मनोबल तोड़ने का काम करते रहे हैं।

दूसरी ओर मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने बीजापुर के तर्रेंम में नक्सली मुठभेड़ में शहीद हुए जवानों के परिजनों को आर्थिक सहयाता और अनुकंपा नियुक्ति शीघ्र देने के निर्देश दिए हैं। पुलिस अफसरों ने बताया कि मुठभेड़ में शहीद हुए राज्य पुलिस के अफसरों और जवानों को विशेष अनुग्रह राशि, सामूहिक बीमा विकल्प विशेष अनुदान, शहीद सम्मान निधि व अन्य आर्थिक सहायता समेत न्यूनतम 80 लाख रुपये दिया जाएगा। साथ ही शहीदों के परिवार के एक सदस्य को अनुकंपा नियुक्ति दी जाएगी।

वहीं, शहीद हुए केंद्रीय अर्द्ध सैनिक बल के जवानों के परिजनों को राज्य सरकार की तरफ से करीब 45.40 लाख रुपये की आर्थिक सहायता दी जाएगी। इसके अतिरिक्त केंद्रीय गृह मंत्रालय की तरफ से भी आर्थिक सहायता व अनुकंपा नियुक्ति की कार्यवाही की जाएगी।