Jain
ब्रेकिंग
प्लॉट खरीदते समय इन बातों का रखें ध्यान, बढ़ेगी सकारात्मक ऊर्जा और होगा भरपूर लाभ कर्ज से मुक्ति के लिए आजमाएं वास्तु शास्त्र से जुड़े उपाय भगवान कृष्ण से सम्बंधित 13 खास मंदिर 14 घंटे रेस्क्यू चलने के बावजूद 17 लोगों को नहीं खोज सके; घाटों पर गोताखोर तैनात जहां सीएम मनाएंगे अमृत महोत्सव, वहां कलेक्टर-आईजी ट्रैक्टर से पहुंचे भाद्रपद माह में जन्माष्टमी और गणेश उत्सव जैसे कई बड़े त्योहार घर में इस जगह पर रखें फेंगशुई ड्रैगन, सकारात्मक ऊर्जा का होगा संचार और बरसेगा धन इन लॉकेट को पहनने के जानें फायदे और नुकसान, धारण करने के जानें नियम सुबह से खिली है तेज धूप; जुड़ने लगे हैं गंगा के घाट अंबाला कैंट के PWD रेस्ट हाउस में सुनेंगे शिकायतें

एंटीलिया मामले में NIA के सामने पेश हुए मुंबई के पूर्व पुलिस कमिश्‍नर परम बीर सिंह

मुंबई। मुंबई के पूर्व पुलिस कमिश्‍नर परमबीर सिंह (Param Bir Singh) उद्योगपति मुकेश अंबानी (Mukesh Ambani) के आवास के पास विस्फोटक से भरी एसयूवी के मामले में अपना बयान दर्ज करने के लिए बुधवार को एनआईए (NIA) के समक्ष पेश हुए। मिली जानकारी के अनुसार परमबीर सिंह सुबह 9 बजकर 30 मिनट पर  दक्षिण मुंबई में  स्थित राष्ट्रीय जांच एजेंसी के कार्यालय पहुंचे।

 बता दें कि 25 फरवरी को मुकेश अंबानी के घर एंटीलिया (Antilia) के पास विस्फोटक से भरे वाहन की बरामदगी और उसके बाद ठाणे के व्यवसायी मनसुख हिरेन की हत्या (Mansukh Hiren Death) के मामले में लगातार शक के घेरे में हैं जिसके चलते मुंबई पुलिस प्रमुख के पद से हटा दिया गया है वर्तमान में वे होम गार्ड्स के महानिदेशक हैं।

गौरतलब है कि मुकेश अंबानी के आवास के बाहर विस्‍फोटक से लदे वाहन के मामले में एनआइए ने सहायक पुलिस निरीक्षक सचिन वाझे को गिरफ्तार किया था। वहीं इसके बाद मनसुख हिरेन हत्‍या मामले में  निलंबित पुलिस कांस्टेबल विनायक शिंदे और क्रिकेट सट्टेबाज नरेश गोर को भी गिरफ्तार किया था। मनसुख हिरेन का शव बीती 5 मार्च को ठाणे के मुंब्रा क्रीक इलाके में संदिग्‍ध अवस्‍था में मिला था।

मनसुख हिरेन की हत्या के बाद से ही इस मामले में लगातार नए-नए खुलासे हो रहे हैं। इस मामले  में  राष्ट्रीय जांच एजेंसी (NIA) ने अदालत को बताया था कि मुंबई पुलिस के निलंबित अधिकारी सचिन वाझे (Sachin Waze) और विनायक शिंदे उस बैठक में शामिल थे जहां मनसुख हिरेन की हत्या की साजिश रची गई थी। एजेंसी ने यह भी दावा किया है कि सचिन वाझे ने इस घटना को अंजाम देने के लिए  मोबाइल फोन का प्रयोग किया था।