ब्रेकिंग
शेयर बाजार में फिर गिरावट का दौर जारी मुख्यमंत्री चौहान संबल योजना के नये स्वरूप संबल 2.0 के पोर्टल का करेंगे शुभारंभ राहुल गांधी ने ऐसे कोई संकेत नहीं दिए कि वो पार्टी के अध्यक्ष पद के लिए चुनाव लड़ेंगे कांग्रेस चिंतन शिविर: राजस्थान से रायपुर लौटे CM बघेल, एयरपोर्ट पर कांग्रेसियों ने मिठाई खिलाकर किया स्वागत बैंक में पैसा जमा करने व निकालने के संबंध में लाया गया नया नियम, 26 मई से होगा प्रभावी मौनी रॉय की इन तस्वीरों पर दिल हारे फैंस, समुद्र के बीच से शेयर की ग्लैमरस PICS आज फिर बढ़ी सीएनजी की कीमतें CG में जिगरी दोस्त बने दुश्मन: साथियों ने बीच सड़क अपने दोस्त का मुंह किया काला, पीड़ित ने रो-रोकर पुलिस से बताई आपबीती रूह कंपा देने वाली घटना: यात्री बस ने बाइक सवारों को रौंदा, मां और बच्ची की मौके पर ही दर्दनाक मौत बिटक्वाइन 30 हजार डॉलर के नीचे अटका, Dogecoin, Shiba Inu, Solana भी गिरे

कोरोना की घातक रफ्तार, भोपाल में मिले 686 नए मरीज, 120 वेंटिलेटर पर

भोपाल। प्रदेश में कोरोना की रफ्तार घातक रूप लेती जा रही है। वही बुधवार को भोपाल में 686 नए मरीज मिले है। इसमें से 30 मरीज वेंटिलेटर पर हैं। बुधवार को जहां 98 मरीज वेंटिलेटर पर थे, वहीं गुस्र्वार को यह संख्या बढ़कर 120 हो गई है। इधर, प्रशासन का दावा है कि एक दिन में 4 मौत हुई है, लेकिन भदभदा विश्राम घाट में 31 और झदा कब्रस्तान में 5 कोरोना संक्रमित मरीजों का अंतिम संस्कार किया गया है। इधर, प्रदेश में सभी जिलों को मिलाकर 4324 नए मामले सामने आए हैं। 33,463 सैंपल की जांच में इतने मरीज मिले हैं। इस तरह संक्रमण दर 13 फीसद रही। इसका मतलब यह है कि 100 सैंपल की जांच में 13 संक्रमित मिल रहे हैं। इसके पहले सितंबर में संक्रमण की दर इस स्तर पर थी। मौतों का आंकड़ा भी सितंबर में ही सर्वाधिक था। अब तक की सर्वाधिक संक्रमण दर 16 सितंबर को 16.1 थी। करीब 6 महीने बाद ऐसी स्थिति बनी है जब 24 घंटे के भीतर अलग-अलग जिलों में 27 मरीजों ने दम तोड़ दिया।

हर दिन 4000 से ज्यादा मरीज मिल रहे हैं, लेकिन जांचें 33 हजार पर अटकी

सरकार ने तय किया है कि प्रदेश में हर दिन 40 हजार सैंपल की जांच की जाएगी। सैंपल हर दिन 40 हजार से ज्यादा लिए जा रहे हैं ,लेकिन जांच 33 हजार पर ही अटकी है। जांच की पर्याप्त सुविधाएं नहीं हैं। जांच कराने के लिए लंबी-लंबी कतारें लग रही है। दो से तीन फीवर क्लीनिक में भटकने के बाद जांचें हो पा रही हैं। पिछले साल जब प्रदेश में मरीज कम थे तो जांच और इलाज के लिए 740 फीवर क्लीनिक संचालित हो रहे थे। आज की स्थिति में इनकी संख्या 662 है।

बुधवार को सर्वाधिक मरीज इन जिलों में मिले

इंदौर – 888

भोपाल – 686

जबलपुर – 298

ग्वालियर – 225

कटनी- 166

रतलाम – 109

बड़वानी – 104

किस जिले में कितने मरीजों की मौत

इंदौर – 4

भोपाल – 4 सरकारी रिकॉर्ड में, श्‍मशान घाट में 36 का अंतिम संस्‍कार

जबलपुर – 2

रतलाम – 2

उज्जैन – 2

छिंदवाड़ा – 2

अन्य 13 जिलों में एक-एक मौत