ब्रेकिंग
एक महीने में हुए चार 'दुराचारी सभा' में पहुंचे सिर्फ 844 हिस्ट्रीशीटर,दरी पर बैठना उन्हें नहीं पसंद बोले- 5 साल से कर रहा था तैयारी, अब बना राजस्थान का टॉपर गुरु अमरदास एवेन्यू के निवासियों ने ब्लॉक किया जीटी रोड, MLA के खिलाफ प्रदर्शन भूप्रेंद्र सिंह हुड्‌डा ने कहा गांधीवादी तरीके से करेंगे विरोध, सरकार रद्द करके अग्निपथ फर्जी दस्तावेज तैयार कर कब्जाई थी जमीनें, पुलिस की गिरेबान पर हाथ डालने के बाद आया था चर्चा में सनी नागपाल भुवनेश्वर कुमार तोड़ेंगे पाकिस्तानी गेंदबाज का रिकॉर्ड डेब्यू मैच में फ्लॉप रहे उमरान मलिक घर में रखा फ्रिज सिर्फ उपकरण नहीं, है वास्तु शास्त्र की रहस्मयी व्याकरण... इस दिशा में रखने से चमक जाता है भाग्य पंचायत के प्रथम चरण के चुनावों के बाद EVM का हुआ रेंडमाइजेशन  जी-7 समिट में हिस्सा लेने जर्मनी पहुंचे पीएम मोदी, प्रवासी भारतीयों ने गर्मजोशी से किया स्वागत

कैट का धरना 13 अप्रैल को, दुकानों पर लगाएंगे काले झंडे

ग्वालियर। मैरिज गार्डन की क्षमता से आधे लोगों को शादी समारोह में शामिल होने व रेस्टारेंट में खाना खिलाने की अनुमति दी जाए। प्रतिबंध के कारण आर्थिक गतिविधियों के रुकने का हवाला देते हुए कैट ने यह मांग मुख्यमंत्री से की हैं। बुधवार को कैट बाजार संयोजकों की बैठक दाल बाजार स्थित कार्यालय में आयोजित की गई। बैठक में कैट के जिला संयोजक दीपक पमनानी, प्रदेशाध्यक्ष भूपेंद्र जैन, जिलाध्यक्ष रवि गुप्ता, बाजार संयोजक आशुतोष द्विवेदी, दिलीप पंजवानी, महेंद्र भदकारिया, अनिल पुनियानी, मनोज ढींगरा, आदि मौजूद रहे। निर्णय लिया गया कि उक्त मांगे जब तक नहीं मानी जाती हैं, तब तक सभी दुकानदार अपनी दुकान पर काले झंडे व मांगों के समर्थन में बैनर लगाएंगे। 13 अप्रैल को सुबह 11 से शाम 7 बजे तक इंदरगंज चौराहे पर धरना प्रदर्शन किया जाएगा।

कैट के सदस्‍यों का कहना था कि पिछले लॉकडाउन में ही व्‍यापारियों व कारोबारियों की आर्थिक कमर टूट चुकी है। ऐसे में यदि कोरोना को देखते हुए प्रतिबंध या लॉकडाउन आदि लगाए जाते हैं तो कारोबारियों व उनसे जुडे मजदूरों के लिए खासी मुश्किल होगी। प्रशासन कोरोना गाइड लाइन का सख्‍ती से पालन कराए। लेकिन ऐसे प्रतिबंध नहीं लगाए जिससे कारोबारियों को मुश्किल हो। इसलिए संस्‍था के पदाधिकारी कारोबारियों व व्‍यापारियों के पक्ष में धरना देंगे।