ब्रेकिंग
विधानसभा विशेष सत्र। विधानसभा सत्तापक्ष पर जमकर बरसे विधायक शिवरतन शर्मा, आरक्षण रुकवाने जो लोग कोर्ट गए उन्हें मुख्यमंत्री जी पुरस्कृत करते हैं,सत्र ... Selecting the right Virtual Info Room Supplier रायपुर विधानसभा विशेष सत्र। विधानसभा में आरक्षण बिल के दौरान ब्राह्मण नेताओं पर जमकर बरसे बलौदाबाजार विधायक प्रमोद शर्मा, उनके मुंह पर करारा तमाचा मार... Making a Cryptocurrency Beginning अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद भाटापारा नगर इकाई की हुई घोषणा मंडी अध्यक्ष सुशील शर्मा ने मंडी समिति के नए सदस्य को दिलाई शपथ, उद्बोधन में कहा भारसाधक पदाधिकारीयो की नियुक्ति के बाद से मंडी लगातार चहुमुखी विकास क... मंडी अध्यक्ष सुशील शर्मा ने धान ख़रीदी केंद्रो का निरीछन कर, धान बेचने आये किसानो से मुलाक़ात कर, धान बेचने में आने वाली समस्या की जानकारी ली, किसानों... ग्राम मर्राकोना में नवीन धान उपार्जन केंद्र के शुभारंभ अवसर पर मंडी अध्यक्ष सुशील शर्मा ने कहा भूपेश सरकार किसानों की सरकार है ग्राम मर्राक़ोंना में नवीन धान उपार्जन केंद्र को मिली हरी झंडी मंडी अध्यक्ष सुशील शर्मा ने दी जानकारी ट्रक चोरी करने वाले 06 आरोपियो को किया गया गिरफ्तार, मंडी के पास लिंक रोड के किनारे खड़ी ट्रक को किया था चोरी, उड़ीसा से हुई बरामद

विवाह समारोह से कोरोना फैलने के मामले में निर्णय सुरक्षित

जबलपुर। मध्य प्रदेश हाईकोर्ट में नगर निगम के पूर्व अपर आयुक्त के परिवारिक विवाह समारोह से कोरोना फैलने के मामले में निर्णय सुरक्षित कर लिया है। इसके पूर्व मुख्य न्यायाधीश मोहम्मद रफीक व जस्टिस संजय द्विवेदी की युगलपीठ ने याचिकाकर्ता, राज्य सरकार व नगर निगम का पक्ष सुना।

आनंद कॉलोनी बल्देवबाग निवासी सामाजिक कार्यकर्ता अखिलेश त्रिपाठी की ओर से जनहित याचिका दायर कर कहा गया कि 30 जून 2020 को नगर निगम के तत्कालीन अपर आयुक्त राकेश अयाची की बेटी का विवाह समारोह होटल गुलजार में आयोजित किया गया था। उन्होंने विवाह समारोह के लिए अनुमति नहीं ली। इसके साथ ही बड़ी संख्या में लोगों को समारोह में आमंत्रित किया गया। इसके कारण बड़ी संख्या कोरोना संक्रमण फैल गया।अधिवक्ता पंकज दुबे ने कहा कि होटल से विवाह समारोह के सीसीटीवी फुटेज भी नष्ट कर दिए गए। सुनवाई के बाद हाई कोर्ट ने निर्णय सुरक्षित कर लिया है।

आंगनबाड़ी कार्यकर्ता की नियुक्ति निरस्त करने पर नोटिस : हाईकोर्ट ने आंगनबाड़ी कार्यकर्ता की नियुक्ति निरस्त करने पर नोटिस जारी किया है। एकल पीठ ने सचिव महिला एवं बाल विकास विभाग, परियोजना अधिकारी, सीहोर कलेक्टर और अपर आयुक्त भोपाल से छह सप्ताह में जवाब-तलब किया है। याचिका में कहा गया कि 10 दिसंबर 2019 को उसकी नियुक्ति सीहोर के ग्राम पंचायत ग्वाली में हुई थी। नियुक्ति के कुछ समय बाद राजनीतिक प्रतिद्वंद्विता की वजह से नियुक्ति के खिलाफ कलेक्टर के समक्ष प्रकरण दायर किया। कलेक्टर ने प्रकरण खारिज कर दिया। इसके बाद अपर आयुक्त भोपाल के समक्ष अपील दायर की गई। अपर आयुक्त भोपाल ने सुनवाई का अवसर दिए बगैर उसकी नियुक्ति निरस्त कर दी। प्रांरभिक सुनवाई के बाद एकल पीठ ने अनावेदकों को नोटिस जारी किया है। याचिकाकर्ता की ओर से अधिवक्ता शंभूदयाल गुप्ता, कपिल गुप्ता, आशा नाग्देव और विजय दुबे पैरवी कर रहे है।