ब्रेकिंग
पटरी पर दौड़ी 'मौत' की ट्रेन: एक का सिर धड़ से मिला अलग, तो दूसरे की नग्न अवस्था में टुकड़ों में मिली लाश, पढ़िए ट्रैक पर मौत की खौफनाक कहानी किससे जुड़े हैं गुना हत्याकांड के तार ? BJP नेताओं के साथ आरोपियों की तस्वीरें वायरल, MLA जयवर्धन ने कहा- अपराधियों और बीजेपी नेताओं की निकाली जाए कॉल... आत्मानंद स्कूल के इन छात्रों ने मेरिट लिस्ट में बनाई जगह कथा स्थल में नारियल वितरण के दौरान मची भगदड़, 16 महिलाएं घायल, इधर 576 दिन से नर्मदा परिक्रमा कर रहे संत समर्थ सदगुरु की बगड़ी तबीयत भगवान गौतम बुद्ध के 12 अनमोल वचन शरीर के इन हिस्सों पर है अगर तिल, होते हैं बुद्धिमान और काम में सफलता करते हैं हासिल थाने में शिकायत करने पर मर्डर: अहाता संचालक की पीट-पीटकर बेरहमी से हत्या करने का VIDEO वायरल, 2 आरोपी गिरफ्तार कर भेजे गए जेल रात को अचानक नींद खुल जाना नहीं है कोई आम बात, आत्माएं देती हैं ये गंभीर संकेत... जान पर भी बन आ सकती है बात शुरू होने जा रहा है नौतपा, तपती गर्मी के कोप और सूर्य देव के क्रोध से है गहरा नाता रमन सिंह को कवर्धा में तगड़ा झटका, पूर्व मुख्यमंत्री के बेहद करीबी घनश्याम गुप्ता भी टूटे, अकबर ने थमाया कांग्रेस का हाथ

मध्य प्रदेश में अगले 20 दिन में 400 टन ऑक्सीजन की जरूरत

भोपाल। मध्य प्रदेश में जैसे-जैसे कोरोना संक्रमण बढ़ रहा है, ऑक्सीजन की मांग भी बढ़ रही है। सरकार का अनुमान है अगले 20 दिन में प्रदेश के अस्पतालों को 400 टन से ज्यादा आक्सीजन की जरूरत पड़ेगी। इसकी तैयारी शुरू हो गई है। मध्य प्रदेश को सबसे ज्यादा ऑक्सीजन उपलब्ध कराने वाली कंपनी आइनाक्स ने 250 टन ऑक्सीजन उपलब्ध कराने की जिम्मेदारी ली है। वहीं भिलाई स्टील प्लांट (बीएसपी) से 100 टन आक्सीजन मिलने की संभावना है। प्रदेश में आक्सीजन की मांग तेजी से बढ़ी है। आठ दिन पहले जितनी ऑक्सीजन (60 टन रोज) की जरूरत पूरे प्रदेश को पड़ रही थी, उतनी तो अब सिर्फ इंदौर को ही चाहिए

महज चार दिन में प्रदेश में ऑक्सीजन की मांग 60 टन से 180 टन तक पहुंच गई। इस स्थिति ने सरकार को व्यापक इंतजाम करने पर मजबूर कर दिया। सरकार ने गुजरात, उत्तर प्रदेश के साथ छत्तीसगढ़ की आक्सीजन उत्पादक कंपनियों से भी बात की है। इनमें से अभी 170 टन आक्सीजन उपलब्ध करा रही आइनाक्स ने 250 टन तक का इंतजाम करने का भरोसा दिलाया है। सरकार का दावा है सरकारी अस्पतालों में ऑक्सीजन की कमी नहीं है, पर निजी स्पतालों में हायतौबा मची है।

राज्य स्तरीय कंट्रोल रूम प्रदेशभर में ऑक्सीजन की मांग और आपूर्ति पर निगाह रखने और जरूरत की आक्सीजन अस्पतालों को उपलब्ध कराने के लिए राज्य स्तरीय कंट्रोल रूम स्थापित किया गया है। कंट्रोल रूम मप्र पब्लिक हेल्थ सप्लाई कारपोरेशन में काम करेगा। यहां अस्पताल सीधे संपर्क कर सकेंगे।

प्रदेश में 180 टन आक्सीजन आइनाक्स, 60 टन बीएसपी से मिल रही है। इसके अलावा एयर सेपरेशन से भी आक्सीजन मिल रही है। 40 से 80 टन की उपलब्धता बढ़ाने के प्रयास जारी हैं। आक्सीजन की कोई कमी नहीं है। -मोहम्मद सुलेमान, अपर मुख्य सचिव, स्वास्थ्य