ब्रेकिंग
उदयपुर हत्याकांड के विरोध में बंद रहा बाजार, चप्पे-चप्पे पर तैनात रहे जवान यूपीएसएसएससी पीईटी नोटिफिकेशन जारी काशी विश्वनाथ धाम में अब बज सकेगी शहनाई, होंगी शादियां प्रदेश में मंत्री से लेकर संतरी तक भ्रष्टाचार में संलिप्त, भ्रष्टाचारियों की गिरफ्तारी के मुद्दे पर आप लड़ेगी निगम चुनाव अज्ञात युवकों ने कॉलेज कैंटीन में बैठे 3 छात्रों पर किया तेजधार हथियार से हमला; 1 की हालत गंभीर सिवनी कोर्ट परिसर में न्यायाधीशों समेत 27 ने किया रक्तदान, वितरित किए प्रमाण पत्र पड़ोस में रहने आयी छात्रा से जान पहचान बना डिजिटल रेप करने वाले आरोपी को पुलिस ने किया गिरफ्तार लोगों ने की आरोपियों को फांसी की सजा देने की मांग, टायर जलाकर की नारेबाजी 12 जुलाई को देवघर जाएंगे पीएम मोदी रिलायंस जिओ डीटीएच प्लान्स ऑफर और आवेदन की जानकारी | Reliance Jio DTH Setup Box Plan Offer Online Booking Information in hindi

वर्क फ्राम होम ने बढ़ाए गर्दन-कमर दर्द के रोगी

इंदौर। शहर में अभी भी कई आफिस हैं जो गत वर्ष हुए लाकडाउन से लेकर अभी तक वर्क फ्राम होम के अनुरूप ही कार्य करा रहे हैं। संक्रमण से लोगों को बचाने का यह एक बेहतर तरीका है लेकिन घर पर रहकर आफिस का काम कर रहे कई कर्मचारी कमर, गर्दन व कंधे के दर्द, हाथ-पैर में झुनझुनी और पैर की नसों में खिंचाव की समस्या से जूझ रहे हैं। इस तरह के दर्द की शिकायत लेकर अस्पताल पहुंचने वालों की संख्या में मार्च 2020 से अब तक तीन से चार गुना इजाफा हुआ है। इस तरह की समस्या से ग्रसित होने वालों में केवल कामकाजी लोग ही नहीं बल्कि विद्यार्थी भी शामिल हैं। युवा दफ्तर के काम और स्टूडेंट्स आनलाइन एजुकेशन की वजह से इन समस्याओं से जूझ रहे हैं।
एमवाय अस्पताल के हड्डी रोग विभागाध्यक्ष डा. आनंद अजमेरा के अनुसार इन समस्याओं से जूझने वाले अस्पताल आ रहे रोगियों की संख्या गत वर्ष से तीन से चार गुना बढ़ी है। इन समस्याओं से ग्रसित कुल रोगियों में से करीब 50 प्रतिशत 20 से 30 वर्ष की उम्र के हैं। शेष 30 से 45 वर्ष तक की उम्र के हैं। सबसे ज्यादा समस्या गर्दन व कमर में दर्द की है। इन समस्याओं की वजह गलत ढंग से बैठकर काम करना और कार्य की अधिकता है। वर्क फ्राम होम के कंसेप्ट में कार्य की अधिकता भी बढ़ी है जिससे ज्यादा समय तक बैठे रहना पड़ता है।

बच्चे भी हो रहे परेशान

योग विशेषज्ञ व वैकल्पिक चिकित्सक डा. एके जैन के अनुसार पहले करीब 10 प्रतिशत युवा इस समस्या से ग्रसित थे लेकिन वर्षभर में इनकी संख्या करीब 60 प्रतिशत तक बढ़ी है। युवा ही नहीं बच्चे भी इस समस्या से ग्रसित हो रहे हैं क्योंकि उनका अधिकांश वक्त आनलाइन स्टडी और गेमिंग में बीतता है। कुल मरीजों में से बच्चों की संख्या भी करीब 15 प्रतिशत है। इन परेशानियों से बचने के लिए यो
छह माह में बढ़ी समस्या
फिजियोथैरेपिस्ट डा. पायल हरगांवकर के अनुसार उनके पास प्रतिदिन इस समस्या के करीब 20 से 25 मरीज आते हैं । विगत करीब छह माह में इस समस्या में बढ़त देखी गई है। यदि गर्दन-कमर में दर्द हो और चार-पांच दिन से अधिक वक्त हो गया हो तो डाक्टर की सलाह लें और मन से व्यायाम या सेंक न करें। एक ही तरह का उपचार सभी को ठीक करे यह जरूरी नहीं इसलिए सही दिशानिर्देशन लेकर ही उपचार करें।
इन बातों पर दें ध्यान

* 45 मिनट के अंतराल में 5 मिनट का ब्रेक लेकर थोड़ा चलें।

* कुर्सी-टेबल का इस्तेमाल करके ही लैपटाप, मोबाइल से काम करें।

* आंख और ब्लू स्क्रीन एक सीध में हो।

* सुबह की धूप में थोड़ी देर टहलें।

* आहार में प्रोटीन शामिल करें।

* योग और व्यायाम को दिनचर्या का हिस्सा बनाएं।

* थोड़ी-थोड़ी देर में गर्दन को ऊपर-नीचे, दाएं-बाएं घुमाते रहें।
* कमर सीधी रखकर ही काम करें।