Jain
ब्रेकिंग
रमा देवी बंशीलाल गुर्जर और नम्रता प्रितेश चावला के नाम पर चल रहा मंथन महिलाओं की उंगलियां होती है ऐसी, स्वभाव से होती हैं गंभीर और बड़ी खर्चीली इन चीजों से किडनी हो सकती है खराब दिल्ली से किया था नाबालिग को अगवा, CCTV फुटेज से आरोपियों की हुई थी पहचान गृह विभाग में अटकी फ़ाइल, क्या रिटायर्ड होने के बाद होगा प्रमोशन एशिया कप के लिए टीम का ऐलान आज वास्तु की ये छोटी गलतियां कर सकती हैं आपका बड़ा नुकसान, खो सकते हैं आप अपना कीमती दोस्त आय से अधिक संपत्ति मामले में शिबू सोरेन को लोकपाल का नोटिस बाइक से कोरबा लौटने के दौरान हादसा, दूसरे जवान की हालत गंभीर; पुलिस लाइन में पदस्थ थे दोनों | road accident in chhattisharh; bike rider chhattisgarh p... खरीदें Redmi का शानदार 5G स्मार्टफोन

टीआई ने लोगों को समझाने के लिए गाया किशोर कुमार का गीत, वायरल हो गया वीडियो

भिलाई। आम तौर पर पुलिस को लेकर लोगों के मन में भय होता है। पुलिसकर्मी ने रोक लिया, तो पेशानी पर बल आ जाते हैं। मगर, कुछ पुलिस वाले ऐसे भी होते हैं जो लोगों को मुस्कुराने पर मजबूर कर देते हैं। खासकर लाकडाउन के दौरान कोरोना योद्धा के रुप में दिन-रात ड्यूटी करने वाले पुलिस वालों का कई उदार रुप भी सामने आता रहा है। कुछ पुलिस कर्मी गरीबों को भोजन कराते दिख जाते हैं, तो कुछ दूसरी तरह से मदद करते। कुल जमा कोरोना योद्धा के रुप में पुलिस अपने स्तर पर लोगों को कोरोना वायरस से बचाने की भरपूर कोशिश कर रही है।

ऐसे ही एक कोशिश सामने आई दुर्ग जिले के छावनी थाने के टीआई गोपाल वैश्य की। वह काफी संवेदनशील थाना प्रभारी माने जाते हैं। कोरोना ड्यूटी काल में अक्सर उनका कोई न कोई रूप सामने आता रहा है, इन दिनों उनका एक वीडियो जमकर वायरल हो रहा है। लाकडाउन के दौरान लोगों से नियमों का पालन करने की अपील वे किशोर कुमार के गानों से कर रहे हैं।

 गोपाल वैश्य बताते हैं कि वे बचपन से किशोर दा के फैन हैं। जब भी मौका मिलता है वे किशोर दा के गीत गुनगुना लिया करते हैं। लॉकडाउन में वे चौक-चौराहों में ओ राही, ओ राही, रुक जाना नहीं, तू कहीं हार के गीत गाकर लोगों को इस संकट की घड़ी में लड़ने की प्रेरणा दे रहे हैं। गोपाल वैश्य का कहना है कि व्यक्ति मन से टूटता है, हताश होता है। अगर वे सकरात्मक विचार रखे तो हर मुश्किल हालात का मुस्कुराकर सामना कर सकता है।

गोपाल वैश्य ने कहा कि वे अक्सर वे यही गीत गाते हैं। इस गीत में जिंदगी को सकरात्मक ढंग से जीने का संदेश है। नईदुनिया के माध्यम से गोपाल वैश्य ने दुर्ग जिले की जनता से अपील की है कि दुर्ग जिले बेहद गंभीर संकट के दौर से गुजर रहा है, इससे हम सबको मिलकर लड़ना है। यह तभी संभव होगा जब हम मिलकर प्रशासन की गाइड लाइन का पालन करें। एक सप्ताह पूरी इमानदारी से लाकडाउन का पालन करें, तो हम इस महामारी को हरा सकते हैं।