गुजरात में कोरोना ने तोड़े सारे रिकॉर्ड, अहमदाबाद के सबसे बड़े कोविड अस्‍पताल में बेड फुल

अहमदाबाद। गुजरात में कोरेाना संक्रमण के नए मामलों ने पहले के सारे रिकार्ड तोड़ दिए हैं। बीते 24 घंटे में यहां कोरोना संक्रमण के 6,021 नए मामले सामने आये हैं। सोमवार को 55 संक्रमितों की मौत दर्ज की गई जिसके बाद राज्‍य में कोरोना से होने वाली मौतों का आंकड़ा 4,855 तक पहुंच गया। 2854 लोगों को स्‍वस्‍थ पाये जाने पर अस्‍पताल से घर भेज दिया गया।

स्‍वास्‍थ्‍य विभाग से मिले आंकड़ों के अनुसार राज्‍य में कुल संक्रमित मरीजों की संख्‍या अब बढ़कर  3,53,516 तक पहुंच चुकी है जिनमें से 3,17,981 मरीजों को स्‍वस्‍थ पाये जाने पर अस्‍पताल से घर भेज दिया गया है। 30,680 मरीज सक्रिय बताये गए हैं। राज्‍य में अब तक  93,50,045 लोगों का टीकाकरण किया जा चुका है।

 गुजरात के  इन जिलों में क्‍या है कोरोना का हाल

बीते 24 घंटे में अहमदाबाद में 1,933 नए मामले, इसके बाद सूरत में 1,469, राजकोट में 576, वडोदरा में 381, जामनगर में 296, महसाना में 136, भावनगर में 110, गांधीनगर में 106, पाटन में 97, बनासकांठा में 94, जूनागढ़ में 87, नर्मदा में 61, भरूच में 54 मामले दर्ज हुए। कच्छ 50, खेड़ा 49, अमरेली, मोरबी, और नवसारी 48 प्रत्येक, दाहोद 45, महिसागर 43, पंचमहल 37, आनंद 33, बोटाद 31, सुरेंद्रनगर और वलसाड प्रत्येक में 29 , साबरकांठा 24, देवभूमि द्वारका 20, खतरे और गिर सोमनाथ प्रत्येक में 19। छोटा उदेपुर 15, अरावली और तापी प्रत्येक में 14 प्रत्येक और पोरबंदर छह मामले दर्ज किए गए हैं।

सोमवार को दर्ज हुए आंकड़ों के अनुसार अहमदाबाद से 20, सूरत से 19, वडोदरा से सात, राजकोट से छह और भरूच, बोटाद और सुरेंद्रनगर से एक-एक संक्रमित की मौत की खबर है। अब तक, कुल 93,50,045 टीका लगाए गए हैं, जिनमें से 82,37,367 लोगों को अपनी पहली खुराक मिली है और 11,12,678 लोगों ने अपना दूसरा खुराक प्राप्त की है।

अहमदाबाद के सबसे बड़े कोविड अस्‍पताल में बेड फुल, एंबुलेंस में लेटे हैं मरीज

  कोरोना संक्रमण के लगातार बढ़ रहे मामलों के कारण  अहमदाबाद के सबसे बड़े कोविड अस्‍पताल का बुरा हाल हैं। यहां कोरोना संक्रमितों के लिए 1200 बेड का इंतजाम किया गया था लेकिन सभी बेड भर चुके हैं। जिसकी वजह से मरीजों को अब बाहर ही रोका जा रहा है। ऐसे में एंबुलेंस में ही मरीजों को ऑक्‍सीजन दी जा रही है। अहमदाबाद के सिविल अस्‍पताल के कैंपस के बाहर एंबुलेंस कतारों में खड़ी हैं, इनके अंदर मरीज लेटे हुए हैं और अस्‍पताल के अंदर खाली बेड का इंतजार कर रहे हैं।