ब्रेकिंग
गर्मी के चलते वेस्टर्न रेलवे ने 12 एसी लोकल ट्रेनें शुरू की, जानें कहां से कहां तक हैं ये ट्रेन पुलिस की सराहनीय पहल, प्रतिभावान छात्राओं के घर-घर जाकर किया सम्मानित, बच्चों ने आईएएस, डाॅक्टर व सीए बनने की जताई ईच्छा MP में तालों में कैद भगवान! MLA आकाश विजयवर्गीय बोले- जल्द खुलेगा बोलिया सरकार छत्री का शिव मंदिर एलपीजी गैस सिलेंडर पर लेना चाहते हैं सब्सिडी, फॉलो करें यह आसान प्रोसेस सूरज की तपिश से बादलाें ने दिलाई राहत बोरिंग माफियाओं की मनमानी से इंदौर में गहराया जल संकट नहीं रोक लगा पा रहा नगर निगम, आज भी रोजाना हो रहे 20-25 अवैध बोरिंग चीनी विमान जानबूझकर नीचे लाकर क्रैश कराया गया था श्रीराम सेना का दावा- कर्नाटक में 500 अवैध चर्च ग्राम देवादा में जल सभा का आयोजन एक ही परिवार के 3 लोगों के मर्डर का खुलासा, परिजन ही निकले हत्यारे, ये बनी हत्या की वजह

शहर के स्कूल बंद, ग्रामीण क्षेत्रों में बांटे पर्चे

जबलपुर। कक्षा 9वीं और 11वीं की वार्षिक परीक्षाओं के पर्चे शहरों में नहीं बंटे लेकिन ग्रामीण इलाकों में विद्यार्थियों को पर्चे दिए गए। लाकडाउन की वजह से पर्चे बांटने का काम नहीं हुआ। विद्यार्थी स्कूल पहुंचे भी तो उन्हें निराश होकर लौटना पड़ा। जबकि ग्रामीण क्षेत्रों कुण्डम, पाटन, मझौली आदि क्षेत्रों में सुबह शिक्षकों के माध्यम से बच्चों को स्लॉट में बुलाकर प्रश्न पत्र बांटे गए। सुबह 10 बजे छात्रों को बुलाकर प्रश्न पत्रों के वितरण की प्रक्रिया चली। कोरोना संक्रमण को देखते हुए बच्चों अथवा अभिभावकों को बार-बार प्रश्न पत्र लेने के लिए न आना पड़े इसे देखते हुए एक साथ सभी विषयों के प्रश्न पत्रों को बंडल के रूप में छात्रों को प्रदान किए गए।

जबकि दूसरी और शहरी क्षेत्र के स्कूलों में प्रश्न पत्रों का वितरण नहीं हुआ। इसकी वजह स्कूल बंद होना कहा जा रहा है। शहरी क्षेत्र के स्कूल बंद होने और लाकडाउन की मियाद 22 अप्रैल तक बढ़ जाने को लेकर शासकीय एमएलबी स्कूल, कन्या उमावि करौंदीग्राम, आधारताल आदि स्कूलों द्वारा अभिभावकों को फोन कर बताया गया कि लाकडाउन खत्म होने के बाद प्रश्न पत्रों का वितरण किया जाएगा। बताया जाता है विभाग द्वारा भी स्पष्ट आदेश प्रसारित न किए जाने के कारण स्कूल प्रशासन असमंजस में रहे। उन्होंने कोई परेशानी खड़ी न हो इसे लेकर लाकडाउन के बाद प्रश्न पत्रों का वितरण करने का निर्णय लिया।

ओपन बुक पद्धति से होनी है परीक्षा: बताया जाता है कोरोना संक्रमण को देखते हुए इस बार कक्षा 9वीं और 11वीं की परीक्षाएं ओपन बुक पद्धति के माध्यम से कराने का निर्णय स्कूल शिक्षा विभाग ने लिया है। यह परीक्षाएं स्टेट ओपन बोर्ड के द्वारा कराई जा रही है।