Jain
ब्रेकिंग
महू में दो गुटों में विवाद के बाद बम फोड़ा; 2 की मौत, 15 से ज्यादा घायल रोटी भी बदल सकती है किस्मत डीजीपी का सिल्वर मेडल भी आज लखनऊ में देंगे एडीजी जोन,खुशी की लहर देर शाम आई सभी के पास प्रशासन फोन कॉल, 30 स्वतंत्रता सेनानियों के आश्रितों किया गया था आमंत्रित आजादी के अमृत महोत्सव के लिए रंग बिरंगी रोशनियों से सजा ग्वालियर दुगरी फेस-1 में हुआ हमला,अदालत में गवाही न देने के लिए हमलावर बना रहे थे दबाव भाजयुमो के मंत्री ने कार के सन रूफ से निकलकर झंडे की फोटो की थी पोस्ट 100 फूट ऊंचा लहरा रहा तिरंगा,लाइटों से जगमगाया शहर, दुल्हन की तरह सजी सड़कें रैली निकालकर लगाए भारत माता की जयकारे, बच्चों और ग्रामीणों ने किया समरसता भोज राजस्व एवं आपदा प्रबंधन मंत्री जयसिंह अग्रवाल ने किया ध्वजारोहण

टीकाकरण पर राष्ट्रीय तकनीकी सलाहकार समूह का बयान, रैलियां, धार्मिक आयोजन और किसान आंदोलन सुपर स्प्रेडर

नई दिल्ली। राजनीतिक रैलियां, धार्मिक जमावड़ा और किसान आंदोलन कोरोना वायरस के सुपर स्प्रेडर साबित हो रहे हैं। यह कहना है टीकाकरण पर राष्ट्रीय तकनीकी सलाहकार समूह (एनटीएजीआइ) के चेयरमैन डॉ. एनके अरोड़ा का। डॉ. अरोड़ा का यह बयान ऐसे समय में आया है जबकि बंगाल में चुनाव, हरिद्वार में कुंभ मेला और दिल्ली की सीमाओं पर किसानों का आंदोलन चल रहा है। हालांकि, उन्होंने किसी खास आयोजन का नाम नहीं लिया है।

ज्यादा लापरवाह हुआ युवा वर्ग 

उन्होंने कहा, ‘हम देख रहे हैं कि युवा वर्ग ज्यादा लापरवाह हो गए हैं। वे छोटे-छोटे समूहों में जमा हो रहे हैं और पार्टियां कर रहे हैं। हम सामाजिक, धार्मिक जमावड़ा, किसान आंदोलन और राजनीतिक रैलियां भी देख रहे हैं। ये सभी कोविड के सुपर स्प्रेडर हैं। जब तक ये बंद नहीं होते, कोई भी हमारी मदद कर सकता है। हमें इनके प्रति बहुत गंभीर होने की जरूरत है और आखिर में मैं कहूंगा कि ये सभी राजनीतिक और कार्यान्वयन प्राधिकरण के समर्थन से किए जाने हैं।’

लॉकडाउन लगाने की जरूरत पर जोर 

डॉ. आरोड़ा ने स्थानीय परिस्थितियों के आधार पर लॉकडाउन लगाने की जरूरत पर बल दिया। परंतु, राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन का समर्थन नहीं किया। उन्होंने कहा कि हमने पिछले साल लॉकडाउन लगाया था। हमने जान लिया है कि महामारी को कैसे रोकना है। हमने यह भी देखा है कि लॉकडाउन के प्रभाव से किस तरह उबरना है।

चुनिंदा क्षेत्रों में लॉकडाउन लगाने की जरूरत

डॉ. आरोड़ा ने कहा कि अब जब रोजाना नए मामलों की संख्या लगभग दो लाख तक पहुंच गई है, हमें अपने अनुभवों के आधार पर आगे बढ़ना चाहिए। लोगों के बीच संपर्क को कम कर कोरोना वायरस के प्रसार को कम किया जा सकता है। हमें चुनिंदा क्षेत्रों में लॉकडाउन लगाने की जरूरत है। उन्होंने इसके लिए महाराष्ट्र का उदाहरण भी दिया, जिसने 15 दिनों के लिए सख्त पाबंदियां लगाई हैं।