ब्रेकिंग
आर्थिक आधार से गरीब लोगों के आरक्षण में कटौती के विरोध में आज भाटापारा अनुविभागीय अधिकारी के कार्यालय जाकर राज्यपाल के नाम ज्ञापन सौंपा गया विधानसभा विशेष सत्र। विधानसभा सत्तापक्ष पर जमकर बरसे विधायक शिवरतन शर्मा, आरक्षण रुकवाने जो लोग कोर्ट गए उन्हें मुख्यमंत्री जी पुरस्कृत करते हैं,सत्र ... रायपुर विधानसभा विशेष सत्र। विधानसभा में आरक्षण बिल के दौरान ब्राह्मण नेताओं पर जमकर बरसे बलौदाबाजार विधायक प्रमोद शर्मा, उनके मुंह पर करारा तमाचा मार... अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद भाटापारा नगर इकाई की हुई घोषणा मंडी अध्यक्ष सुशील शर्मा ने मंडी समिति के नए सदस्य को दिलाई शपथ, उद्बोधन में कहा भारसाधक पदाधिकारीयो की नियुक्ति के बाद से मंडी लगातार चहुमुखी विकास क... मंडी अध्यक्ष सुशील शर्मा ने धान ख़रीदी केंद्रो का निरीछन कर, धान बेचने आये किसानो से मुलाक़ात कर, धान बेचने में आने वाली समस्या की जानकारी ली, किसानों... ग्राम मर्राकोना में नवीन धान उपार्जन केंद्र के शुभारंभ अवसर पर मंडी अध्यक्ष सुशील शर्मा ने कहा भूपेश सरकार किसानों की सरकार है ग्राम मर्राक़ोंना में नवीन धान उपार्जन केंद्र को मिली हरी झंडी मंडी अध्यक्ष सुशील शर्मा ने दी जानकारी ट्रक चोरी करने वाले 06 आरोपियो को किया गया गिरफ्तार, मंडी के पास लिंक रोड के किनारे खड़ी ट्रक को किया था चोरी, उड़ीसा से हुई बरामद रायपुर में शिवमहापुराण कथा:पंडित प्रदीप मिश्रा का प्रवचन सुनने लाखों लोग पहुंचे , अनुमान से अधिक लोगों के पहुंचने के कारण पंडित जी को कहना पड़ा घर में...

भारत में मानसून को अव्यवस्थित कर रहा जलवायु परिवर्तन, इन क्षेत्रों में गंभीर प्रभाव पड़ने की आशंका

नई दिल्ली। जलवायु परिवर्तन भारत में मानसून के दौरान होने वाली बारिश को बुरी तरह से अव्यवस्थित कर रहा है। एक अध्ययन में जानकारी सामने आई है। इसके मुताबिक आने वाले वर्षो में भी भारत में अत्यधिक बारिश होगी, जिसका देश की एक अरब से अधिक की आबादी, अर्थव्यवस्था, खाद्य प्रणाली और कृषि पर गंभीर प्रभाव पड़ने की आशंका है।

यह अध्ययन अर्थ सिस्टम डायनैमिक्स जर्नल में प्रकाशित हुआ है, जिसमें दुनिया भर से 30 से अधिक जलवायु प्रारूपों की तुलना की गई है। अध्ययन की मुख्य लेखक एवं जर्मनी स्थित पॉट्सडैम इंस्टीट्यूट फॉर क्लाइमेट इंपैक्ट रिसर्च (पीआइके) की एंजा काटाजेनबर्जर ने कहा, ‘हमने इस बारे में मजबूत साक्ष्य पाए हैं कि प्रत्येक डिग्री सेल्सियस तापमान बढ़ने से मानसून की बारिश के करीब पांच प्रतिशत बढ़ने की संभावना होगी। हम पाते हैं कि ग्लोबल वाìमग मानसून की बारिश को पहले से सोची गई रफ्तार से कहीं अधिक तेजी से बढ़ा रही है। यह (ग्लोबल वाìमग) 21 वीं सदी में मानसून की गतिशीलता को काफी प्रभावित कर रही है।

अध्ययनकर्ताओं ने इस बात का जिक्र किया कि भारत और इसके पड़ोसी देशों में अनावश्यक रूप से ज्यादा बारिश कृषि के लिए अच्छी चीज नहीं है। अध्ययन की सह लेखक जर्मनी की लुडविंग मैक्सिमिलियन यूनिवर्सिटी की जूलिया पोंग्रात्ज ने कहा, ‘फसलों को शुरुआत में आवश्यक रूप से पानी की जरूरत होती है, लेकिन बहुत ज्यादा बारिश होने से पौधे को नुकसान हो सकता है-इनमें धान की फसल भी शामिल है, जिस पर भरण-पोषण के लिए भारत की बड़ी आबादी निर्भर करती है। यह भारतीय अर्थव्यवस्था और खाद्य प्रणाली को मानसून की पद्धतियों के प्रति अत्यधिक संवेदनशील बनाती है।’

मानव गतिविधियां बारिश की मात्रा बढ़ाने के लिए जिम्मेदार

शोधकर्ताओं के अनुसार मानव गतिविधियां बारिश की मात्रा बढ़ाने के लिए जिम्मेदार हैं। उन्होंने कहा कि इसकी शुरुआत पिछली शताब्दी में चौथे दशक में ही हो गई थी। हालांकि, 1980 के बाद ग्रीन हाउस गैसों के उत्सर्जन ने मानसून को अव्यवस्थित करने में बड़ी भूमिका निभाई।’