ब्रेकिंग
आर्थिक आधार से गरीब लोगों के आरक्षण में कटौती के विरोध में आज भाटापारा अनुविभागीय अधिकारी के कार्यालय जाकर राज्यपाल के नाम ज्ञापन सौंपा गया विधानसभा विशेष सत्र। विधानसभा सत्तापक्ष पर जमकर बरसे विधायक शिवरतन शर्मा, आरक्षण रुकवाने जो लोग कोर्ट गए उन्हें मुख्यमंत्री जी पुरस्कृत करते हैं,सत्र ... रायपुर विधानसभा विशेष सत्र। विधानसभा में आरक्षण बिल के दौरान ब्राह्मण नेताओं पर जमकर बरसे बलौदाबाजार विधायक प्रमोद शर्मा, उनके मुंह पर करारा तमाचा मार... अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद भाटापारा नगर इकाई की हुई घोषणा मंडी अध्यक्ष सुशील शर्मा ने मंडी समिति के नए सदस्य को दिलाई शपथ, उद्बोधन में कहा भारसाधक पदाधिकारीयो की नियुक्ति के बाद से मंडी लगातार चहुमुखी विकास क... मंडी अध्यक्ष सुशील शर्मा ने धान ख़रीदी केंद्रो का निरीछन कर, धान बेचने आये किसानो से मुलाक़ात कर, धान बेचने में आने वाली समस्या की जानकारी ली, किसानों... ग्राम मर्राकोना में नवीन धान उपार्जन केंद्र के शुभारंभ अवसर पर मंडी अध्यक्ष सुशील शर्मा ने कहा भूपेश सरकार किसानों की सरकार है ग्राम मर्राक़ोंना में नवीन धान उपार्जन केंद्र को मिली हरी झंडी मंडी अध्यक्ष सुशील शर्मा ने दी जानकारी ट्रक चोरी करने वाले 06 आरोपियो को किया गया गिरफ्तार, मंडी के पास लिंक रोड के किनारे खड़ी ट्रक को किया था चोरी, उड़ीसा से हुई बरामद रायपुर में शिवमहापुराण कथा:पंडित प्रदीप मिश्रा का प्रवचन सुनने लाखों लोग पहुंचे , अनुमान से अधिक लोगों के पहुंचने के कारण पंडित जी को कहना पड़ा घर में...

नीलबड़ के रहवासी क्षेत्र में शव जलाने का विरोध, महिलाओं ने किया प्रदर्शन

भोपाल। राजधानी भोपाल में कोरोना संक्रमण की बेकाबू रफ्तार में मौतों का आंकड़ा बढ़ने के साथ विश्राम घाटों पर भी हालात भयावह हो चले हैं। श्‍मशान घाटों पर अंतिम संस्‍कार के लिए जगह कम पड जाने के कारण अब नौबत यहां तक आ गई है कि रहवासी क्षेत्र में ही अघोषित शमशान बनाकर शव जलाने का सिलसिला जारी हो गया है। नीलबड के हरिनगर में ऐसे ही कॉलोनियों के बीच एक चबूतरा बनाकर शवों जलाया जा रहा है। इसका विरोध शनिवार को यहां आसपास बनी कॉलोनियों में रहने वाली महिलाओं व पुरुषों ने किया। इस संबंध में गांव के लोगों का कहना है कि यह पुराना मरघट है, जहां पहले शव जलाए जाते थे। अब यहां कॉलोनी बन गई है।

इधर, प्रदर्शन कर रही महिलाओं का कहना है कि कॉलोनी के बीच चौराहे में शव जलाना उचित नहीं है। कोविड संक्रमित का शव भी जलाया जा रहा है। इससे सभी को संक्रमण का खतरा है। बता दें कि पिछले साल भी इस तरह की घटना सामने आई थी। इसके बाद प्रशासन ने यह चतूबरा तोड दिया था। इसके बावजूद यहां लोगों ने दोबारा चबूतरा बना दिया और शवों का अंतिम संस्कार करने लगे है।

बता दें कि भोपाल के विश्राम घाटों में पिछले तीन-चार दिनों से रोज लगभग 100 शवों का अंतिम संस्‍कार किया जा रहा है। शनिवार को भोपाल शहर में 92 लोगों के शवों का कोरोना प्रोटोकॉल के तहत अंतिम संस्कार किया गया। सबसे ज्यादा 64 देह का अंतिम संस्कार भदभदा श्‍मशान घाट में किया गया है। वहीं सुभाष नगर विश्राम घाट में 22 संक्रमित देह का अंतिम संस्कार हुआ। झदा कब्रस्तान में छह शवों को सुपुर्द ए खाक किया गया। शुक्रवार को भोपाल में 118 शवों का अंतिम संस्‍कार किया गया था।