ब्रेकिंग
आर्थिक आधार से गरीब लोगों के आरक्षण में कटौती के विरोध में आज भाटापारा अनुविभागीय अधिकारी के कार्यालय जाकर राज्यपाल के नाम ज्ञापन सौंपा गया विधानसभा विशेष सत्र। विधानसभा सत्तापक्ष पर जमकर बरसे विधायक शिवरतन शर्मा, आरक्षण रुकवाने जो लोग कोर्ट गए उन्हें मुख्यमंत्री जी पुरस्कृत करते हैं,सत्र ... Selecting the right Virtual Info Room Supplier रायपुर विधानसभा विशेष सत्र। विधानसभा में आरक्षण बिल के दौरान ब्राह्मण नेताओं पर जमकर बरसे बलौदाबाजार विधायक प्रमोद शर्मा, उनके मुंह पर करारा तमाचा मार... Making a Cryptocurrency Beginning अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद भाटापारा नगर इकाई की हुई घोषणा मंडी अध्यक्ष सुशील शर्मा ने मंडी समिति के नए सदस्य को दिलाई शपथ, उद्बोधन में कहा भारसाधक पदाधिकारीयो की नियुक्ति के बाद से मंडी लगातार चहुमुखी विकास क... मंडी अध्यक्ष सुशील शर्मा ने धान ख़रीदी केंद्रो का निरीछन कर, धान बेचने आये किसानो से मुलाक़ात कर, धान बेचने में आने वाली समस्या की जानकारी ली, किसानों... ग्राम मर्राकोना में नवीन धान उपार्जन केंद्र के शुभारंभ अवसर पर मंडी अध्यक्ष सुशील शर्मा ने कहा भूपेश सरकार किसानों की सरकार है ग्राम मर्राक़ोंना में नवीन धान उपार्जन केंद्र को मिली हरी झंडी मंडी अध्यक्ष सुशील शर्मा ने दी जानकारी

अब देसी AC और LED लाइट का चलेगा सिक्का, कंपोनेंट उत्पादन के लिए PLI स्कीम की अधिसूचना जारी

नई दिल्ली। अगले दो वर्षों में देश में ही एसी और एलईडी लाइट के कंपोनेंट बनने लगेंगे। सरकार ने एसी और एलईडी लाइट के कंपोनेंट यानी पुर्जो पर उत्पादन आधारित प्रोत्साहन (पीएलआइ) योजना को अधिसूचित कर दिया है। भारत में निर्मित इन कंपोनेंट की बिक्री में हर साल बढ़ोतरी पर सरकार निर्माता कंपनी को चार से छह फीसद तक प्रोत्साहन देगी। साथ ही इन कंपनियों को हर साल अपने प्लांट व मशीनरी के निवेश में भी बढ़ोतरी करनी होगी। पांच साल में 6,238 करोड़ रुपये इंसेंटिव देने का प्रविधान किया गया है।

अभी भारत एसी व एलईडी लाइट के कंपोनेंट के लिए काफी हद आयात पर निर्भर करता है। इस आयात में चीन की हिस्सेदारी सबसे अधिक है। भारत में कंपोनेंट का आयात कर एलईडी लाइट और एसी का निर्माण किया जाता है। सरकार ने स्पष्ट किया है कि आयातित पुर्जो को जोड़कर उत्पाद तैयार करने वाली कंपनियों को इंसेंटिव नहीं मिलेगा।

उद्योग विभाग की तरफ से जारी अधिसूचना के मुताबिक, एसी से जुड़े कंप्रेशर, कॉपर ट्यूब, एल्यूमिनियम फॉयल, पीसीबी एसेंबली ऑफ कंट्रोलर्स, बीएलसीडी मोटर्स, सर्विस वाल्व और क्रॉस फ्लो फैन जैसे कंपोनेंट के निर्माण पर इंसेंटिव का प्रविधान किया गया है।

एलईडी लाइट के लिए चिप पैकेजिंग, एलईडी चिप, एलईडी ड्राइवर्स, एलईडी इंजन, पैकेजिंग, मोड्यूल्स, रेजिस्टर्स, आइसी, फ्यूजेज, वायर इंडक्टर जैसे कंपोनेंट निर्माता इंसेंटिव के पात्र होंगे। पीएलआइ के लिए बड़े, मध्यम व छोटे निवेश की श्रेणी भी रखी गई है। भारत में एसी का बाजार सालाना 10 फीसद से अधिक की दर से बढ़ रहा है। वहीं, एलईडी लाइट्स का भारत प्रमुख निर्यातक बन रहा है। लेकिन कंपोनेंट के लिए वह आयात पर निर्भर करता है।