ब्रेकिंग
उदयपुर हत्याकांड के विरोध में बंद रहा बाजार, चप्पे-चप्पे पर तैनात रहे जवान यूपीएसएसएससी पीईटी नोटिफिकेशन जारी काशी विश्वनाथ धाम में अब बज सकेगी शहनाई, होंगी शादियां प्रदेश में मंत्री से लेकर संतरी तक भ्रष्टाचार में संलिप्त, भ्रष्टाचारियों की गिरफ्तारी के मुद्दे पर आप लड़ेगी निगम चुनाव अज्ञात युवकों ने कॉलेज कैंटीन में बैठे 3 छात्रों पर किया तेजधार हथियार से हमला; 1 की हालत गंभीर सिवनी कोर्ट परिसर में न्यायाधीशों समेत 27 ने किया रक्तदान, वितरित किए प्रमाण पत्र पड़ोस में रहने आयी छात्रा से जान पहचान बना डिजिटल रेप करने वाले आरोपी को पुलिस ने किया गिरफ्तार लोगों ने की आरोपियों को फांसी की सजा देने की मांग, टायर जलाकर की नारेबाजी 12 जुलाई को देवघर जाएंगे पीएम मोदी रिलायंस जिओ डीटीएच प्लान्स ऑफर और आवेदन की जानकारी | Reliance Jio DTH Setup Box Plan Offer Online Booking Information in hindi

कोरोना के कहर से 35 बिजलीकर्मियों की मौत, टीकाकरण तक में छूट नहीं

इंदौर। पश्चिम क्षेत्र विद्युत वितरण कंपनी के 35 कर्मचारी और अधिकारी अब तक कोरोना के चलते जान गंवा चुके हैं। ये कर्मचारी सिर्फ उज्जैन इंदौर संभाग के है, जबकि संक्रमित होने वाले कर्मचारियों की संख्या हजार से भी ज्यादा है। बिजली कर्मचारियों को फ्रंट लाइन वर्कर की तरह न तो टीकाकरण की सुविधा मिल रही है न ही बीमे की।
मप्र विद्युत मंडल पत्रोपाधि अभियंता संघ व बिजली कर्मियों के अन्य संगठनों ने साथ मिलकर मुख्यमंत्री को पत्र लिखकर कोरोना संकट में बिजली कर्मचारियों को फ्रंटलाइन वर्कर का दर्जा देते हुए सुविधाओं की मांग की है। संघ के महासचिव इंजीनियर जीके वैष्णव के अनुसार बीते समय शुरू हुए टीकाकरण में भी 45 वर्ष की आयु सीमा की बाध्यता के कारण लाइन स्टाफ, आउटसोर्स कर्मचारियों को टीकाकरण का लाभ नहीं मिला।
मुख्यमंत्री को पत्र लिखकर मांग रखी गई है कि टीकाकरण में आयु सीमा का बंधन खत्म हो, जिससे कंपनी में काम कर रहे युवा साथी भी वैक्सीनेशन करा सके और कोरोना संक्रमण से कुछ हद तक बच सकें। साथ ही मृत कर्मचारियों को फ्रंट लाइन वर्कर की बीमा सुविधा की राशि देते हुए राहत प्रदान की जाए। दरअसल बिजली कंपनी इस समय भी वसूली अभियान चला रही है। कंपनी के कर्मचारियों के अनुसार कोरोना काल में वसूली अभियान से कर्मचारियों के संक्रमित होने का खतरा बढ़ गया है। ऐसे में कर्मचारियों को अलग-अलग स्थानों पर जाना पड़ता है और साथ ही कई लोगों से मिलना होता है। कंपनी को इस अभियान को रोक देना चाहिए और सिर्फ अभी बिजली आपूर्ति पर ही ध्यान देना चाहिए।