ब्रेकिंग
केंद्र सरकार ने पेट्रोल-डीजल पर दी बड़ी राहत, जानें कितने घट गए दाम केरल में भारी बारिश, IMD ने जारी किया येलो अलर्ट; खोले गए 2 बांध जयपुर से लौटे रमन, कहा- भाई-भतिजावाद और परिवारवाद की वजह से कांग्रेस की हुई ये स्थिति अब इस प्राइवेट सेक्टर के बैंक ने एफडी की ब्याज दरों में की बढ़ोतरी, जानें लेटेस्ट ब्याज दर NIA अफसर तंजील अहमद मर्डर केस में मुनीर और रैयान को फांसी की सजा ज्ञानवापी मामले में ‘शिवलिंग’ पर आपत्तिजनक पोस्ट करने वाले प्रोफेसर रतन लाल को ज़मानत, जानें कोर्ट में क्या-क्या हुआ पेटीएम को हुआ 762 करोड़ रुपये का घाटा, कंपनी ने कहा- सही रास्ते पर कारोबार जिला जज को हैंडओवर की ज्ञानवापी केस की रिपोर्ट UP विधानसभा लोगों की आकांक्षाओं को पूरा करेगी : सतीश महाना 'ठेके-पटटे, तबादला-तैनाती' से रहें दूर : सीएम योगी

एक परिवार एक टिकट नियम: मंत्री कमल पटेल ने कांग्रेस पर किया तीखा हमला, बोले- कांग्रेस अब पार्टी नहीं रही, नकली गांधी परिवार की एक गिरोह बन गए सोनिया-राहुल

हरदा। स्थानीय सर्किट हाउस में कृषि मंत्री कमल पटेल ने प्रेसवार्ता आयोजित किया. कांग्रेस चिंतन शिविर में पैनल ने एक परिवार से एक व्यक्ति को टिकट दिए जाने का फैसला किया है. कमल पटेल ने कहा कि कांग्रेस अब पार्टी नहीं रही है. कांग्रेसी सोनिया गांधी राहुल गांधी, नकली गांधी परिवार की एक गिरोह बन गई है. चापलूसो का गिरोह है. अगर पार्टी कोई निर्णय लेती है, नीति बनाती है. जिसे भारतीय जनता पार्टी ने बनाया है, तो लागू होता है. राष्ट्रीय अध्यक्ष पर भी लागू होता है. प्रधानमंत्री पर भी लागू होता है. लेकिन कांग्रेस ने यह नियम बनाया है, तो गांधी परिवार छोड़कर बनाया है. इसका मतलब कांग्रेस पार्टी नहीं है, सिर्फ एक गिरोह है, जो गांधी परिवार के लिए काम करता है.

उन्होंने कहा कि 50-60 साल उन्होंने गांधीजी के नाम से पर राज किया, लेकिन गांधीजी के सपनों को साकार नहीं किया. देश को लूट लिया. भ्रस्टाचार दिया, गरीबी दी, भुखमरी दी, पिछड़ापन दिया. लेकिन अब जनता इनको पहचान गई. इसलिए इनका सफाया किया है. आज इस प्रकार उन्होंने निर्णय लिया है. एक परिवार से एक को ही टिकट देंगे, लेकिन गांधी परिवार को छोड़कर ही क्यों इसका मतलब है कि यह पार्टी का निर्णय नहीं है. गांधी परिवार का एक गिरोह का निर्णय है.

पार्टी के अंदर जो नेता हैं वह नेता नहीं पार्टी के गुलाम है. चापलूस है या गिरोह है. इसलिए जनता में ये एक्सपोज हो गए हैं. इससे स्पष्ट हो गया है कि उन्होंने जनता में विश्वसनीयता खो दी है. पार्टी निर्णय लेती तो पूरी पार्टी पर लागू होना चाहिए था, नेता पर भी लागू होना चाहिए था. इसका मतलब यह है कि यह गांधी परिवार को देश से भी ऊपर मानते हैं. इनके लिए सब कुछ वही है. देश के लिए थोड़े ही काम कर रहे हैं. अपने लिए कर रहे हैं.