Jain
ब्रेकिंग
रमा देवी बंशीलाल गुर्जर और नम्रता प्रितेश चावला के नाम पर चल रहा मंथन महिलाओं की उंगलियां होती है ऐसी, स्वभाव से होती हैं गंभीर और बड़ी खर्चीली इन चीजों से किडनी हो सकती है खराब दिल्ली से किया था नाबालिग को अगवा, CCTV फुटेज से आरोपियों की हुई थी पहचान गृह विभाग में अटकी फ़ाइल, क्या रिटायर्ड होने के बाद होगा प्रमोशन एशिया कप के लिए टीम का ऐलान आज वास्तु की ये छोटी गलतियां कर सकती हैं आपका बड़ा नुकसान, खो सकते हैं आप अपना कीमती दोस्त आय से अधिक संपत्ति मामले में शिबू सोरेन को लोकपाल का नोटिस बाइक से कोरबा लौटने के दौरान हादसा, दूसरे जवान की हालत गंभीर; पुलिस लाइन में पदस्थ थे दोनों | road accident in chhattisharh; bike rider chhattisgarh p... खरीदें Redmi का शानदार 5G स्मार्टफोन

हमीदिया में भयावह हालात… बिलखते परिजन बोले, कोई नहीं बता रहा कोरोना मरीजों का हाल

भोपाल। प्रदेश के सबसे बड़े सरकारी अस्पताल हमीदिया में मरीजों और परिजन की दिक्‍कतें बढ़ती ही जा रही हैं। कोविड वार्ड में भर्ती मरीजों के परिजन से जब ‘नवदुनिया’ ने बात की तो उनका दर्द छलक पड़ा। रोते हुए परिजन ने कहा कि कोरोना वार्ड में भर्ती मरीजों का हाल बताने वाला कोई नहीं है। फोन करने पर यही कहा जाता है कि सब ठीक है। दूसरे दिन मौत की खबर आ जाती है। गाडरवाड़ा के रहने वाले संजय ढिमोले के परिजन ने बताया कि एक दिन पहले तक बताया गया कि संजय की हालत ठीक है। अगले दिन सुबह पांच बजे संजय की मौत की सूचना आ गई। परिजन ने बताया कि संजय के शव के लिए सुबह से भटक रहे हैं। हड़ताल के चलते शव नहीं मिल रहा है। यहां सोनू कुशवाह नामक युवती ने रोते हुए कहा कि मरीजों को कुछ खाने के लिए नहीं भिजवा पाते। मरीज का हाल बताने वाला भी कोई नहीं है। मंगलवार सुबह 11 बजे के करीब एक बुजुर्ग लावारिश को 108 एंबुलेंस परिसर में छोड़कर चली गई। बुजुर्ग के तन पर कपड़े तक नहीं थे, लेकिन हमीदिया अस्पताल प्रबंधन की तरफ से बुजुर्ग की किसी ने फिक्र नहीं की। दूसरे लोगों ने उसे पानी पिलाया और सड़क से किनारे लिटाया।

इस बारे में जब हमीदिया अस्पताल के नए अधीक्षक डॉ. लोकेन्द्र दवे बात की गई, तो उन्‍होनें कुछ भी कहने से इंकार कर दिया।

यह कैसा एस्मा, पांचवे दिन हमीदिया के आउटसोर्स कर्मचारियों ने फिर की हड़ताल

कोरोना संकट के दौर में त्राहि-त्राहि मची है। उधर, कोरोना वार्डों में गंभीर मरीजों की देखरेख वार्डबॉय के भरोसे है। ऐसे विकट हालात में भी राजधानी के हमीदिया अस्पताल में वार्डबॉय, सुरक्षाकर्मी और अन्य कर्मचारियों ने मंगलवार सुबह आठ बजे से हड़ताल कर दी। अत्यावश्यक सेवा प्रबंधन अधिनियम (एस्मा) लागू होने के बाद कर्मचारियों ने हफ्ते में दूसरी बार हड़ताल की। हमीदिया अस्पताल प्रबंधन और सरकार ने न तो इन कर्मचारियों के खिलाफ कोई कार्रवाई इस एक्ट के तहत की और न ही आउटसोर्स कंपनी के खिलाफ। इनकी हड़ताल की वजह से कोविड वार्ड में मरीजों गंभीर मरीजों को सक्शन कराने (श्वास नली को साफ करना), मरीजों के कपड़े बदलने से लेकर खाने खिलाने तक का काम प्रभावित हुआ। इतना ही नहीं, कोरोना मरीजों की मौत के बाद शव भी तुरंत वार्ड से बाहर नहीं लाए जा सके।

कोरोना ड्यूटी के चलते वेतन 7 हजार से बढ़ाकर 20 हजार रुपये करने, सात दिन तक ड्यूटी के बाद क्वारंटाइन सुविधा देने की मांग आउटसोर्स कर्मचारी कर रहे हैं। उन्होंने बीते शुक्रवार को भी इन्हीं मांगों को लेकर हड़ताल की थी। कंपनी व जिला प्रशासन के अधिकारियों की तरफ से तीन दिन के भीतर मांगों पर निर्णय करने का भरोसा दिलाया गया था। सोमवार तक कोई पहल नहीं हुई तो मंगलवार सुबह सभी आउटसोर्स कर्मचारी हड़ताल पर चले गए। अस्पताल प्रबंधन और आउटसोर्स कंपनी के अधिकारियों द्वारा जल्द ही निर्णय लिए जाने के आश्वासन के बाद एक बजे करीब हड़ताल खत्म कर दी थी, लेकिन काम पर शाम सात बजे के करीब लौटे, तब तक मरीजों को परेशानी हुई। कुछ काम इन्हीं पदों पर तैनात नियमित कर्मचारियों से कराए गए।