ब्रेकिंग
स्वास्थ्य मंत्री डॉ. चौधरी ने जेपी हॉस्पिटल में स्वास्थ्य मेले की व्यवस्थाओं का जायजा लिया एकदंत संकष्टी चतुर्थी कल अप्रैल के जीएसटी कर भुगतान की तारीख बढ़ी वैश्विक स्तर पर अकेले वायु प्रदूषण से 66.7 लाख लोगों की मौत ऑनलाइन गेमिंग, कैसिनो पर 28 फीसदी जीएसटी लगाने की तैयारी, ग्रुप ऑफ मिनिस्टर्स ने दी प्रस्ताव को मंजूरी एक दिन की बढ़त के बाद फिसला बाजार, सेंसेक्स-निफ्टी लाल निशान में क्लोज, पॉवर ग्रिड सबसे ज्यादा लुढ़का पीएम आवास योजना को लेकर सरकार ने किया बड़ा ऐलान! सभी पर पड़ेगा असर कश्मीर घाटी में अभी और होगी बारिश, जम्मू में चल सकती है लू, अलर्ट जारी सुप्रीम कोर्ट ने एजी पेरारिवलन को रिहा किया फूड कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया में आवेदन की प्रक्रिया जल्द ही शुरू की जा सकती है

रेमडेसिविर वितरण में मंत्री ने संभाला माेर्चा, कलेक्ट्रेट में खुद बंटवाए, काेटा खत्म

ग्वालियर। रेमडेसिविर को लेकर गजब की हायतौबा मची है। डिमांड और पूर्ति के साथ वितरण की सिरदर्दी से अफसर भी परेशान हो गए हैं। नौबत यह आ गई कि मंगलवार शाम प्रदेश के ऊर्जा मंत्री प्रघुम्न सिंह तोमर कलेक्ट्रेट रेमडेसिविर वितरण में पहुंच गए और यहां अपने सामने ही पूरा कोटा बंटवा दिया। मंगलवार को विशेष विमान से जो कोटा ग्वालियर के लिए आया था, वह पूरा बांट दिया गया। अफसर, मंत्री और लोगों की भीड़ के बीच जरूरतमंदों को मिला या नहीं, इसकी मानीटरिंग भी कमजोर पड़ गई।

मंगलवार को ही जिला प्रशासन ने फिलहाल रेमडेसिविर की जरूरतमंदों तक पहुंच बनाने के लिए जिला महिला सशक्तिकरण अधिकारी शालीन शर्मा का वॉट्सएप नंबर जारी किया है। इस नंबर पर जरूरतमंद अपने पर्चे व जानकारी डालकर रेमडेसिविर इंजेक्शन की जरूरत बता सकता है। मंगलवार को ही लोगों के वॉट्सएप की कतार लग गई। वहीं विशेष विमान से जो रेमडेसिविर के 5400 इंजेक्शन अंचल के लिए भेजे गए, जिसमें 24 डिब्बे प्रति डिब्बा 48 इंजेक्शन ग्वालियर को मिले। यह सभी बंटवा दिए गए।

यह बनाई है फिलहाल व्यवस्था

-जिन मरीजों के डाक्टरों ने रेमडेसिविर पर्चे पर लिखा है, वे अपना पर्चा वॉट्सएप नंबर 9826228404 पर भेजें।

-डिमांड दोपहर दो बजे से पहले भेजना होगी। हॉस्पिटल भी पेशेंट वार डिमांड लिस्ट पेशेंट का नाम, संक्षिप्त मेडिकल कंडीशन, इंजेक्शन का डोज क्रमांक, पेशेंट द्वारा सैंपल कलेक्शन में दिया गया अथवा अन्य मोबाइल नंबर स्पष्ट करे।

-दोपहर दो बजे तक प्राप्त डिमांड अनुसार वितरण हॉस्पिटल के माध्यम से तीन बजे किया जाएगा।

-प्राप्त इंजेक्शन की संख्या सीमित है, अत: केवल अत्यंत जरूरतमंद ही डिमांड करें, जिससे जरूरतमंद को मिल सके।

-वितरण के बाद इसका 100 फीसद वैरिफिकेशन किया जाएगा और जमाखोरी और दुरुपयोग पाए जाने पर सख्त कार्रवाई की जाएगी।