ब्रेकिंग
लंबे समय बाद स्टेज पर दिखे शाहरुख खान कुछ सरल वास्तु उपाय जो घर मे लाएंगे बरक्कत डोमेस्टिक का चार्ज लगेगा, बिजली बिलों में 2 रुपए प्रति यूनिट का मिलेगा फायदा एक महीने में हुए चार 'दुराचारी सभा' में पहुंचे सिर्फ 844 हिस्ट्रीशीटर,दरी पर बैठना उन्हें नहीं पसंद बोले- 5 साल से कर रहा था तैयारी, अब बना राजस्थान का टॉपर गुरु अमरदास एवेन्यू के निवासियों ने ब्लॉक किया जीटी रोड, MLA के खिलाफ प्रदर्शन भूप्रेंद्र सिंह हुड्‌डा ने कहा गांधीवादी तरीके से करेंगे विरोध, सरकार रद्द करके अग्निपथ फर्जी दस्तावेज तैयार कर कब्जाई थी जमीनें, पुलिस की गिरेबान पर हाथ डालने के बाद आया था चर्चा में सनी नागपाल भुवनेश्वर कुमार तोड़ेंगे पाकिस्तानी गेंदबाज का रिकॉर्ड डेब्यू मैच में फ्लॉप रहे उमरान मलिक

शासन के आदेश, जिनका ट्रांसफर हुआ, उनकाे रिलीव किया जाए

ग्वालियर। नगर निगम में प्रतिनियुक्ति पर आए अधिकारी स्थानातंरण होने भी कुर्सियाें पर जमे हुए थे। ऐसे अधिकारियों को वापस भेजने के लिए नगरीय प्रशासन एवं विकास विभाग के आयुक्त निकुंज श्रीवास्तव ने आदेश जारी किया है। इस आदेश के बाद निगमायुक्त शिवम वर्मा ने कहा है कि नगर निगम में जो भी अधिकारी ऐसे हैं, जो कि ट्रांसफर होने के बाद भी जमें हुए हैं, उन्हें वापस भेजा जाएगा।

नगर निगम में विभिन्न् विभागों से कई कर्मचारी आए थे। इनमें से कार्यपालन यंत्री रामू शुक्ला, कार्यपालन यंत्री शिशिर श्रीवास्तव, अधीक्षण यंत्री प्रदीप चतुर्वेदी, और उपयंत्री अभिनव तिवारी का स्थानातंरण हो चुका है। इसके बाद भी इन्हें वापस नहीं भेजा गया था। स्थानातंरण के बाद भी यह अधिकारी ग्वालियर नगर निगम में कार्य कर रहे थे। नगरीय प्रशासन विभाग के आयुक्त निकुंज श्रीवास्तव ने 22 अप्रैल को प्रदेश के नगर पालिका निगम के लिए आदेश जारी किया है। इस आदेश के अनुसार स्थानांतरित अधिकारी कर्मचारियों को वर्तमान पदस्थापना स्थल से कार्यमुक्त नहीं किया गया है। जिसके कारण नगरीय निकायों मं तकनीकी पदों की पूर्ति नहीं होने से शासकीय कार्य प्रभावित हो रहा है। इसलिए स्थानातंरित उपयंत्री, सहायक यंत्रियों को तत्काल 20 अप्रैल तक एकतरफा कार्यमुक्त किया जाए।

पहले भी कई बार हुए आदेशः नगर निगम में इस प्रकार के आदेश कई बार जारी किए जा चुके हैं, लेकिन इसके बाद भी अधिकारियाें काे आज तक रिलीव नहीं किया गया है। खास बात यह है कि इनमें से कुछ अधिकारियाें के ताे कई बार ट्रांसफर हुए, लेकिन दाे दिन बाद ही कैंसल भी कर दिए गए हैं।