ब्रेकिंग
आर्थिक आधार से गरीब लोगों के आरक्षण में कटौती के विरोध में आज भाटापारा अनुविभागीय अधिकारी के कार्यालय जाकर राज्यपाल के नाम ज्ञापन सौंपा गया विधानसभा विशेष सत्र। विधानसभा सत्तापक्ष पर जमकर बरसे विधायक शिवरतन शर्मा, आरक्षण रुकवाने जो लोग कोर्ट गए उन्हें मुख्यमंत्री जी पुरस्कृत करते हैं,सत्र ... रायपुर विधानसभा विशेष सत्र। विधानसभा में आरक्षण बिल के दौरान ब्राह्मण नेताओं पर जमकर बरसे बलौदाबाजार विधायक प्रमोद शर्मा, उनके मुंह पर करारा तमाचा मार... अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद भाटापारा नगर इकाई की हुई घोषणा मंडी अध्यक्ष सुशील शर्मा ने मंडी समिति के नए सदस्य को दिलाई शपथ, उद्बोधन में कहा भारसाधक पदाधिकारीयो की नियुक्ति के बाद से मंडी लगातार चहुमुखी विकास क... मंडी अध्यक्ष सुशील शर्मा ने धान ख़रीदी केंद्रो का निरीछन कर, धान बेचने आये किसानो से मुलाक़ात कर, धान बेचने में आने वाली समस्या की जानकारी ली, किसानों... ग्राम मर्राकोना में नवीन धान उपार्जन केंद्र के शुभारंभ अवसर पर मंडी अध्यक्ष सुशील शर्मा ने कहा भूपेश सरकार किसानों की सरकार है ग्राम मर्राक़ोंना में नवीन धान उपार्जन केंद्र को मिली हरी झंडी मंडी अध्यक्ष सुशील शर्मा ने दी जानकारी ट्रक चोरी करने वाले 06 आरोपियो को किया गया गिरफ्तार, मंडी के पास लिंक रोड के किनारे खड़ी ट्रक को किया था चोरी, उड़ीसा से हुई बरामद रायपुर में शिवमहापुराण कथा:पंडित प्रदीप मिश्रा का प्रवचन सुनने लाखों लोग पहुंचे , अनुमान से अधिक लोगों के पहुंचने के कारण पंडित जी को कहना पड़ा घर में...

अस्पताल अग्निकांड के बाद से आरोपित डाक्टर गायब, पुलिस पर चौतरफा दबाव

रायपुर। राजधानी सुपर स्पेशलिटी अस्पताल में एक हफ्ते पहले हुए अग्निकांड में छह कोरोना मरीजों में से एक की जलने और पांच की दम घुटने से हुई मौत के मामले में पुलिस और प्रशासन की तफ्तीश कछुए की चाल की तरह चल रही है। टिकरापारा थाना पुलिस ने भले ही अस्पताल के संचालक डाक्टरों पर लापरवाही बरतने का केस दर्ज किया है, लेकिन अभी तक एफआईआर में एक भी आरोपित डाक्टरों के नाम शामिल नहीं किए है।

घटना के बाद से ही डाक्टर और जिम्मेदार गायब हैं। पुलिस ने अस्पताल प्रबंधन को नोटिस जारी कर संचालकों के नाम, अग्निकांड की वजह, आग से बचाव के लिए किए गए प्रबंध आदि की जानकारी मांगी थी। लेकिन चार दिन गुजर जाने के बाद भी कोई जानकारी नहीं मिली। इससे साफ है कि अस्पताल प्रबंधन पुलिसिया कार्रवाई को लेकर बेफ्रिक है।

जानकारों का दावा है कि अस्पताल का संचालन कांग्रेस के एक विधायक करते हैं, हालांकि स्वास्थ्य विभाग के दस्तावेजों में पांच डाक्टरों के नाम है। इस बारे में पूछने पर पुलिस अफसरों का कहना है कि फिलहाल अस्पताल का संचालन किसी विधायक द्वारा करने की जानकारी सामने नहीं आई है। दस्तावेज मिलने के बाद ही संचालकों के नाम सामने आएंगे।

जानकार सूत्रों ने बताया कि पचपेढ़ी नाका स्थित राजधानी सुपर स्पेशलिटी अस्पताल का संचालन कर रहे पांच डाक्टरों का नाम स्वास्थ्य विभाग की ओर से पुलिस को बताए गए हैं, बावजूद इसके अभी तक दर्ज एफआईआर में एक का भी नाम शामिल नहीं किया है। केस दर्ज होने के बाद से अस्पताल से जुड़े डा.सचिन माल, डा.संजय जाधवानी,डा.विनोद लालवानी और डा.आनिंदो राय पुलिस के सामने नहीं आए है।

चर्चा है कि मामले को रफा-दफा करने पुलिस के साथ स्वास्थ्य विभाग पर चौतरफा दबाव बनाया जा रहा है। हालांकि पुलिस अधिकारी इससे साफ कर रहे हैं। उनका कहना है कि जांच चल रही है। जांच में जो भी अग्निकांड में दोषी पाया जाएगा, उसके खिलाफ वैधानिक कार्रवाई की जाएगी। प्रथम दृष्टया मामला लापरवाही बरतने का है।

दो और मरीजों के दर्ज हुए बयान

टिकरापारा पुलिस थाना प्रभारी संजीव मिश्रा ने बताया कि शुक्रवार को दो और प्रभावित मरीजों का बयान दर्ज किया गया है। कल तक अस्पताल प्रबंधन की तरफ से नोटिस का जवाब मिलने की उम्मीद है। एक-दो दिनों के भीतर स्वास्थ्य विभाग, फायर सेफ्टी, बिजली विभाग की टीम के साथ अस्पताल जाकर निरीक्षण किया जाएगा।