ब्रेकिंग
स्वास्थ्य मंत्री डॉ. चौधरी ने जेपी हॉस्पिटल में स्वास्थ्य मेले की व्यवस्थाओं का जायजा लिया एकदंत संकष्टी चतुर्थी कल अप्रैल के जीएसटी कर भुगतान की तारीख बढ़ी वैश्विक स्तर पर अकेले वायु प्रदूषण से 66.7 लाख लोगों की मौत ऑनलाइन गेमिंग, कैसिनो पर 28 फीसदी जीएसटी लगाने की तैयारी, ग्रुप ऑफ मिनिस्टर्स ने दी प्रस्ताव को मंजूरी एक दिन की बढ़त के बाद फिसला बाजार, सेंसेक्स-निफ्टी लाल निशान में क्लोज, पॉवर ग्रिड सबसे ज्यादा लुढ़का पीएम आवास योजना को लेकर सरकार ने किया बड़ा ऐलान! सभी पर पड़ेगा असर कश्मीर घाटी में अभी और होगी बारिश, जम्मू में चल सकती है लू, अलर्ट जारी सुप्रीम कोर्ट ने एजी पेरारिवलन को रिहा किया फूड कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया में आवेदन की प्रक्रिया जल्द ही शुरू की जा सकती है

माह-ए-रमजान का दूसरा जुमा, घर पर ही पढ़ी नमाज

रायपुर।  कोरोना महामारी के दौर में इस बार भी माह-ए-रमजान के रोजे रखे जा रहे हैं। घरों में इबादतों का दौर जारी है। लॉकडाउन में रमजान का पवित्र महीना चल रहा है। रमजान के दूसरे जुमा पर रोजेदारों ने घर में ही नमाज अता की। रोजेदारों ने खुदा की इबादत करके संपूर्ण विश्व से महामारी खत्म होने की दुआ मांगी।

शहर ए काजी मौलाना मोहम्मद अली फारूकी ने समाज के लोगों से अपील की है कि वे हालात को देखते हुए घर से बाहर न निकलें। खुदा की इबादत के लिए निभाई जाने वाली रस्मों को अपने घर पर ही रहकर निभाएं। खुद की और अपने परिवार वालों की हिफाजत के साथ देश के कल्याण की दुआ मांगें।

शासन द्वारा निर्धारित नियमों का पालन करें। यदि स्वस्थ हों तो रोजा अवश्य रखें, रमजान के महीने में रोजा रखने से संकल्प शक्ति बढ़ती है और अच्छे कर्म करने की प्रेरणा मिलती है। रहमतों का दरवाजा खुल जाता है। रोजा स्वास्थ्य के लिए भी लाभदायक है। बाजार बंद होने से रमजान में खजूर, सेब, केला, चना, हरी सब्जियां आदि नहीं मिल रही है। इसलिए घर पर ही इफ्तार के दौरान ऐसा भोजन करें जो शरीर के लिए लाभदायी हो।

लॉकडाउन खुल जाए तो भी दूरी बनाकर रखें

शहर काजी ने कहा कि लॉकडाउन हट जाने के बाद भी कोरोना गाइडलाइन का पालन आगे करते रहें। इसका मतलब यह नहीं है कि घूमने की आजादी मिल जाएगी। यदि लॉकडाउन खुल भी जाता है तो भी अपने को भीड़भाड़ से बचाएं। पूरे रमजान महीने के दौरान लोगों से दूरी बनाए रखें। बेवजह घर से न निकलें। अपना काम निपटाकर घर लौट जाएं।