ब्रेकिंग
आर्थिक आधार से गरीब लोगों के आरक्षण में कटौती के विरोध में आज भाटापारा अनुविभागीय अधिकारी के कार्यालय जाकर राज्यपाल के नाम ज्ञापन सौंपा गया विधानसभा विशेष सत्र। विधानसभा सत्तापक्ष पर जमकर बरसे विधायक शिवरतन शर्मा, आरक्षण रुकवाने जो लोग कोर्ट गए उन्हें मुख्यमंत्री जी पुरस्कृत करते हैं,सत्र ... Selecting the right Virtual Info Room Supplier रायपुर विधानसभा विशेष सत्र। विधानसभा में आरक्षण बिल के दौरान ब्राह्मण नेताओं पर जमकर बरसे बलौदाबाजार विधायक प्रमोद शर्मा, उनके मुंह पर करारा तमाचा मार... Making a Cryptocurrency Beginning अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद भाटापारा नगर इकाई की हुई घोषणा मंडी अध्यक्ष सुशील शर्मा ने मंडी समिति के नए सदस्य को दिलाई शपथ, उद्बोधन में कहा भारसाधक पदाधिकारीयो की नियुक्ति के बाद से मंडी लगातार चहुमुखी विकास क... मंडी अध्यक्ष सुशील शर्मा ने धान ख़रीदी केंद्रो का निरीछन कर, धान बेचने आये किसानो से मुलाक़ात कर, धान बेचने में आने वाली समस्या की जानकारी ली, किसानों... ग्राम मर्राकोना में नवीन धान उपार्जन केंद्र के शुभारंभ अवसर पर मंडी अध्यक्ष सुशील शर्मा ने कहा भूपेश सरकार किसानों की सरकार है ग्राम मर्राक़ोंना में नवीन धान उपार्जन केंद्र को मिली हरी झंडी मंडी अध्यक्ष सुशील शर्मा ने दी जानकारी

छत्तीसगढ़ के कलाकारों की मदद करने सामने आए सरकार

रायपुर। छत्तीसगढ़ सरकार को लोक कलाकारों की जरा भी चिंता नहीं है। इस कोविड काल में कलाकार के सामने रोजगार संकट खड़ा हो गया है, ऐसे समय में प्रदेश सरकार को मदद के लिए पहल करनी चाहिए। मगर, प्रदेश सरकार की प्राथमिकता में अंचल के कलाकारों को मदद या सुविधा देने की कोई योजना नहीं है। यही कारण है कि प्रदेश से बाहर के कलाकारों को अधिक अवसर मिल रहा है, जिसके चलते स्थानीय कलाकारों की उपेक्षा हो रही है।

यह कहना है भाजपा सांस्कृतिक प्रकोष्ठ के प्रदेश संयोजक एवं छत्तीसगढ़ फ़िल्म विकास निगम के पूर्व अध्यक्ष राजेश अवस्थी का। उन्होंने सरकार से कलाकारों को राहत पहुंचाने सहयोग करने की मांग की है। भाजपा सांस्कृतिक प्रकोष्ठ के संयोजक एवं फिल्म विकास निगम के पूर्व अध्यक्ष ने कहा कि प्रदेश सरकार स्थानीयता के नाम पर सिर्फ दिखावा कर रही है, जिसके कारण कलाकारों को बीते 26 माह में काफी नुकसान हुआ है।

वहीं, छत्तीसगढ़ी जीवन एवं संस्कृति के नाम पर जो दिखावा किया जा रहा था, उसके कारण जो भ्रम की स्थिति बनी हुई थी वह भी अब टूटने लगी है। इस भयावह कोरोना काल में प्रदेश सरकार को कलाकारों के लिए तत्काल आर्थिक सहयोग के लिये पहल करनी चाहिए और जब भी कार्यक्रम आरम्भ हो, तब प्रदेश के आयोजनों में स्थानीय सभी कलाकारों को ज्यादा से ज्यादा मौका मिले, मात्र चिह्नित कलाकारों को नहीं, इसके लिये भी नीति बनाने की जरूरत है।

जब भाजपा की सरकार थी, तब लोक कलाकारों के सम्मान को ध्यान में रखते हुए पेंशन योजना भी शुरू की गई थी लेकिन वर्तमान सरकार में लोक कलाकारों को सही तरीके से पेंशन तक नही मिल रही है। पेंशन का लाभ वरिष्ठ कलाकारों एवम जरूरतमंद कलाकारों को तुरंत मिले, इस पर प्रदेश सरकार को तत्काल फैसला लेना चाहिए।

प्रदेश सरकार कलाकारों की चिंता करते हुए कोरोना काल में आर्थिक मदद के लिए आवश्यक कदम उठाये, कोरोना के चलते कलाकारों के समाने रोजी-रोटी का संकट खड़ा हो गया है। जिन कलाकारों के भुगतान अभी तक लंबित हैं उनका भुगतान भी जल्द से जल्द किया जाए।