ब्रेकिंग
एकदंत संकष्टी चतुर्थी कल अप्रैल के जीएसटी कर भुगतान की तारीख बढ़ी वैश्विक स्तर पर अकेले वायु प्रदूषण से 66.7 लाख लोगों की मौत ऑनलाइन गेमिंग, कैसिनो पर 28 फीसदी जीएसटी लगाने की तैयारी, ग्रुप ऑफ मिनिस्टर्स ने दी प्रस्ताव को मंजूरी एक दिन की बढ़त के बाद फिसला बाजार, सेंसेक्स-निफ्टी लाल निशान में क्लोज, पॉवर ग्रिड सबसे ज्यादा लुढ़का पीएम आवास योजना को लेकर सरकार ने किया बड़ा ऐलान! सभी पर पड़ेगा असर कश्मीर घाटी में अभी और होगी बारिश, जम्मू में चल सकती है लू, अलर्ट जारी सुप्रीम कोर्ट ने एजी पेरारिवलन को रिहा किया फूड कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया में आवेदन की प्रक्रिया जल्द ही शुरू की जा सकती है बॉडी शेम का शिकार हो चुकीं बॉलीवुड अभिनेत्रियों की हैं लंबी लिस्ट, हाइपेड एक्ट्रेस में होती हैं इनकी गिनती!

आपदा में अवसर की तलाश को चरितार्थ कर रही भाजपा: प्रमोद

बिलासपुर।  कोविड 19 की विकट परिस्थिति में भी घर पर धरना देकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मंत्र आपदा में अवसर की तलाश को भाजपा चरितार्थ कर रही है । कांग्रेस के शहर अध्य्क्ष प्रमोद नायक ने भाजपा नेताओं द्वारा घर में धरना देने पर कहा कि कोविड 19 महामारी को लगभग 15 माह होने जा रहा है पर पूर्व सीएम डा. रमन सिंह, नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक व अन्य भाजपा नेता जनता की सुरक्षा से संबंधित कोई काम करने के बजाए गलतफहमी और भय का वातावरण बना रहे हैं।

जबकि 15 माह में केंद्र की मोदी सरकार ने कोविड-19 की रोकथाम के लिए न तो कोई कारगर नीति निर्धारित किया और नहीं कोई राय-मश्विरा करना उचित समझा। उल्टे प्रधानमंत्री कोविड फंड में कई सौ करोड़ रुपये दबा कर बैठ गई । जब देश की 65प्रतिशत आबादी 18 वर्ष से 45 वर्ष का है तो उनके वैक्सीनशन के लिए पीएम ने हाथ खड़े कर दिया और विदेश में वाहवाही लूटने छह करोड़ वैक्सीन को निर्यात कर दी।

इसी प्रकार देश में आक्सीजन की किल्लत है और पीएम मोदी ने 9000 मेट्रिक टन आक्सीजन बेच दिया। वहीं उत्पादित वैक्सीन का 50प्रतिशत केंद्र ले रहा है, जबकि भूपेश सरकार ने इन वर्गों के युवाओं को फ्री में वैक्सीनशन कराने की घोषणा की है। देश में कोविड रोकथाम के लिए कार्रवाई करना था

तब प्रधानमंत्री देश की जनता को भ्रमित करने ताली, थाली, शंख बजवा रहे थे। बिजली आन-आफ करा रहे थे। पीएम के पास स्वास्थ्य उपकरण खरीदने के लिए पैसे नहीं है पर सांसद-विधायक खरीदने के लिए चुनाव में भीड़ के लिए लिए पैसा है। छत्तीसगढ़ के भाजपा नेता, सांसद, विधायक छत्तीसगढ़ की जनता की हित न सोचकर प्रधानमंत्री फंड में सांसद निधि, विधायक निधि दे रहे थे ,जबकि उन्हें सांसद-विधायक छत्तीसगढ़ की जनता ने बनाया है।