ब्रेकिंग
दस्तक अभियान के तहत रोका जाएगा संक्रमण, घर-घर जाकर आशा बहुएं करेंगी जागरूक प्लास्टिक से बने सामान का व्यापार कैसे शुरू करें | How to Start Plastic Material Making Business in Hindi नगरीय प्रशासन मंत्री ने आरंग में नागरिकों से की भेंट मुलाकात पानीपत में इंपीरियम पाम ड्राइव आवासीय प्लॉट लॉन्च, ग्रीन जोन, मार्केट कॉम्प्लेक्स समेत अन्य सुविधाएं वर्ष 2005 में चोरी गई 11 लाख कैश से भरी तिजोरी ढूंढने के लिए पुलिस ने ली जामा तलाशी CM के कार्यक्रम में भाषण कांग्रेस MLA को रोका था वहीं काम करने वाले ट्रैक्टर ड्राइवर पर आरोप, पुलिस के पहुंचने से पहले हुआ फरार महिलाओं के लिए मिसाल बन रही हैं बस्तर की पहली महिला ‘मोटर मैकेनिक’- हेमवती नाग सुपरिटेंडेंट इंजीनियर समेत 3 अधिकारी निलंबित; मंत्री हरभजन सिंह ने दिए जांच के आदेश रजिस्ट्री कराने आए लोग परेशान, जरनेटर भी सालों से खराब, कोई वैकल्पिक व्यवस्था भी नहीं

नाइट्रोजन आर्गन टैंकरों को ऑक्सीजन टैंकरों में बदलने की तैयारी, सरकार ने लिए बड़े फैसले

नई दिल्ली। ऑक्सीजन की ढुलाई में तेजी लाने के लिए उद्योग विभाग ने देश में उपलब्ध नाइट्रोजन और आर्गन के 1,199 टैंकरों में से 443 टैंकरों को तत्काल तरल मेडिकल ऑक्सीजन (एलएमओ) की ढुलाई लायक बनाने का काम शुरू कर दिया है। यह काम युद्धस्तर पर शुरू हो गया है जिसकी निगरानी संयुक्त सचिव स्तर के कई अधिकारी कर रहे हैं। नाइट्रोजन और आर्गन टैंकर रखने वाली कंपनियों को अपने-अपने टैंकरों को एलएमओ की ढुलाई लायक बदलने के लिए कह दिया गया है।

रोजाना की जाएगी समीक्षा

यही नहीं सरकार ने फैसला किया है कि रोजाना के आधार पर इन कार्यों की समीक्षा की जाएगी। वहीं, आक्सीजन की ढुलाई करने वाले सभी वाहनों में लोकेशन ट्रैकिंग मशीनें भी लगाई जाएंगी ताकि किसी प्रकार की गड़बड़ी न हो सके। हाल ही में आक्सीजन से लदे वाहनों के गायब होने की खबर आई थी।

अगले हफ्ते से राहत मिलने की उम्‍मीद

अगले हफ्ते से कई नाइट्रोजन टैंकर ऑक्सीजन ढुलाई के लिए तैयार हो जाएंगे। टैंकरों की कमी की वजह से तरल ऑक्सीजन देश में उपलब्ध होने के बावजूद उसकी ढुलाई नहीं हो पा रही है जिससे कई अस्पतालों में आक्सीजन की किल्लत हो गई है। यही नहीं सरकार दूसरे मुल्‍कों से भी टैंकर मंगा रही है।

दिए जा सकते हैं ये आदेश

उद्योग विभाग के मुताबिक, देश में 434 आर्गन टैंकर हैं तो 765 नाइट्रोजन टैंकर हैं। इन 1,199 टैंकरों में से 74 फीसद या 886 टैंकर छह राज्यों गुजरात, हरियाणा, महाराष्ट्र, झारखंड, उत्तर प्रदेश और तमिलनाडु में उपलब्ध हैं। इन टैंकर रखने वाली कंपनियों को बाद में और टैंकरों को ऑक्सीजन ढुलाई के लायक बनाने के लिए कहा जा सकता है। इन कंपनियों में आइनाक्स, लिंडे, प्राक्स एयर, एयर वाटर एंड एयर लिक्विड, विशाखा इंडस्ट्रियल और श्रीराम आक्सीजन जैसी कंपनियां शामिल हैं।