ब्रेकिंग
मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने स्टेट कैंसर इंस्टीट्यूट का किया वर्चुअल भूमि पूजन कुतुब मीनार परिसर में होगी खुदाई-मूर्तियों की Iconography राष्ट्रीय स्तर के खेलों का आधारभूत ज्ञान दें विद्यार्थियों को मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने राजीव गांधी किसान न्याय योजना के तहत जिले के 13 हजार 976 किसानों के खाते में 9.68 करोड़ रूपए किया अंतरण नगरीय निकाय आरक्षण को लेकर बड़ी खबर: भोपाल में भी नए सिरे से होगा आरक्षण, बढ़ सकती है ओबीसी वार्डों की संख्या छत्तीसगढ़ की जैव विविधता छत्तीसगढ़ का गौरव है : मुख्यमंत्री भूपेश बघेल मोतिहारी के सिकरहना नदी में नहाने के दौरान तीन बच्चे डूबे मुजफ्फरपुर में प्रिंटिंग प्रेस कर्मी की गोली मारकर हत्‍या  दो माह में 13 बार बढ़ी सीएनजी की कीमत हार्दिक के जाने के बाद नरेश पटेल को रिझाने में जुटी कांग्रेस

राह चलते 143 लोगों को उठाकर पुलिस ने भेजा जेल

जबलपुर। लोगों को मास्क का वितरण कर, नुक्कड़ नाटक सहित पोस्टर व पंपलेट से उन्हें जागरुक करने वाली पुलिस कोरोना प्रोटोकाल का उल्लंघन करने वालों के साथ कड़ाई भी कर रही है। रविवार को कोरोना गाइड लाइन का उल्लंघन करने वाले ऐसे 143 लापरवाहों को अस्थाई जेलों में घंटों बंद रखा गया। 33 लापरवाहों के खिलाफ धारा 188 की कार्रवाई की गई। इसी प्रकार रविवार सुबह से शाम तक मास्क व शारीरिक दूरी के निर्देशों का उल्लंघन करने पर एक हजार 983 लोगों से दो लाख एक हजार 300 रुपये जुर्माना वसूला गया। वहीं 24 अप्रैल को दो हजार 536 लापरवाहों पर कार्रवाई कर दो लाख 56 हजार 400 रुपये जुर्माना वसूला गया था। वहीं सात मई 2020 से 24 अप्रैल तक दो लाख तीन हजार 194 लापरवाहों के खिलाफ चालानी कार्रवाई कर पुलिस दो करोड़ सात लाख 95 हजार 50 रुपये जुर्माना वसूल चुकी है। उक्त कार्रवाई पुलिस अधीक्षक सिद्धार्थ बहुगुणा के निर्देश पर की जा रही है।

लोग बेवजह न घूमें, संक्रमण की रोकथाम में जिम्मेदारी निभाएं: पुलिस अधीक्षक बहुगुणा ने कहा कि कोरोना संक्रमण की रोकथाम के लिए पुलिस द्वारा तरह-तरह के प्रयास किए जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि कोरोना संक्रमण पर प्रभावी रोकथाम नागरिकों की जागरुकता से संभव है। लोग बेवजह घरों से बाहर न निकलें। आवश्यक होने पर मास्क पहनकर ही बाहर जाएं। शारीरिक दूरी के निर्देश का पालन करें। उन्होंने बताया कि जिले भर में जगह-जगह पुलिस बल की तैनाती की गई है ताकि कोरोना प्रोटोकाल व लाकडाउन का पालन कराया जा सके।

हल्के में न लें शारीरिक लक्षण: पुलिस अधीक्षक ने कहा कि नागरिक कोरोना संक्रमण के लक्षण को हल्के में लेने की भूल न करें। किसी भी तरह की शारीरिक समस्या होने पर नजदीकी फीवर क्लीनिक अथवा अस्पताल में जाकर कोरोना की जांच कराएं। बच्चों व वृद्धजन को घर से बाहर न जाने देंं। उनकी सेहत का विशेष ध्यान रखना चाहिए। शासन द्वारा सरकारी अस्पतालों में कोरोना जांच व उपचार के पुख्ता प्रबंध किए गए हैं।