ब्रेकिंग
प्लास्टिक से बने सामान का व्यापार कैसे शुरू करें | How to Start Plastic Material Making Business in Hindi नगरीय प्रशासन मंत्री ने आरंग में नागरिकों से की भेंट मुलाकात पानीपत में इंपीरियम पाम ड्राइव आवासीय प्लॉट लॉन्च, ग्रीन जोन, मार्केट कॉम्प्लेक्स समेत अन्य सुविधाएं वर्ष 2005 में चोरी गई 11 लाख कैश से भरी तिजोरी ढूंढने के लिए पुलिस ने ली जामा तलाशी CM के कार्यक्रम में भाषण कांग्रेस MLA को रोका था वहीं काम करने वाले ट्रैक्टर ड्राइवर पर आरोप, पुलिस के पहुंचने से पहले हुआ फरार महिलाओं के लिए मिसाल बन रही हैं बस्तर की पहली महिला ‘मोटर मैकेनिक’- हेमवती नाग सुपरिटेंडेंट इंजीनियर समेत 3 अधिकारी निलंबित; मंत्री हरभजन सिंह ने दिए जांच के आदेश रजिस्ट्री कराने आए लोग परेशान, जरनेटर भी सालों से खराब, कोई वैकल्पिक व्यवस्था भी नहीं टेंट हाउस व्यापार कैसे शुरू करें | How to Start Tent House or Stage Business in Hindi

मुंबई पुलिस के पूर्व आयुक्त परमबीर सिंह के खिलाफ दर्ज कराई गई भ्रष्टाचार की शिकायत

मुंबई।  महाराष्ट्र पुलिस के एक इंस्पेक्टर ने मुंबई पुलिस के पूर्व आयुक्त परमबीर सिंह के खिलाफ भ्रष्टाचार का आरोप लगाते हुए पुलिस महानिदेशक से शिकायत की है। साथ ही, सिंह के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करने की मांग की है। इस शिकायत की प्रति राज्य के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे और गृहमंत्री दिलीप वालसे पाटिल को भी भेजी गई है। यह जानकारी सोमवार को एक अधिकारी ने दी। अधिकारी ने बताया कि अकोला पुलिस कंट्रोल रूम में तैनात इंस्पेक्टर बीआर घडगे ने 20 अप्रैल को डीजीपी को पत्र लिखकर शिकायत की है। पिछले महीने मुंबई पुलिस कमिश्नर के पद से तबादला होने के बाद परमबीर के खिलाफ भ्रष्टाचार की यह दूसरी शिकायत है। वर्तमान में परमबीर महाराष्ट्र होम गार्ड के महानिदेशक हैं। उन्हें अंटीलिया कांड और मनसुख हिरेन हत्याकांड मामले में सरकार की किरकिरी होने के बाद हटाया गया था।

इससे पहले मुंबई के पुलिस अधिकारी अनूप डांगे ने सिंह के खिलाफ भ्रष्टाचार का आरोप लगाते हुए शिकायत की थी। डीजीपी को भेजे गए 14 पेज के शिकायती पत्र में इंस्पेक्टर घडगे ने दावा किया है कि वर्ष 2015-18 के दौरान ठाणे पुलिस आयुक्त के पद पर रहते हुए परमबीर कई स्तर पर भ्रष्टाचार में लिप्त थे। पत्र में वरिष्ठ आइपीएस परमबीर के खिलाफ जमीनों के सौदे, सरकारी आवास व सुरक्षा कíमयों के दुरुपयोग समेत कई आरोप लगाए गए हैं। घडगे का कहना है कि जब परमबीर थाणे के पुलिस आयुक्त थे तब वह बाजार पेठ पुलिस थाने में तैनात थे। घडगे ने अपने पास परमबीर सारा कच्चा चिट्ठा होने का दावा किया है। इस मामले में टिप्पणी के लिए परमबीर उपलब्ध नहीं हो सके।

गौरतलब है कि महाराष्ट्र के गृह विभाग ने मुंबई के पूर्व पुलिस आयुक्त परमबीर सिंह पर एक पुलिस निरीक्षक द्वारा लगाए गए भ्रष्टाचार के आरोपों की जांच के आदेश दिए हैं। सूत्रों ने गुरुवार को बताया कि आदेश के मुताबिक सिंह के खिलाफ आरोपों की जांच महाराष्ट्र के डीजीपी संजय पांडे को सौंपी गई है। परमबीर सिंह पर पुलिस निरीक्षक अनूप डांगे ने आरोप लगाए थे। डांगे को पिछले वर्ष निलंबित कर दिया गया था, लेकिन हाल में बहाल कर दिया गया। डांगे के दावे के मुताबिक उनके निलंबन को रद करने के बदले सिंह ने उनसे दो करोड़ रुपये की मांग की थी। सिंह की इस मांग के बारे में सूचित करते हुए निरीक्षक ने अतिरिक्त मुख्य सचिव (गृह) को पत्र लिखा था। हालांकि सिंह ने डांगे के आरोपों से साफ इन्कार किया है। सूत्रों ने बताया कि शिकायत के आधार पर गृह विभाग ने सिंह के खिलाफ आरोपों की जांच के आदेश दिए हैं।